COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

पिछले 25 वर्षों की भारत-इंग्लैंड की संयुक्त टेस्ट एकादश

18   //    10 Jul 2018, 08:55 IST
विदेशी दौरा प्रत्येक टीम के लिए एक कड़ी चुनौती होता है। आगामी वनडे और टेस्ट श्रृंखला निस्संदेह भारत के लिए एक चुनौतीपूर्ण होगी। भारतीय खिलाड़ी खुद को इंग्लैंड की परिस्थितियों के अनुरूप ढालने की कोशिश कर हैं, ऐसे में आइए हम इस लेख में पिछले 25 वर्षों की भारत-इंग्लैंड संयुक्त टेस्ट एकादश पर एक नज़र डालें। जबकि भारत बल्लेबाजी में श्रेष्ठ है, इंग्लैंड गेंदबाजी विभाग में भारत से आगे है।

इस एकादश में पात्रता के लिए मानदंड हैं - पिछले 25 वर्षों में किसी खिलाड़ी का अधिकांश क्रिकेट खेलना। उनकी कम से कम 50 टेस्ट मैचों में भागेदारी।

तो आइये जानते हैं इस एकादश के बारे में:

सलामी बल्लेबाज़:


# 1 वीरेंदर सहवाग



 

अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करने वाले भारत के विस्फोटक बल्लेबाज़, वीरेंद्र सहवाग की बल्लेबाजी शैली से उभरते हुए बल्लेबाजों को काफी कुछ सीखने को मिल सकता है। उनके द्वारा निडरता से की गई बल्लेबाज़ी किसी भी विरोधी टीम के हौसले पस्त करने के लिए काफी है।

टेस्ट क्रिकेट में भी, वीरू ने तेज़ गति से रन बनाए हैं। उन्होंने टेस्ट में दो तिहरे शतक लगाए हैं और एक बार तीसरा तिहरा शतक लगाने के बेहद करीब पहुंच कर आउट हुए हैं। श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने शानदार 293 रन बनाए थे, अगर वह अपने स्कोर में 7 रन और जोड़ लेते तो क्रिकेट इतिहास में तीन तिहरे शतक लगाने वाले पहले और एकमात्र बल्लेबाज़ बन जाते।

सहवाग एक ऐसे खिलाड़ी हैं जो किसी भी गेंदबाज़ को मैदान के चारों और मनचाहे शॉट्स लगा सकते हैं। बल्लेबाजी की उनकी निडर शैली ने उन्हें बाकी बल्लेबाजों से अलग बनाया है। सहवाग के अलावा, केवल ऑस्ट्रेलिया के महान बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने टेस्ट मैचों में इतनी तेज़ गति से रन बनाए हैं।

मैच: 104, रन: 8586, औसत: 49.34

# 2 एलेस्टेयर कुक



 

इंग्लैंड के एलेस्टेयर कुक के नाम पर कई टेस्ट रिकॉर्ड दर्ज हैं - वह इंग्लैंड की तरफ से सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले और सबसे ज़्यादा रन स्कोरर हैं। कुक के लिए कोई भी रिकार्ड तोडना मुश्किल नहीं है।

उन्हें पहले से ही इंग्लैंड के महान बल्लेबाज़ों की फेहरिस्त में शामिल किया जा चुका है। जैसे जैसे वह शतक लगते जा रहे हैं क्रिकेट जगत में उनका कद और बड़ा होता जा रहा है।

अपने करियर में, कुक ने कई शानदार पारियां खेली हैं लेकिन उनके करियर की प्रमुख हाइलाइट्स में से एक है भारत की धीमी पिचों पर उनका ज़बरदस्त प्रदर्शन। भारतीय पिचों पर जहां बाकी इंग्लिश खिलाड़ी स्पिन के खिलाफ जूझते दिखते हैं, कुक एकमात्र ऐसे बल्लेबाज़ हैं जिन्होंने स्पिनर्स के खिलाफ भी रन बनाए हैं।

ऐसे में कुक के पास अभी काफी समय है कि वह सचिन तेंदुलकर के 15921 टेस्ट रनों का रिकार्ड तोड़ सकें।

मैच: 156, रन: 12145, औसत: 45.65
1 / 3 NEXT
Advertisement
Fetching more content...