Create
Notifications
Advertisement

IPL 2018: इन तीन खिलाड़ियों को अपने साथ न बनाए रखना दिल्ली डेयरडेविल्स के ख़िलाफ़ गया

  • दिल्ली डेयरडेविल्स की राहें अब बेहद मुश्किल है, उन्हें प्ले ऑफ़ में पहुंचने के लिए जीतने होंगे 8 में से 7 मैच
ANALYST
Modified 26 Apr 2018, 06:15 IST

इंडियन प्रीमियर लीग में पिछले कई सीजन में दिल्ली डेयरडेविल्स ने कई बदलाव किए हैं लेकिन इन बदलावों का फायदा दिल्ली की टीम को नहीं मिला। दिल्ली डेयरडेविल्स के जरिए आईपीएल में अपनाई गई हर योजना बुरी तरह से विफल रही है। एबी डीविलियर्स को अपनी टीम में नहीं बनाए रखने और डेविड वॉर्नर को जाने देने जैसे कई फैसले दिल्ली की टीम ने किए, जो कि गलत साबित हुए।

इसके अलावा आईपीएल की इस साल की नीलामी प्रक्रिया में दिल्ली डेयरडेविल्स ने गौतम गंभीर को अपने साथ जोड़ा। गौतम गंभीर ने अपनी कप्तानी में कोलकाता नाइट राइडर्स को दो बार इंडियन प्रीमियर लीग का खिताब जीतवाया है लेकिन दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए गौतम गंभीर का प्रदर्शन अभी तक काफी निराशाजनक रहा है। जिसके बाद अब गंभीर ने दिल्ली की कप्तानी करने से ख़ुद को अलग कर दिया है, आईपीएल के 11वें सीजन में दिल्ली डेयरडेविल्स ने अभी तक पांच मुकाबले खेले हैं। इनमें से दिल्ली डेयरडेविल्स ने सिर्फ एक मुकाबले में ही जीत दर्ज करने में कामयाबी हासिल की है।

वहीं आईपीएल की नीलमी प्रक्रिया में दिल्ली डेयरडेविल्स के जरिए आरटीएम कार्ड के इस्तेमाल करने पर भी अब सवालिया निशान लग रहे हैं क्योंकि दिल्ली डेयरडेविल्स ने आरटीएम कार्ड का इस्तेमाल करके क्रिस मॉरिस को रिटेन किया था जो कि प्रदर्शन करने में नाकाम साबित हो रहे हैं। इसके अलावा तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को भी आरटीएम कार्ड के जरिए रिटेन किया गया था लेकिन शमी भी हर मैच में रन लुटा रहे हैं।

प्लेऑफ के लिए क्वालिफाई करने के लिए आईपीएल में 14 मैचों में से 8 मैच जीतने जरूरी होते हैं और दिल्ली डेयरडेविल्स के जरिए की गई अब कोई भी गलती भारी पड़ सकती है। ऐसे में आइए एक नजर डालते हैं उन खिलाड़ियों पर जो पिछले साल दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम में शामिल थे लेकिन इस बार दिल्ली की टीम से गायब हैं और शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं।

#3 सैम बिलिंग्स (चेन्नई सुपर किंग्स)




 

दिल्ली डेयरडेविल्स के सामने बल्लेबाजी में कुछ गंभीर समस्याएं आई हैं। उनकी बल्लेबाजी लाइन-अप एक इकाई के रूप में प्रदर्शन करने में विफल रही है और वे इसके लिए कीमत चुका रहे हैं। उनकी टीम में सलामी बल्लेबाजों के बावजूद शीर्ष क्रम में स्थिरता की कमी है। गौतम गंभीर पहले मैच में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद कुछ खास नहीं कर पाए और नाकाम रहे हैं। वहीं कॉलिन मुनरो भी अवसरों को भुनाने में नाकाम साबित हुए हैं।

इंग्लैंड के जेसन रॉय इस सूची से बाहर हैं, जिन्होंने मुंबई इंडियंस के खिलाफ मैच जीताऊ पारी खेली थी। हालांकि, रॉय भी पिछले कुछ मैचों में असफल रहे हैं। बल्लेबाजी में विफलता मिलने के बाद अब दिल्ली डेयरडेविल्स को सैम बिलिंग्स की काफी कमी खल रही होगा। इस साल बिलिंग्स का औसत 20 से अधिक है और करीब 180 की स्ट्राइक रेट है। उन्होंने इस सीजन कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ 56 रनों की एक मैच जीतने वाली पारी को भी अंजाम दिया था। चेन्नई सुपर किंग्स ने इस साल की आईपीएल नीलामी प्रक्रिया में बिलिंग्स को उनके बेस प्राइज एक करोड़ रुपये में खरीदकर अपने साथ शामिल किया था और नीलामी में दिल्ली ने उन्हें जाने दिया था। ऐसे में अब दिल्ली को इसका काफी मलाल हो रहा होगा।

1 / 3 NEXT
Published 26 Apr 2018, 06:15 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit