Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

IPL 2018 : दिल्ली डेयरडेविल्स द्वारा की गई 3 तकनीकी ग़लतियां

  • ये ग़लतियां दिल्ली को इस सीज़न में भारी पड़ रहीं हैं और टीम आख़िरी पायदान पर मौजूद है
Modified 20 Dec 2019, 18:38 IST
दिल्ली डेयरडेविल्स मौजूदा 8 टीम में से इकलौती ऐसी टीम है जिसने फ़ाइनल का सफ़र तय नहीं किया है। इस साल दिल्ली टीम ने नए कप्तान और कोच का चयन किया था लेकिन उसके हालात में कोई बदलाव नहीं हुआ। दिल्ली ने इस सीज़न में अपने पहले 6 मैच में से सिर्फ़ 1 में जीत दर्ज की है। नतीजा ये हुआ कि कप्तान गौतम गंभीर को अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा और श्रेयस अय्यर को टीम की ज़िम्मेदारी सौंपी गई। हम यहां उन 3 तकनीकी ग़लतियों पर चर्चा कर रहे हैं जिसकी वजह से दिल्ली टीम की हालत ख़राब हुई है।

#3 राहुल तेवतिया को ऊपरी क्रम में भेजना


  दिल्ली के ज़्यादातर मैच में ये देखा गया है कि राहुल तेवतिया को कुछ टॉप बल्लेबाज़ों से पहले बैटिंग के लिए भेजा गया है। वो डेनियल क्रिश्चियन और क्रिस मॉरिस से पहले बल्लेबाज़ी के लिए भेजे गए हैं। मॉरिस और क्रिश्चियन तेवतिया से कहीं बेहतर स्ट्राइकर हैं, ऐसे में राहुल को तरजीह देना समझ से परे है। हो सकता है कि टीम के कप्तान दाएं और बाएं हाथ के बल्लेबाज़ को एक साथ पिच पर भेजना चाहते हों इसलिए तेवतिया को पहले बल्लेबाज़ी के लिए भेजा जाता हो। टी-20 क्रिकेट में शुरुआती ओवर की गेंद सबसे बेहतरीन बल्लेबाज़ों को खेलने दिया जाना चाहिए। टीम में क्रिस मॉरिस विस्फोटक बल्लेबाज़ हैं उन्हें देर से बैटिंग करना सही फ़ैसला नहीं हो सकता, ऐसे में ये उनके हुनर की बर्बादी माना जाएगा। हांलाकि दिल्ली टीम के कप्तान को ये बात समझ में आ गई और बाद के मैचों में राहुल तेवतिया को मॉरिस के बाद बल्लेबाज़ी कराई गई।
1 / 3 NEXT
Published 27 Apr 2018, 06:45 IST
Advertisement
Fetching more content...