Create
Notifications

ऐसे 11 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने सिर्फ़ एक अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच खेला है

शारिक़ुल होदा Shariqul Hoda

अंतरराष्ट्रीय मैच में अपने देश के लिए खेलना किसी भी खिलाड़ी के बड़े गर्व की बात होती है। कई खिलाड़ियों को बार-बार ऐसा मौक़ा मिलता है तो कई खिलाड़ियों कुछ वक़्त के लिए ये सम्मान हासिल हो पाता है। हम यहां उन 11 भारतीय खिलाड़ियों के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने टीम इंडिया के लिए सिर्फ़ एक अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच खेला है। इस लिस्ट में संजू सैमसन और वॉशिंगटन सुंदर को शामिल नहीं किया गया है, क्योंकि वो अभी युवा खिलाड़ी हैं और वो भविष्य में टीम इंडिया का हिस्सा बन सकते हैं।

सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर की महानता बताने के लिए शब्द कम पड़ जाएंगे लेकिन उनकी तारीफ़ कम नहीं होगी। वनडे और टेस्ट में उन्होंने बल्लेबाज़ी के कई रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं, लेकिन अगर क्रिकेट के सबसे छोटे फ़ॉर्मेट की बात करें तो उन्होंने सिर्फ़ 1 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला है। बाद में उन्होंने युवाओं को मौक़ा देने के लिए इस फ़ॉमेट से अलग रहने का फ़ैसला किया है। टीम इंडिया ने जब साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ अपना पहला टी-20 मैच खेला था तब सचिन उस दौरान प्लेइंग इलेवन का हिस्सा थे। इस मैच में सचिन और सहवाग ने मिलकर कुछ चौके लगाए थे। सचिन ने इस मैच में 12 गेंद पर 10 रन बनाए थे। सचिन ने इस मैच में 2.3 ओवर फेंके थे और जस्टिन केंप का विकेट लिया था। भारत ने ये मैच 6 विकेट से जीता था।

एस बद्रीनाथ

तमिलनाडु के बल्लेबाज़ घरेलू सर्किट में शानदार तरीके से रन बनाने के लिए मशहूर थे लेकिन अंतरराष्ट्रीय मुक़ाबले में कम मौक़े मिलने की वजह से उनका करियर ज़्यादा नहीं उभर पाया। 4 जून 2011 को उन्होंने वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ पहला और इकलौता टी-20 मैच खेला था जिसमें उन्होंने 37 गेंदों में 43 रन की पारी खेली थी। भारत ने ये मैच 16 रन से जीता था और बद्रीनाथ को मैन ऑफ़ द मैच अवॉर्ड से नवाज़ा गया था।

राहुल द्रविड़

हर्षा भोगले ने एक बार कहा था कि “अगर राहुल द्रविड़ को आप टीम इंडिया के लिए अंगारों पर भी चलने कहेंगे तो वो ऐसा कर लेंगे”। साल 2011 के इंग्लैंड दौरे पर उन्हें टीम इंडिया के लिए एकमात्र टी-20 मैच खेलने का मौक़ा मिला था। इस मैच में राहुल ने 21 गेंदों में 31 रन बनाए थे। राहुल ने समित पटेल की गेंद पर लगातार 3 छक्के जड़े थे। हालांकि भारत ये मैच हार गया था।

दिनेश मोंगिया

सचिन तेंदुलकर की तरह दिनेश मोंगिया भी साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ भारत के पहले टी-20 मैच में शामिल हुए थे। मोंगिया तीसरे नंबर पर बल्लेबाज़ी करने उतरे थे। उन्होंने 45 गेंदों में 38 रन बनाए थे जिसमें 4 चौके और 1 छक्का शामिल था। उनके योगदान से भारत को ये मैच जीतने में मदद मिली थी।

परवेज़ रसूल

परवेज़ रसूल जम्मू-कश्मीर के पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें टीम इंडिया में खेलने का मौक़ा मिला था। 26 जनवरी 2017 में उन्हें कानपुर में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टी-20 मैच खेलने का मौक़ा मिला था। उन्होंने 4 ओवर की गेंदबाज़ी की थी और इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन को आउट किया था। ये मैच टीम इंडिया हार गई थी।

ऋषि धवन

हिमाचल प्रदेश के तेज़ गेंदबाज़ ऋषि धवन को मुंबई इंडियंस के लिए शानदर प्रदर्शन करने के बाद टीम इंडिया में जगह दी गई थी। 18 जून 2016 में उन्होंने हरारे में ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ पहला टी-20 मैच खेला था। इस मैच में वो काफ़ी महंगे साबित हुए थे। उन्होंने 4 ओवर में 42 रन लुटाए थे और सिर्फ़ 1 विकेट हासिल किया था।

पवन नेगी

दिल्ली में जन्मे पवन नेगी उस वक़्त चर्चा में आ गए थे जब साल 2016 में उन्हे दिल्ली डेयरडेविल्स ने 8.5 करोड़ रुपये में ख़रीदा था। मार्च 2016 के एशिया कप में उन्होंने यूएई के ख़िलाफ़ अपना एकमात्र टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। उन्होंने इस मैच के 3 ओवर में 16 रन दिए थे और एक विकेट भी हासिल किया था। यूएई की टीम 81 रन पर ऑल आउट हो गई थी। भारत ने ये मैच 9 विकेट से जीता था। इसके बाद पवन नेगी को दूसरा मौक़ा नहीं मिल पाया।

कर्ण शर्मा

कर्ण शर्मा एक लेग स्पिन गेंदबाज़ हैं जो रणजी में रेलवे की तरफ़ से खेलते हैं। सनराइज़र्स हैदराबद टीम के लिए खेलते हुए उन्होंने शानदार खेल दिखाया था। इसकी वजह से उन्हें साल 2014 में इंग्लैंड के लिए खेलने का मौक़ा मिला। बर्मिंघम में खेले गए इस मैच में उन्होंने 4 ओवर में 28 रन लुटाए थे। इसके अलावा उन्हें जो रूट का विकेट हासिल हुआ था। भारत ये मैच हार गया था।

श्रीनाथ अरविंद

श्रीनाथ अरविंद बाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ हैं जो कर्नाटक टीम के लिए खेलते हैं। उनकी मौजूदगी में कर्नाटक ने रणजी, दिलीप और विजय हजारे ट्रॉफ़ी पर कब्ज़ा जमाया था। आईपीएल में भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा था जिसकी वजह उन्हें टीम इंडिया में शामिल किया गया था। 2 अक्टूबर 2015 में उन्होंने धर्मशाला में अपना पहला और एकमात्र टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। अरविंद ने इस मैच के 3.4 ओवर में 44 रन लुटाए थे और कप्तान फ़ॉफ़ डुप्लेसी का विकेट हासिल किया था। भारत ये मैच 7 विकेट से हार गया था।

सुदीप त्यागी

सुदीप त्यागी उन खिलाड़ियों में से एक हैं जो चेन्नई सुपरकिंग्स के रास्ते टीम इंडिया में पहुंचे थे। 12 दिसंबर 2009 में उन्होंने श्रीलंका के ख़िलाफ़ अपना पहला और एकलौता टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। श्रीलंका ने इस मैच में 206 रन बनाए थे। सुदीप ने 2 ओवर में 21 रन दिए थे, जिसकी वजह से धोनी का भरोसा उनसे टूट गया था। भारत ने ये मैच जीत लिया था, क्योंकि युवराज सिंह ने इस मैच में शानदार पारी खेली थी।

मुरली कार्तिक

मुरली कार्तिक के बार में कहा जाता है कि वो अपने हुनर से इंसाफ़ नहीं कर पाए। उन्होंने टीम इंडिया के लिए 8 टेस्ट, 37 वनडे और एकमात्र टी-20 मैच खेला है। 20 अक्टूर 2007 को उन्हें मुंबई के ब्राबॉर्न स्टेडियम में पहली बार टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। ये पहला टी-20 अंतराष्ट्रीय मैच था जो टीम इंडिया ने अपने देश में खेला था। उस वक़्त भारत ने आईसीसी वर्ल्ड टी-20 का ख़िताब जीता था। ऐसे में टीम इंडिया के फ़ैंस का रोमांच चरम पर था। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने पहले खेलते हुए 166 रन बनाए थे। कार्तिक ने अपने 4 ओवर में 27 रन दिए थे। भारत ये मैच आसानी से जीत गया था। लेखक- कुशाग्रा अग्रवाल अनुवादक – शारिक़ुल होदा

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...