Create
Notifications
Get the free App now
Favorites Edit
Advertisement

IPL 2018: 3 बिना बिके खिलाड़ी जो किंग्स-XI पंजाब की क़िस्मत बदल सकते थे

  • किंग्स-XI पंजाब ने पहले 6 में से 5 मैच जीते और फिर आख़िरी 8 में से 7 हार गए
Rahul Pandey
ANALYST
Modified 22 May 2018, 07:30 IST
  किंग्स-XI पंजाब का इस आईपीएल में प्रदर्शन समय के साथ बुरे से बदतर होता चला गया। जिसका नतीजा अश्विन और उनकी टीम को आईपीएल 2018 के प्लेऑफ से बाहर हो भुगतना पड़ा है। एक बेहतरीन शुरुआत के बाद जहाँ अपने पहले 6 मैच में से 5 जीते थे, उनका प्रदर्शन ख़राब होता चला गया और अंतिम 8 में से 7 मैच वो हारकर इस टूर्नामेंट से बाहर हो गये।  

एक बेहतरीन शुरुआत के बाद पंजाब के फ़ॉर्म के साथ क्या हुआ?


जब क्रिस गेल और केएल राहुल ने एक साथ लगातार कुछ अच्छी पारियां खेली तो पंजाब को अपने मध्य क्रम के बल्लेबाजों की सेवाओं की आवश्यकता नहीं पड़ी थी। जब गेल सीजन के दूसरे भाग में विफल रहे, अश्विन को करुण नायर और युवराज सिंह से उम्मीदें रही होंगी लेकिन दोनों ही विफल रहे थे। इसके अलावा एंड्र्यू टाई और मुजीब उर रहमान के अलावा, उनके किसी भी गेंदबाज ने कोई विशेष प्रदर्शन कर के नहीं दिखाया। मुजीब के घायल होने के बाद पंजाब को एक अच्छा गेंदबाज नहीं मिला। उनकी बेंच स्ट्रेंथ कमजोर थी और मार्कस स्टोइनिस, मनोज तिवारी और मयंक अग्रवाल जैसे खिलाड़ी टीम के लिए कुछ ख़ास योगदान नही दे सके। ऐसे में आइये यहाँ एक नज़र उन 3 बिना बिके खिलाड़ियों पर, जो किंग्स-XI पंजाब में होते तो शायद उन्हें प्लेऑफ में पंहुचा सकते थे।

# 1 जो रूट


  कई अन्य क्रिकेटरों के विपरीत, रूट उन खिलाड़ियों में से एक है जो खेल के सभी तीन प्रारूपों में खुद को आसानी से ढाल सकते हैं। जो रूट का अंतर्राष्ट्रीय टी -20 औसत 39.10 का है और 128.76 की स्ट्राइक रेट है लेकिन किसी भी आईपीएल फ़्रैंचाइज़ी ने इस सीजन में इस अंग्रेज खिलाड़ी की सेवाओं में दिलचस्पी नही दिखाई। केन विलियम्सन को आईपीएल 2018 में अपने गुणवत्ता वाले स्ट्रोक प्ले के साथ ढेरों रन बनाते हुए देखकर, कई क्रिकेट प्रशंसकों को आश्चर्य होगा कि कैसे फ़्रैंचाइजियों ने रूट को नजरअंदाज़ किया, जो उसी क्षमता वाले खिलाड़ी हैं। यह अंग्रेज़ खिलाड़ी पंजाब के लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता था। यह पंजाब का मध्य क्रम ही था जिसके चलते उन्हें इस सीज़न में कई मैच गवाने पड़े। आरोन फिंच और युवराज सिंह मध्य क्रम में रन बनाने के लिए संघर्ष कर रहे थे, और वही मध्यक्रम में बल्लेबाज़ी जो रूट की बल्लेबाजी का सबसे मजबूत पहलू है। उनकी स्थिरता और स्पिन खेलने की क्षमता ने 7 से 15 ओवरों के दौरान निश्चित रूप से किंग्स-XI पंजाब की मदद की होती।
1 / 3 NEXT
Published 22 May 2018, 07:30 IST
Advertisement
Fetching more content...