Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

IPL इतिहास में पर्पल कैप के बारे में 4 दिलचस्प तथ्य

Modified 17 May 2018, 11:15 IST
Advertisement

12 मई, 2008 को, इंडियन प्रीमियर लीग ने 'पर्पल कैप' की अवधारणा पेश की थी। सीज़न के प्रत्येक दिन सबसे ज्यादा विकेट वाले खिलाड़ी इस टोपी को पहन कर मैदान में उतरते हैं। टूर्नामेंट के अंत में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ को यह 'पर्पल कैप' दी जाती है और अगर दो गेंदबाज़ों में टाई होता है तो दोनों में से सबसे बेहतर इकोनॉमी रेट से विकेट लेने वाले गेंदबाज़ को यह सम्मान मिलता है। एंड्रयू टाई वर्तमान सत्र में सर्वाधिक विकेट लेकर पर्पल कैप को धारण किये हुए हैं, उन्होंने 11 मैचों में 20 विकेट चटकाये हैं। तो आइए जानते हैं 'पर्पल कैप के बारे में कुछ दिलचस्प तथ्य।

इन्होंने जीती है पर्पल कैप

  अब तक, आईपीएल के इतिहास में केवल आठ अलग-अलग खिलाड़ियों को 'पर्पल कैप' के सम्मान से नवाज़ा गया है। ड्वेन ब्रावो और भुवनेश्वर कुमार इस पुरस्कार को दो बार जीतने में सफल रहे हैं। यह सम्मान पाने वाले आठ खिलाड़ियों में से चार खिलाड़ी भारतीय थे। सोहेल तनवीर इस पुरस्कार को जीतने वाले एकमात्र पाकिस्तानी खिलाड़ी हैं। वहीं भारत के प्रज्ञान ओझा एकमात्र ऐसे स्पिनर हैं जिनको यह सम्मान मिला है। हैरानी की बात है कि कोलकाता नाइट राइडर्स के शानदार गेंदबाज़ सुनील नरेन ने अभी तक पर्पल कैप अपने नाम नहीं की है।
1 / 4 NEXT
Published 17 May 2018, 11:15 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit