Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

IPL 2018: टूर्नामेंट से दिल्ली के बाहर होने के पीछे रहे ये तीन बड़े खिलाड़ी

  • साल 2018 में दिल्ली ने एक मज़बूत टीम का चयन किया था लेकिन इसके बावजूद तस्वीर पुरानी ही तरह रही
ANALYST
Modified 20 Dec 2019, 18:39 IST
इंडियन प्रीमियर लीग 2018 के प्लेऑफ के लिए जारी जंग से दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम बाहर हो चुकी है। सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ खेला गया मुकाबला दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए करो या मरो के समान था। लेकिन इस मुकाबले में आखिरकार दिल्ली डेयरडेविल्स को हार का सामना ही करना पड़ा और इस हार के साथ ही दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम आईपीएल के प्लेऑफ की दौड़ से भी बाहर हो गई। दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए यह सीजन कुछ खास नहीं रहा। दिल्ली डेयरडेविल्स ने शुरुआती 6 मैचों में से पांच में हार का सामना किया। इसके साथ गौतम गंभीर ने भी कप्तानी से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद आईपीएल सीजन का अगला आधा सीजन दिल्ली के लिए काफी अहम रहने वाला था। हालांकि इसमें भी दिल्ली का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा और हर मैच में दिल्ली की टीम संघर्ष करती हुई नजर आई। वहीं अगर दिल्ली डेयरडेविल्स का पूरे सीजन में प्रदर्शन देखा जाए तो टीम के कुछ खिलाड़ियों ने हर मोर्चे पर टीम के लिए शानदार प्रदर्शन किया है। इनमें पृथ्वी शॉ, श्रेयस अय्यर, अमित मिश्रा और ऋषभ पंत जैसे खिलाड़ियों का नाम काफी आगे है। इन खिलाड़ियों ने हर मुकाबले में मैच जीताने लायक योगदान दिया, तो वहीं दूसरी तरफ बाकि खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे। जिसके कारण दिल्ली डेयरडेविल्स को इस टूर्नामेंट में बाहर होना पड़ा। आइए जानते हैं उन खिलाड़ियों के बारे में जो दिल्ली डेयरडेविल्स के इस टूर्नामेंट में बाहर होने के प्रमुख कारण रहे।

#1 ग्लेन मैक्सवेल


  इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें सीजन के लिए नीलामी प्रक्रिया में दिल्ली डेयरडेविल्स ने ग्लेन मैक्सवेल को बड़ी रकम देकर अपनी टीम में शामिल किया था। हालांकि पूरे सीजन ग्लेन मैक्सवेल नाकाम साबित हुए और अपने प्राइज टैग को भुनाने में असफल रहे। आईपीएल की नीलामी प्रक्रिया में ग्लेन मैक्सवेल को दिल्ली डेयरडेविल्स ने 9 करोड़ रुपये की बोली लगाकर खरीदा था। लेकिन सब बेकार गया। इस पूरे सीजन में ग्लेन मैक्सवेल संघर्ष करते हुए दिखाई दिए। 29 वर्षीय खिलाड़ी ने 14.2 की औसत से बल्लेबाजी करते हुए 10 मैचों में सिर्फ 142 रन ही बना पाए। उनकी खराब बल्लेबाजी ने दिल्ली के मध्य क्रम को परेशानी में डाल दिया और कोई भी इस परेशानी की भरपाई नहीं कर पाया। ग्लेन मैक्सवेल को मैचों में एकल प्रदर्शन के लिए खरीदा गया था ताकि अपने बल्लेबाजी का प्रदर्शन कर ग्लेन मैक्सवेल मैच जिताऊ पारियों को अंजाम दे सके। लेकिन मैक्सवेल नाकाम रहे और दिल्ली के लिए अपना योगदान नहीं दे पाए। इस आईपीएल सीजन में मैक्सवेल का उच्चतम स्कोर 47 रन रहा है।
1 / 3 NEXT
Published 17 May 2018, 09:15 IST
Advertisement
Fetching more content...