Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

ICC CT 2017 : भारतीय टीम फाइनल में पहुंचने के इरादे से मैदान पर उतरेगी, युवी का 300वां मैच

Naveen Sharma
FEATURED WRITER
Modified 21 Sep 2018, 20:30 IST
Advertisement
दो सप्ताह में चैम्पियंस ट्रॉफी 2017 में काफी कुछ घटित हुआ और चीजें बदलाव के दौर से गुजरते हुए सेमीफाइनल तक पहुंची, जिसके पहले मैच में पाकिस्तान ने मेजबान इंग्लैंड को 8 विकेट से पटखनी देकर फाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी। क्रिकेट के लिए पागलपन दर्शाने वाले बांग्लादेश की टीम के फैन्स अपने खिलाड़ियों की सफलता पर काफी खुश हैं और गुरुवार को उनका मुकाबला गत विजेता नीली जर्सी वाली भारतीय टीम से होना है। दोनों ही देशों के प्रशंसक अपनी टीम को विजेता देखना चाहते हैं लेकिन जो टीम मैदान पर दबाव झेलने में कामयाब रहेगी, वही विजय पताका लहराएगी। पिछली बार 1999 के विश्वकप में बांग्लादेश ने पाकिस्तान को इसी इंग्लैंड की धरती पर हराकर एक बड़ा उलटफेर किया था और रात भर लोगों को वहां की गलियों में जश्न मनाते हुए देखा गया था। वहां के भारतीय भोजन वाले रेस्टोरेंट्स बांग्लादेशी लोगों से भर गए और वे देर रात तक खाने का लुत्फ़ उठाते रहे। 2007 में वेस्टइंडीज में हुए विश्वकप में बांग्लादेश द्वारा मिली 5 विकेट की शिकस्त ने टीम इंडिया को टूर्नामेंट से बाहर का रास्ता दिखा दिया था और उस समय के कप्तान राहुल द्रविड़ वाली टीम के कई खिलाड़ी भावुक हो गए थे। इसके बाद भारत ने वापस 2011, 2015 के आईसीसी विश्वकप और 2016 के टी20 विश्वकप में जीत दर्ज करते हुए पिछली बड़ी पराजय का बखूबी बदला लिया। कोई भी मैच जीतने पर बांग्लादेश के खिलाड़ियों की ख़ुशी और जश्न देखने लायक होता है, यह शायद इसलिए भी होता होगा कि वे खुद को अभी भी छोटी टीम मानकर चलते हों। आईसीसी 2017 चैम्पियंस ट्रॉफी के दूसरे सेमीफाइनल में गुरुवार को भारत और बांग्लादेश के बीच होने वाले मुकाबले का दोनों देशों के दर्शक बेसब्री से इन्तजार कर रहे हैं। उन्हें यह भी जल्दी ही जानना है कि पाकिस्तान के साथ फाइनल में चिर प्रतिदवंद्वी भारत होगा अथवा विश्व के मानचित्र पर 1971 में जन्म लेने वाला बांग्लादेश। बांग्लादेश के कप्तान मशरफे मोर्तजा बर्मिंघम के एजेबेस्टन में होने वाले मुकाबले को लेकर दबाव भारत पर होना बता रहे हैं। इस टीम की हर जीत का श्रेय उनके कप्तान सामूहिक प्रयास को देते हैं, न कि व्यक्तिगत प्रदर्शन को और यही क्रिकेट की खूबसूरती भी है। उनके ओपनर तमीम इकबाल में रनों की भूख बरक़रार है और काफी अच्छा खेल भी वे दर्शा रहे हैं, वहीँ ऑलराउंडर शाकिब अल हसन गेंद और बल्ले दोनों से अपना लौहा मनवाने में सक्षम हैं। इन दोनों का जिक्र इसलिए भी जरुरी है क्योंकि इस टीम को नई बुलंदियों पर पहुंचाने में इनका बहुत बड़ा योगदान है। दूसरी तरफ टीम इंडिया के ओपनर शिखर धवन का बल्ला खूब बोल रहा है। इसके अलावा उनके साथी रोहित शर्मा भी दो बार पचासा लगाने में कामयाब रहे हैं। दोनों ने मिलकर दो बार इस टूर्नामेंट में शतकीय साझेदारी करते हुए भारत को शानदार शुरुआत दिलाई है। इनके अलावा कप्तान विराट कोहली ने भी दो अर्धशतक लगाए हैं, वहीँ चैम्पियंस ट्रॉफी 2000 से करियर की शुरुआत करने वाले युवराज सिंह भी आक्रामक मूड में है। देखा जाए तो नीली जर्सी वाली भारतीय टीम काफी मजबूत है, जिसे हराना किसी भी टीम के लिए इतना आसान नहीं है। टीम इंडिया ने श्रीलंका से हारने के बाद जबरदस्त वापसी करते हुए दक्षिण अफ्रीका को पराजित कर सेमीफाइनल में जगह बनाई है। भारत और बांग्लादेश की टीमें टूर्नामेंट के अभ्यास मैच में भी एक बार भिड़ चुके हैं, जहां टीम इंडिया ने उन्हें महज 84 रनों पर आउट करते हुए 240 रनों से विशाल अंतर से मैच अपने नाम किया। इसका मनोवैज्ञानिक दबाव भी मशरफे एंड कम्पनी पर जरुर होगा। एजबेस्टन की पिच की बात की जाए, तो इसमें गेंदबाजों के लिए खासी मदद नहीं होने का कहा गया है, जो भी मैच बिना रुकावट के सम्पन्न हुआ है, उसमें स्कोरर को व्यस्त ही रहना पड़ा है। गेंदबाज सिर्फ सटीक लाइन और लेंथ के दम पर ही बच सकते हैं। पहले टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला सही हो सकता है और भारतीय कप्तान कोहली इसे तवज्जो भी देते हैं। मौसम विभाग के अनुसार बारिश का फ़िलहाल कोई पूर्वानुमान नहीं है लेकिन यहां अधिकतर मुकाबलों में बारिश ने खलल डाला है इसलिए इस बार मैच बेरोकटोक होने से सोने पर सुहागा वाली कहावत चरितार्थ होगी। भारतीय खब्बू बल्लेबाज युवराज सिंह अपने 300वें अन्तर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच में उतरेंगे और सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ और मोहम्मद अजहरुद्दीन के बाद इस क्लब में शामिल होने वाले पांचवें भारतीय बन जाएंगे। टीम इंडिया के लिए यह पांचवां चैम्पियंस ट्रॉफी सेमीफाइनल होगा, पहले चार में उन्होंने तीन में विजय प्राप्त की है। शिखर धवन को चैम्पियंस ट्रॉफी में सबसे अधिक रन बनाने वाले भारतीय बनने के लिए सौरव गांगुली (665) के रिकॉर्ड से आगे निकलने के लिए मात्र 32 रनों की दरकार है। फिलहाल धवन के इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में 634 रन है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शानदार खेल दिखाने वाली टीम इंडिया में चोटिल खिलाड़ियों की भी कोई समस्या नहीं है, ऐसे में विराट कोहली को शायद ही अंतिम ग्यारह में कोई बदलाव करते देखा जाए। बांग्लादेश ने अलग-अलग मौकों पर खिलाड़ियों का मिश्रित समन्वय स्थापित करते हुए इस्तेमाल किया है लेकिन यहां उन्हें भी बड़े मैच को देखते हुए उसी टीम के साथ मैदान पर देखा जा सकता है। भारतीय समयानुसार दोपहर 3 बजे शुरू होने वाले इस मैच पर विश्व भर की नजरें हैं क्योंकि यहां से जीतने वाली टीम ही पाकिस्तान के साथ फाइनल खेलेगी। संभावित एकादश  भारत शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली (कप्तान), युवराज सिंह, एमएस धोनी, केदार जाधव, हार्दिक पांड्या, रविन्द्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह। बांग्लादेश  तमीम इकबाल, सौम्य सरकार, इमरुल कायस, मुशफिकुर रहीम, शाकिब अल हसन, महमुदुल्लाह, मोसद्दिक हुसैन, मशरफे मोर्तजा (कप्तान), तस्कीन अहमद, रूबल हुसैन, मुस्त्फिजुर रहमान। Published 15 Jun 2017, 07:53 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit