Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

IPL 2018: इन 3 कारणों से चेन्नई सुपर किंग्स जीत सकती है इस बार ख़िताब

  • चेन्नई सुपर किंग्स में महेंद्र सिंह धोनी अकेले ही जीत की गारंटी से कम नहीं
Modified 20 Dec 2019, 18:37 IST
चेन्नई सुपर किंग्स इंडियन प्रीमियर लीग में एक फिर वापस आ चुकी है। दो साल के बाद एक बार फिर माही सेना खिताब के लिए चुनौती देने को तैयार है। नीलामी में मजबूत टीम तैयार करने के लिए चेन्नई इस साल टूर्नामेंट जीतने वाली प्रबल दावेदारों में से एक है। नीलामी से पहले चेन्नई के फ्रैंचाइज़ियों ने कप्तान एमएस धोनी, आईपीएल के शीर्ष स्कोरर सुरेश रैना और ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा को टीम में बरकरार रखा। उन्होंने शेन वॉटसन, ड्वेन ब्रावो और लुंगी एनगिडी जैसे बेहतरीन खिलाड़ियों को टीम में शामिल किया। कागज पर यह टीम एक बहुत ही मजबूत पक्ष बनकर कर सामने आती है और टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ टीमों में से गिनी जाती है। आईये आज बात करते हैं आखिर किन तीन कारणों की वजह से चेन्नई सुपर किंग्स एक बार फिर से जीत सकती है आईपीएल का खिताब।

#3 अनुभवी खिलाड़ियों से सजी टीम


  आईपीएल नीलामी में कई टीमों ने भारत के कुछ युवा और नये खिलाड़ियों पर बोली लगायी। उदाहरण के लिए, कोलकाता नाइट राइडर्स ने अंडर-19 विश्व कप के तीन स्टार युवा खिलाड़ी (कमलेश नागरकोटी, शिवम मावी और शुबमन गिल) को खरीदा था, जबकि चेन्नई सुपर किंग्स अनुभव के आगे नये चेहरों को नजरअंदाज कर दिया। सीएसके एक मजबूत संगठन की तरह दिख रहा है। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी शायद दुनिया के सबसे अनुभवी टी-20 खिलाड़ियों में से एक हैं और ऐसा ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी शेन वॉटसन के बारे में भी कहा जा सकता है जो कि आईपीएल के पहले सीजन से खेल रहे हैं और यही बात भारत के प्रमुख ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह के लिए भी लागू होती है। उनके पास ड्वेन ब्रावो जैसा खिलाड़ी है जिसने टी-20 के इतिहास में सबसे अधिक विकेट हासिल किए हैं, वहीं टीम के पास सुरेश रैना जैसा धाकड़ बल्लेबाज है जिन्होंने आईपीएल में अबतक सर्वाधिक रन बनाये हैं। पांच खिलाड़ियों के इस कोर समूह ने कुल मिलाकर 1,755 अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच खेले हैं। यह कहना बेहद कठिन है कि कोई अन्य फ्रैंचाइजी इस अंतरराष्ट्रीय अनुभव के समान स्तर पर दावा कर सकता है। कठिन परिस्थितियों में शांत और समझदार खिलाड़ी का चयन बेहतर होता है जो किसी भी मुश्किल परिस्थिति में टीम का मार्गदर्शन कर सकें ना कि एक अनुभवहीन और नये खिलाड़ी  जो ऐसी परिस्थिति में मूर्खतापूर्ण त्रुटियों करें। इसलिए, चेन्नई इस सीजन में एक बहुत मजबूत स्थिति में है।
1 / 3 NEXT
Published 04 Apr 2018, 15:36 IST
Advertisement
Fetching more content...