Create
Notifications

SAvIND: केपटाउन से दौरे की हुई थी शुरुआत और अब 7 हफ़्तों बाद आज आख़िरी मुक़ाबला भी इसी मैदान पर

Syed Hussain
ANALYST
Modified 24 Feb 2018

7 हफ़्ते, 3 टेस्ट, 6 वनडे और 3 टी20 कुछ इन्हीं आंकड़ों के साथ शनिवार को केपटाउन के न्यूलैंड्स में एक नया इतिहास बनने के साथ दौरे का अंत हो जाएगा। केपटाउन के इसी मैदान से दौरे की शुरुआत हुई थी जब भारत और दक्षिण अफ़्रीका के बीच पहला टेस्ट मैच खेला गया था। हालांकि उसके बाद वनडे सीरीज़ में भी एक मुक़ाबले का गवाह ये मैदान रहा था जहां विराट कोहली ने नाबाद 160 रनों की पारी खेलते हुए इतिहास रच डाला था। आज टी20 सीरीज़ का तीसरा और आख़िरी मुक़ाबला खेला जाना है, जो वर्चुअल फ़ाइनल की तरह देखा जा रहा है। दक्षिण अफ़्रीका और भारत के बीच होने वाला ये निर्णायक मुक़ाबला भारतीय समयनुसार आज रात 9.30 बजे से शुरू होगा।

अंत भला तो सब भला करने के इरादे से उतरेंगी दोनों टीमें

  टेस्ट में 1-2 से हार और फिर वनडे में 5-1 से पलटवार करने वाली टीम इंडिया चाहेगी कि टी20 सीरीज़ भी जीतकर मेज़बानों की ज़मीन से 2 ट्रॉफ़ी के साथ देश लौटा जाए। 3 मैचों की सीरीज़ 1-1 से बराबर है और अब आज का मुक़ाबला जीतने वाली टीम के सिर लगेगा टी20 के बॉस का तमग़ा। हालांकि विराट कोहली के लिए ये दौरा ऐतिहासिक रहा है और अब तक इस दौरे पर खेले गए 11 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में 7 में टीम इंडिया को जीत मिली है, लेकिन फिर भी कोहली की नज़र जीत के साथ सीरीज़ पर कब्ज़ा जमाने की होगी ताकि एक शानदार यादों के साथ स्वदेश लौटा जाए। वहीं दूसरी तरफ़ मेज़बानों का मक़सद होगा कि इस मैच को भी जीतकर सीरीज़ का अंत सुखद किया जाए, ताकि 1 मार्च से शुरू होने वाली ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ टेस्ट सीरीज़ में भी टीम का मनोबल उंचा रहे।  

रोहित का फ़ॉर्म छोड़कर भारत ने हर कमियों को बना डाला है ताक़त

  इस दौरे की शुरुआत भले ही टीम इंडिया के लिए लगातार दो टेस्ट मैचों में हार के साथ सीरीज़ गंवाते हुई थी। लेकिन उसके बाद से इस टीम ने कमाल की वापसी की है और अपनी सारी ग़लतियों को छिपाया है और उन्हें ताक़त में बदल दिया है। ये सिलसिला पिछले मैच तक चला, जब महेंद्र सिंह धोनी, सुरेश रैना और मनीष पांडे की तिकड़ी ने अपने उपर उठ रहे सवालों का जवाब बल्ले के साथ दिया था। रैना अगर इसी रंग में रहें तो फिर जल्द ही वनडे में मध्यक्रम की समस्या को वह दूर कर सकते हैं, कुछ ऐसा ही हाल मनीष पांडे का भी है। लेकिन अब तक इस दौरे पर रोहित शर्मा ने काफ़ी निराश किया है, एक शतक ज़रूर उनके बल्ले से आया है लेकिन उसके अलावा 11 पारियों में उन्होंने 30 का आंकड़ा भी नहीं छुआ है, लिहाज़ा रोहित शर्मा इस दौरे का अंत एक बड़ी पारी के साथ करने के इरादे से आज न्यूलैंड्स में उतरेंगे।  

पिच का पेंच और मौसम का मिज़ाज

  बात अगर केपटाउन की पिच की करें तो टेस्ट मैचों में जहां इस पर घास मौजूद थी और इसका फ़ायदा भुवनेश्वर कुमार ने शानदार अंदाज़ में उठाया था, तो वनडे के दौरान पिच पूरी तरह से बल्लेबाज़ों के माक़ूल दिखाई दी थी। हालांकि उस मैच में विराट कोहली के शतक के बावजूद पिच पर गेंद धीमी आ रही थी, अगर टी20 में भी कुछ ऐसा ही हुआ तो फिर स्पिनर्स इसका फ़ायदा उठा सकते हैं। मौसम भी क्रिकेट के लिए अच्छा दिखाई दे रहा है, हल्की बारिश की संभावना तो की गई है लेकिन चूंकि मैच शाम के बाद शुरू होगा लिहाज़ा मैच पर इसका व्यवधान पड़ने की उम्मीद न के बराबर है। इस मैदान पर पिछले 5 मुक़ाबलों में 4 बार रनों का पीछा करने वाली टीम को जीत हासिल हुई है। यानी एक बार फिर टॉस जीतने वाले कप्तान पहले गेंदबाज़ी का फ़ैसला कर सकते हैं। मेज़बानों के लिए हाल के दिनों में इस मैदान की यादें क्रिकेट के इस सबसे छोटे स्वरूप में कड़वी रही हैं, पिछले 6 टी20 मैचों में प्रोटियाज़ को न्यूलैंड्स में 5 बार हार मिली है, आख़िरी टी20 मुक़ाबला इस मैदान पर श्रीलंका और दक्षिण अफ़्रीका के बीच हुआ था जहां मेहमानों ने 5 विकेट से जीत हासिल की थी।  

जसप्रीत बुमराह का लौटना तय, चहल फिर साबित होंगे ट्रंप कार्ड

  सेंचुरियन में खेले गए दूसरे टी20 में टीम इंडिया की परेशानी गेंदबाज़ी में नज़र आई थी, जब युज़वेंद्र चहल गीली गेंद से काफ़ी महंगे साबित हुए थे और 4 ओवर में 64 रन देते हुए भारत के सबसे महंगे गेंदबाज़ बन गए थे। लेकिन इसके बावजूद कप्तान को उनपर पूरा भरोसा है और केपटाउन की इस धीमी होती पिच पर चहल फिर ट्रंप कार्ड साबित हो सकते हैं। तो वहीं पिछले मैच में तबीयत नासाज़ होने की वजह से बाहर बैठने वाले जसप्रीत बुमराह की भी वापसी तय है। शार्दुल ठाकुर की जगह बुमराह को लाया जा सकता है, साथ ही साथ संभावना इस बात की भी है कि जयदेव उनादकट की जगह कुलदीप यादव को प्लेइंग-XI में शामिल किया जाए। दूसरी तरफ़ हेनरिक क्लासेन और जेपी डुमिनी की आतिशी पारियों ने मेहमानों को सीरीज़ जीतने का एक मौक़ा ज़रूर दे दिया है। लिहाज़ा इस बात की उम्मीद बेहद कम है कि इस टीम में कोई बदलाव होगा, पिच को देखते हुए शायद डेन पैटरसन की जगह बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज़ आरोन फ़ांगिसो को अंतिम एकादश में जगह मिल जाए।   भारत संभावित-XI: शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली, सुरेश रैना, महेंद्र सिंह धोनी, मनीष पांडे, हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव/जयदेव उनादकट, युज़वेंद्र चहल और जसप्रीत बुमराह दक्षिण अफ़्रीका संभावित-XI: रीज़ा हेन्ड्रिक्स, जे जे स्मट्स, जेपी डुमिनी, डेविड मिलर, फ़रहान बेहरदीन, हेनरिक क्लासेन, क्रिस मॉरिस, एंडिले फ़ेलुकवायो, जूनियर डाला, डेन पैटरसन/आरोन फ़ांगिसो और तबरेज़ शम्सी      
Published 24 Feb 2018
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now