Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

IPL 2017 में 4 ऐसे बल्लेबाज जो करीब पहुंचकर भी शतक से चूक गए

SENIOR ANALYST
Modified 10 May 2017, 18:00 IST
Advertisement
क्रिकेट में फॉर्मेट चाहे कोई भी हो किसी भी खिलाड़ी के लिए शतक का अपना एक अलग ही महत्व होता है। हर खिलाड़ी ज्यादा से ज्यादा शतक लगाना चाहता है। किसी भी बल्लेबाज की सफलता को इस तौर पर भी देखा जाता है कि उसने कितने शतक लगाए हैं। महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर दुनियाभर में सबके आदर्श हैं तो कहीं ना कहीं इसमें उनके 100 शतकों का बहुत बड़ा योगदान है। टेस्ट और वनडे क्रिकेट में शतक लगाने के लिए खिलाड़ियों के पास काफी वक्त होता है। लेकिन टी-20 क्रिकेट में खिलाड़ियों को शतक लगाने का मौका कम ही मिलता है, क्योंकि 20 ओवरों के क्रिकेट में एक खिलाड़ी का 100 रन बनाना आसान नहीं है। हालांकि आधुनिक क्रिकेट में टी-20 में शतक अब आम बात हो गया है। कई खिलाड़ी इस फटाफट फॉर्मेट में शतक जड़ चुके हैं। इसकी शुरुआत कहीं ना कहीं इंडियन प्रीमियर लीग से हुई थी। याद कीजिए जब आईपीएल के पहले ही सीजन में केकेआर की तरफ से खेलते हुए ब्रेंडन मैकलम ने 158 रनों की तूफानी पारी खेली थी। 2008 से लेकर अब तक आईपीएल में कई शानदार पारियां देखने को मिली हैं। कई सारे खिलाड़ी आईपीएल में शतक जड़ चुके हैं। इस सीजन की अगर बात करें तो सबसे पहले संजू सैमसन ने शानदार शतक लगाया इसके बाद डेविड वॉर्नर और बेन स्टोक्स ने काफी शानदार शतक जड़ा। किंग्स इलेवन पंजाब के सलामी बल्लेबाज हाशिम अमला ने तो 2 बार शतक जड दिया। लेकिन क्या आपको पता है कि आईपीएल में अब तक  90-100 के बीच 41 बार खिलाड़ी आउट हो चुके हैं। इस सीजन में भी कुछ ऐसा ही हुआ है। कई खिलाड़ी शतक के बेहद करीब पहुंचे लेकिन महज कुछ रन से शतक जड़ने से चूक गए। आइए आपको बताते हैं उन्हीं 4 खिलाड़ियों के बारे में जो शतक के बेहद करीब पहुंचकर भी शतक नहीं लगा पाए। 4. क्रिस लिन- गुजरात लांयस के खिलाफ नाबाद 93 रन LYNNN   कोलकाता नाइट राइडर्स ने इस सीजन में अपनी सलामी बल्लेबाजी में बदलाव किया और ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज क्रिस लिन से ओपनिंग करवाई। केकेआर का ये दांव बिल्कुल सटीक बैठा। क्रिस लिन ने हर मैच में तूफानी बल्लेबाजी की। गुजरात लांयस के खिलाफ मैच में लिन ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की। गुजरात लांयस के 184 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए क्रिस लिन और कप्तान गौतम गंभीर ने बिना कोई विकेट खोए 185 रनों की साझेदारी कर टीम को 10 विकेट से मैच जिता दिया। इस दौरान लिन काफी आक्रामक मूड में दिखे। उन्होंने 19 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया और मैच में नाबाद 93 रन बनाए। हालांकि महज 7 रन से वो अपना शतक पूरा करने से चूक गए क्योंकि तब उनकी टीम निर्धारित लक्ष्य को हासिल कर चुकी थी। मैच के बाद लिन ने अपनी पारी के बारे में कहा कि' सिर्फ एक अच्छी पारी से टूर्नामेंट अच्छा नहीं होता। उम्मीद है मैं आगे भी ऐसे ही खेलते रहुंगा। अगर ऐसा हुआ तो मुझे काफी खुशी होगी'। हालांकि इसके बाद लिन चोटिल हो गए और टूर्नामेंट में कई मैच नहीं खेल पाए। आरसीबी के खिलाफ मैच से उन्होंने वापसी की।
1 / 4 NEXT
Published 10 May 2017, 18:00 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit