Create
Notifications

INDvENG : कोहली और जाधव के शतकों की मदद से भारत की पहले वन-डे में शाही जीत

ANALYST
Modified 21 Sep 2018
कप्तान विराट कोहली (122) और केदार जाधव (120) के दबाव में बनाए दमदार शतकों की मदद से भारत ने रविवार को पहले वन-डे में इंग्लैंड को 3 विकेट से हरा दिया। इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 350 रन बनाए। जवाब में भारत ने 48.1 ओवर में 7 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। अश्विन ने छक्का जड़कर भारत की जीत पर मुहर लगाईं। केदार जाधव को ऑलराउंड प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ़ द मैच चुना गया। हार्दिक पांड्या 40 और रविचंद्रन अश्विन 15 रन, भारत को जीत दिलाकर ही पवेलियन लौटे । इस जीत के साथ ही भारतीय टीम तीन मैचों की वन-डे सीरीज में 1-0 से आगे हो गई है। सीरीज का दूसरा मैच गुरुवार को कटक में खेला जाएगा। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर इंग्लैंड को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। मेहमान टीम ने जेसन रॉय (72), जो रूट (78) और बेन स्टोक्स (62) के दमदार अर्धशतकों की मदद से 350 रन का विशाल स्कोर बनाया। यह इंग्लैंड का भारत के खिलाफ वन-डे में सबसे बड़ा स्कोर रहा। ख़राब शुरुआत 351 रन के हिमालयीन स्कोर का पीछा करने उतरी भारत की शुरुआत बेहद ख़राब रही। चोट से उबरकर टीम में वापसी करने वाले ओपनर शिखर धवन (1) फ्लॉप रहे। उन्हें डेविड विली ने थर्डमैन पर मोइन अली के हाथों कैच आउट कराया। लोकेश राहुल (8) को विली ने राउंड द विकेट से आकर क्लीन बोल्ड किया। युवराज सिंह (15) ने छक्का लगाकर वन-डे क्रिकेट में अपनी वापसी का धावा बोला, लेकिन वह इस मौके को भुना नहीं सके और स्टोक्स की धीमी गति की गेंद पर विकेटकीपर बटलर को कैच थमाकर पवेलियन लौट गए। हाल ही में कप्तानी से इस्तीफा देने वाले महेंद्र सिंह धोनी (6) भी जैक बॉल की शॉर्ट लेंथ की गेंद को भांप नहीं सके और मिडऑन पर विली को आसान कैच देकर भारत को मुश्किल में डाल दिया। विराट और केदार ने भारतीय पारी संवारी 63 रनों पर शीर्ष क्रम के चार बल्लेबाजों के विकेट गंवाने के बाद भारतीय टीम संकट में थी। फिर कप्तान विराट कोहली और केदार जाधव ने मोर्चा संभाला। दोनों ने इंग्लिश गेंदबाजों की जमकर धुनाई की और 200 रन की साझेदारी की, जो भारत की तरफ से पांचवें विकेट के लिए सर्वाधिक रनों की साझेदारी है। कोहली-जाधव ने धोनी-रैना (196 रन) की साझेदारी का रिकॉर्ड तोड़ा, जो उन्होंने ज़िम्बाब्वे के खिलाफ बनाया था। कोहली ने 93 गेंदों में 7 चौके और 4 छक्कों की मदद से अपने वन-डे करियर का 27वां शतक जमाया। लक्ष्य का पीछा करते हुए कोहली का यह 17वां शतक रहा। लक्ष्य का पीछा करते हुए 17 शतक लगाकर कोहली ने पूर्व महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (17 शतक लक्ष्य का पीछा करते हुए) की बराबरी की। लक्ष्य का सफल पीछा करने के मामले में कोहली ने सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ दिया। सचिन ने जहां लक्ष्य का सफल पीछा करते हुए 14 शतक जमाए थे, वहीं कोहली ने 15वां शतक जड़ा। केदार जाधव ने सिर्फ 65 गेंदों में अपने वन-डे करियर का दूसरा शतक जमाया। भारतीय बल्लेबाजों में सबसे तेज शतक लगाने के मामले में जाधव पांचवें स्थान पर पहुंच गए हैं। जाधव से पहले कोहली ने दो बार (52 और 61) जबकि सहवाग (60) और युवराज (64) ने सबसे तेज शतक लगाने का कारनामा किया है। कोहली को स्टोक्स ने विली के हाथों झिलवाकर इस साझेदारी को तोड़ा। जाधव भी मांसपेशी में खिंचाव से जूझते दिखाई दिए और बॉल की गेंद पर स्टोक्स को कैच थमाने के बाद उनकी पारी का भी अंत हुआ। फिर हार्दिक पांड्या ने 37 गेंदों में 3 चौके और एक छक्के की मदद से 40 रन बनाकर टीम को जीत दिलाई। उनके साथ रविचंद्रन अश्विन 10 गेंदों में एक छक्के की मदद से 15 रन बनाकर नाबाद रहे। इंग्लैंड की तरफ से जैक बॉल ने सर्वाधिक तीन विकेट लिए। डेविड विली और बेन स्टोक्स ने दो-दो विकेट लिए। इंग्लैंड का भारत के खिलाफ सबसे बड़ा स्कोर  इससे पहले महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में मेहमान टीम ने सधी हुई शुरुआत करते हुए पहले विकेट के लिए 39 रन जोड़ लिए थे, लेकिन तभी जसप्रीत बुमराह ने डीप स्क्वायर लेग से सटीक थ्रो मारकर ओपनर एलेक्स हेल्स (9) को रनआउट करके पवेलियन भेज दिया। जेसन रॉय पर पहला विकेट गिरने का कोई असर नहीं दिखा और उन्होंने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए भारतीय गेंदबाजों की खूब धुनाई की। उन्होंने सिर्फ 36 गेंदों में अपने करियर छठा अर्धशतक जमाया। रॉय भारत के खिलाफ सबसे तेज अर्धशतक लगाने वाले चौथे इंग्लिश बल्लेबाज बने। उनसे पहले सिर्फ ओवैस शाह और एंड्रू फ्लिंटॉफ भारत के खिलाफ 35-35 गेंदों में अर्धशतक जमा चुके हैं। मगर भारत के खिलाफ वन-डे में इंग्लैंड की तरफ से सबसे तेज अर्धशतक लगाने का रिकॉर्ड बेन स्टोक्स के नाम हो गया, जिन्होंने इसी वन-डे में सिर्फ 33 गेंदों में पचासा जड़ा। रॉय ने रूट के साथ दूसरे विकेट के लिए 69 रन की साझेदारी की और इंग्लिश टीम को 100 रन के पार लगाया। जडेजा ने शॉर्ट लेंथ की गेंद पर रॉय को स्टंपिंग कराकर इस साझेदारी को तोड़ा। रॉय ने 61 गेंदों में 12 चौको की मदद से 73 रन बनाए। इसके बाद रूट ने कप्तान इयोन मॉर्गन (28) के साथ तीसरे विकेट के लिए 49 रन की साझेदारी की। मॉर्गन को पांड्या ने विकेटकीपर धोनी के हाथों कैच आउट कराया। अंपायर ने इस अपील को माना नहीं था, फिर कोहली ने DRS की मदद लेकर नतीजा अपने पक्ष में कराया। रूट ने फिर जोस बटलर (31) के साथ टीम को 200 के पार लगाया। रूट ने इस बीच अपना 18वां अर्धशतक पूरा किया। बटलर भी अच्छी लय में नजर आ रहे थे, लेकिन वह पांड्या की शॉर्ट लेंथ पर गलत शॉट खेल बैठे और मिडऑफ़ पर शिखर धवन ने उनका तेज कैच लपका। बेन स्टोक्स ने खेली आतिशी पारी रूट को बुमराह ने लांगऑन पर पांड्या के हाथों की शोभा बनाया। दाएं हाथ के बल्लेबाज ने 95 गेंदों में 4 चौको और एक छक्के की मदद से 78 रन की पारी खेली। इसके बाद बेन स्टोक्स ने मोर्चा संभाला और भारतीय गेंदबाजों की जमकर धुनाई की। उन्होंने मात्र 40 गेंदों में दो चौको और पांच छक्कों की मदद से 62 रन बनाए। स्टोक्स को बुमराह ने उमेश यादव के हाथों कैच आउट कराया। मगर बाएं हाथ के बल्लेबाज ने तब तक इंग्लैंड को 300 रन के पार लगा दिया था। मोइन अली ने भी तेजतर्रार पारी खेलते हुए 17 गेंदों में 3 चौके और 1 छक्के की मदद से 28 रन बनाए। उन्हें उमेश यादव ने क्लीन बोल्ड किया।भारत की तरफ से हार्दिक पांड्या और जसप्रीत बुमराह ने दो-दो जबकि उमेश यादव व जडेजा को एक-एक विकेट मिला। भारतीय गेंदबाजों का प्रदर्शन काफी लचर रहा और टीम ने 22 अतिरिक्त रन लुटाए।
Published 15 Jan 2017
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now