Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

IPL 2018: 5 साहसिक फ़ैसले जिसका फ़ायदा टीम को हुआ

  • इनमें से कोई भी फ़ैसला आसान नहीं था, लेकिन बड़े फ़ैसलों का फ़ायदा टीम को हुआ
Modified 20 Dec 2019, 18:38 IST
किसी भी आईपीएल टीम को 20 से ज़्यादा खिलाड़ियों को चुनने का हक़ होता है। ऐसे में टीम मैनेजमेंट के पास ये मौका होता है कि वो एक संतुलित टीम चुन सके, जिसमें हर तरह के खिलाड़ी शामिल हों, और उन्हें ज़रुरत के हिसाब से आज़माया जा सके। पिछले एक दशक में आईपीएल में कई तरह का रोमांचक और कड़े फ़ैसले देखने को मिले हैं जो टीम के लिए वरदान साबित हुए हैं। इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें सीज़न में हमने कई चौंकाने वाले फ़ैसले देखे हैं जिसमें कई फ़ैसले ऐसे हैं जो आत्मघाती साबित हुए हैं। वहीं कुछ निर्णय ऐसे भी रहे हैं जो टीम के लिए फ़ायदेमंद रहे हैं। हम यहां उन 5 साहसिक फ़ैसलों के बारे में चर्चा कर रहे हैं जो या तो टीम मैनेजमेंट या फिर टीम के कप्तान द्वारा लिए गए हैं, और इन सभी 5 फ़ैसलों ने टीम को फ़ायदा पहुंचाया है।

#5 रविचंद्रन अश्विन ने सनराइज़र्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ पहले बल्लेबाज़ी का फ़ैसला किया


  मौजूदा दौर की बात करें तो टी-20 क्रिक्रेट में कोई भी इस बात का इंतज़ार नहीं करता कि कप्तान टॉस जीतने पर क्या फ़ैसला लेता है। 100 में 99 दफ़ा किसी भी टीम का कप्तान पहले गेंदबाज़ी करना ही पसंद करता है। किंग्स XI पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने 19 अप्रैल 2018 को सनराइज़र्ज हैदराबाद के ख़िलाफ़ टॉस जीत कर पहले बल्लेबाज़ी का दुर्लभ फ़ैसला लिया। हैदराबाद इससे पहले लगातार 3 मैच जीत चुकी थी, वो भी लक्ष्य का पीछा करते हुए। ऐसे में अश्विन का ये फ़ैसला बेवकूफ़ी भरा लग रह था, लेकिन मैच खत्म होने के बाद अश्विन सही साबित हुए। पहले बल्लेबाज़ी करते हुए पंजाब ने 193 रन बनाए, हैदराबाद टीम इस लक्ष्य का पीछा करने में नाकाम रही और मैच हार गई।
1 / 5 NEXT
Published 02 May 2018, 12:10 IST
Advertisement
Fetching more content...