Create
Notifications

IPL 2018: नीलामी के बाद सभी टीम में ख़रीदे गए सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों पर एक नज़र

Rahul Pandey

हममें से कई लोग ऐसे हैं जिन्हें शायद खेल से कहीं ज्यादा नीलामी के रोमांच का आनंद आता है। जब रिचर्ड मैडले अपनी नज़रों से एक शेर की तरह नीलामी के दौरान खरीदार की खोज में हर तरफ़ देखते हैं, तो यह पूरी प्रक्रिया बेहद दिलचस्प और सांसें रोक देने वाली होती है। किसी खिलाड़ी के बिकते बिकते एक नये बोलीदाता का दौड़ में आना एक बेहद दिलचस्प मौका होता है। यह साल भी अन्य सालों से अलग नही रहा जब मैडले ने बेहद अच्छे ढंग से पूरी प्रक्रिया को दो दिनों तक चलाया। लगभग हर टीम ने 25 खिलाड़ियों का कोटा पूरा किया और उनमें से प्रत्येक के पास कुछ बेहतरीन खिलाड़ी हैं। यहाँ हम नीलामी में तो क्रमशः प्रत्येक टीम के द्वारा प्राप्त किये सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी पर नज़र डाल रहे हैं। नोट: आरटीएम में खरीदे गये खिलाड़ियों को इस सूची में शामिल नही किया गया है।

# 1 मुस्ताफ़िज़ुर रहमान (2.2 करोड़) - मुंबई इंडियंस

वास्तव में यह बेहद आश्चर्यजनक है कि सनराइजर्स हैदराबाद ने मुस्ताफ़िज़ुर रहमान को टीम से जाने दिया। यहां पाठकों के लिए यह जानना जरुरी है कि वह सीजन जिसमें इस युवा बांग्लादेशी गेंदबाज़ ने डेविड वॉर्नर की टीम के गेंदबाजी आक्रमण की अगुवाई की थी, उन्होंने उस वर्ष प्रतियोगिता जीती थी। वह वर्ष 2016 का आईपीएल था। 2017 में प्रतिभाशाली रशीद खान को उनके स्थान पर विदेशी गेंदबाज के रूप में चुने गए थे और सनराइजर्स अंत में चूक गए। रहमान एक बड़े नाम के साथ मुंबई में शामिल हो रहे हैं, 17 मैच में उन्होंने 26.76 की औसत से 17 विकेट लिए हैं, लेकिन यह उनकी विशेषता नही है। उनकी सबसे अच्छी बात यह है कि वह रनों के प्रवाह को रोकने की क्षमता रखते हैं, जो उन्हें एक विशेष खिलाड़ी बनाता है। आईपीएल में उनकी इकॉनमी 7.15 है, जो टी-20 में 6.17 की तुलना में उनकी इकॉनमी से एक रन ज्यादा है। हाल ही में उन्होंने अपनी 26 वीं पारी में अपना 50 वां एकदिवसीय विकेट लिया, वो भी 19 .2 के औसत से। संक्षेप में, 2.2 करोड़ रुपये में मुंबई के पास एक ऐसा गेंदबाज आया है, जिस पर वे किसी भी समय निर्भर रह सकते हैं।

# 2 बेन स्टोक्स (12.5 करोड़) - राजस्थान रॉयल्स

एक ऐसा विकल्प जिसको लेकर किसी के भी मन में शायद ही संदेह हो। बेन स्टोक्स आखिरी आईपीएल की सबसे महंगी खरीद थे, जब राइजिंग पुणे सुपरजाईन्ट्स ने 14 करोड़ रुपये में उन्हें खरीदा था। हालांकि, इस साल आईपीएल में उनकी भागीदारी पर अभी भी संदेह है, लेकिन इसमें कोई सवाल नहीं है कि वह टूर्नामेंट में अगर भाग लेंगे तो एक बेहद अहम खिलाड़ी होंगे। पिछले सीजन में उन्हें टूर्नामेंट के सर्वाधिक मूल्यवान खिलाड़ी के रूप में चुना गया था। और क्यों नहीं? आखिरकार उन्होंने 12 मैचों में 316 रन बनाए और 12 मैचों में पुणे के लिए 12 विकेट भी लिये। अपने पहले सीजन में उनका प्रदर्शन राजस्थान रॉयल्स के लिए शेन वॉटसन के बाद आईपीएल के इतिहास का शायद सबसे बेहतरीन प्रदर्शन था।और इस सीजन में स्टोक्स राजस्थान रॉयल्स की टीम के साथ खेलेंगे। कौन जानता है, वह शेन वॉटसन का अनुसरण करते हुए और जयपुर की टीम को पहले आईपीएल ख़िताब के बाद अब एक और ख़िताब जीताने में अहम किरदार अदा करें।

# 3 गौतम गंभीर (2.8 करोड़) - दिल्ली डेयरडेविल्स

दिल्ली का अपना बेटा घर लौट रहा है। किसी को वास्तव में उम्मीद नहीं थी कि कोलकाता नाइटराइडर्स अपने सबसे सफल खिलाड़ी को इतने आसानी से जाने देगा। न तो उन्हें बनाए रखा गया और न ही उनके लिए आरटीएम कार्ड इस्तेमाल किया गया था। यह सब आश्चर्य से भरा था सबके लिये लेकिन कोलकाता का नुकसान दिल्ली डेयरडेविल्स के लिये एक वरदान हो सकता है। यह सभी जानते हैं कि जब गंभीर की बात आती है तो यह तय रहता है कि टीम को न सिर्फ केवल एक अच्छा सलामी बल्लेबाज मिला है, बल्कि ड्रेसिंग रूम में भी एक महान नेता मिल गया है। कोलकाता ने बहुत से कप्तानों को आजमाया, लेकिन कोई भी उन्हें वह परिणाम नही दिला सका जिसकी उन्हें तलाश थी। फिर, गंभीर आये और उन्हें दो आईपीएल ख़िताब जीत कर दिलाये। इस बीच, उन्होंने रनों का भी अंबार लगाया, उनके आईपीएल आंकड़े इस प्रकार हैं: 147 पारियां, 4133 रन, 31.55 औसत और 124.64 स्ट्राइक रेट

और यह तो तय है 2.8 करोड़ में दिल्ली को एक शानदार कप्तान भी मिल रहा है।

# 4 शाकिब अल हसन (2 करोड़) - सनराइजर्स हैदराबाद

जब इस बांग्लादेशी ऑलराउंडर के अधिग्रहण के बारे में पूछा गया, तो टॉम मूडी ने कहा, 'वह कहीं भी बल्लेबाजी कर सकता है, उसकी बल्लेबाजी को कम आंका जाता है''। वास्तव में, शाकिब अल हसन के बारे में यह बात सच है कि वह क्षमता के ऑल राउंडर के रूप में पूरी तरह से उभर कर नहीं आ पाए हैं। एक समय पर, वह खेल के तीनों प्रारूपों में पहली रैंक के ऑलराउंडर थे। और उन्होंने उस रैंक को एक लंबे समय तक बनाये भी रखा। अब जबकि बेन स्टोक्स विश्व क्रिकेट में सबसे अधिक विस्फोटक आलराउंडर हैं, तो शाकिब अल हसन निश्चित रूप से सबसे नियमित प्रदर्शन वाले खिलाड़ी हैं। आईपीएल में खेली गई 32 पारियों में, उन्होंने 21.65 की औसत से 498 रन बनाए और वो भी 130.37 की स्ट्राइक रेट के साथ। ये बहुत अच्छे आंकड़े नहीं दिख रहे हैं, लेकिन यह भी सच है कि वह केकेआर में उनका काफी कम इस्तेमाल होता था, जहाँ वह निचले क्रम में बल्लेबाजी करते थे। आईपीएल में गेंद के साथ उन्होंने 42 पारी में 7.17 की इकॉनमी दर से 43 विकेट लिए और औसत 25.6 की रही। अब इसमें कोई दिमाग़ लगाने वाली बात ही नही की टेस्ट और टी 20 में रैंक 1 ऑलराउंडर के लिए 2 करोड़ का सौदा एक सस्ता और अच्छा सौदा है।

# 5 क्रिस वोक्स (7.4 करोड़) - रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर

यह एक मुश्किल चुनाव था, बिलकुल इस वर्ष की आरसीबी की टीम की तरह क्योंकि वोक्स का सीधा मुकाबला था इस समय कमाल की फॉर्म में चल रहे कॉलिन डी ग्रैंडहोम से , बहरहाल, बल्लेबाजी और गेंद दोनों के साथ क्रिस वोक्स के आंकड़े इस मुकाबले को उनके पक्ष में झुका देते हैं। यह तथ्य कि आरसीबी ने इस अंग्रेज खिलाड़ी पर 7.4 करोड़ रुपये खर्च किया है, यह बहुत हद तक बताता है कि टीम उनपर शायद दाव लगाने जा रही है। आईपीएल में उन्हें पहले से खेलने का, चमक धमक का और प्रतियोगिता के दबाव का अनुभव है। कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए 13 पारियों में, उन्होंने 22.71 के औसत से 17 विकेट लिए। उनकी इकॉनमी 8.77 के आंकड़ों से उच्च लग सकती है, लेकिन वह एक विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं और ज्यादातर स्थितियों में यह मायने रखता है। हालांकि, इस समय उनके साथ एक अतिरिक्त विशेषता भी है। केकेआर के विपरीत अब उनकी बल्लेबाजी बहुत अधिक सुधर चुकी है। वास्तव में 2011 में पदार्पण के बाद से 1 जनवरी 2017 तक उनकी बल्लेबाज़ी औसत 22 की थी। लेकिन 2017 से, उनकी बल्लेबाजी औसत 67.80 पर पहुंच गई है। और यह एक प्रमाणित सत्य है कि आँकड़े झूठ नहीं बोलते हैं।

# 6 रविचंद्रन अश्विन (7.7 करोड़) - किंग्स इलेवन पंजाब

किंग्स इलेवन पंजाब इस वर्ष नीलामी में काफी आक्रामक तौर पर खरीदारी करने उतरे, और प्रीति जिंटा ने अपनी टीम में काफी स्टार खिलाड़ियों को जगह दी है। उनमें से कुछ नाम युवराज सिंह, क्रिस गेल और रवि अश्विन हैं। वास्तव में तीनों में से एक को चुनना एक मुश्किल कार्य है। हालांकि, अगर आप आईपीएल खिताब की संख्या की तुलना कर रहे हैं तो अश्विन ने अपने करियर में चेन्नई सुपर किंग्स को जितनी जीत दिलाई, केवल उसके दम पर वह काफी आगे बढ़ जाते। हालाँकि महेंद्र सिंह धोनी चेन्नई सुपरकिंग्स की जीत के पीछे मुख्य दिमाग थे, लेकिन अश्विन का उस विजय में एक अहम योगदान था। अश्विन एक सम्पूर्ण आईपीएल लीजेंड है। 108 पारी में अपने खाते में उन्होंने 25 से कम की औसत से 100 विकेट लिए हैं। उनका सबसे अच्छा हिस्सा 6.55 की उनकी इकॉनमी रही है। कई बार, उनकी कसी और रक्षात्मक गेंदबाजी ने उनकी टीम के लिए मैच जिताए थे। यह किंग्स इलेवन पंजाब के लिये एक मांगी हुई मुराद भी साबित हो सकती है।

# 7 मिचेल स्टार्क - कोलकाता नाइटराइडर्स

यह एक आसान चुनाव था, इस बार कोलकाता को अगर कोई चीज़ बाकी टीमों से अलग करती है तो वह यह कि उनके पास विश्व का सर्वश्रेष्ठ बाएं हाथ का तेज गेंदबाज हैं। मिचेल स्टार्क एक ऐसे खिलाड़ी हैं जो अपनी गेंदबाज़ी के दम पर पूरा खेल बदलने की शक्ति रखते हैं। उन्होंने अब तक 27 आईपीएल मैच खेले हैं, जिनमें से 26 में गेंदबाजी की है। उन मैचों में, उन्होंने 20.38 की औसत से 34 विकेट लिए और 7.16 की इकोनॉमी रही है। पिछला सीजन रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए सबसे खराब सीजन था। पूरे सीजन उन्हें स्टार्क की कमी खली। अगर पिछले सीजन में मिचेल स्टार्क उनकी टीम के साथ रहे होते तो निश्चित रूप से परिणाम बेहतर रहे होते। अब इस सीजन से कोलकाता ने उन्हें अपने गेंदबाजी आक्रमण में शामिल किया है। और वह अकेले एक घातक स्ट्राइक गेंदबाज़ बन जाते हैं।

# 8 लुंगी एनगीडी (50 लाख) - चेन्नई सुपर किंग्स

शायद यह सीजन की सबसे अच्छी खरीद है। उनको अपनी टीम में शामिल करने के लिये बोली-प्रक्रिया में युद्ध कैसे नहीं छिड़ा यह आश्चर्य था क्योंकि उन्हें उनके बेस प्राइज जितना ही मूल्य मिला, जो काफी आश्चर्यजनक है। कुछ लोगों के लिए, वह सिर्फ एक नये उभरते गेंदबाज़ हों पर जो दक्षिण अफ्रीका में भारतीय बल्लेबाजी क्रम को हिलाकर रख सकता वह निश्चित तौर पर प्रतिभावान तो होगा ही। लेकिन यह सिर्फ इतना ही नहीं है। यह एक ऐसे युवा खिलाड़ी है जो जानता है कि गेंदबाजी करते समय किन क्षेत्रों को लक्षित करना है। खेल के सबसे छोटे प्रारूप में उनके आंकड़े उनके महत्व को बताते है। 3 अंतराष्ट्रीय टी 20 मैचों में उनके पास 7.33 की औसत से 6 विकेट हैं और इकॉनमी 5.5 प्रति ओवर की है। हालाँकि उनकी प्रतिभा को आंकने के लिये यह बहुत कम मैच हैं। हालांकि, 38 टी 20 पारी में उन्होंने 19 .41 के औसत से 43 विकेट लिए हैं और इकॉनमी 7.23 रन-प्रति-ओवर की है। कुल मिलाकर वह एक ऐसे उभरते हुए खिलाड़ी हैं, जिसे अभी तक बल्लेबाजों द्वारा निपटने का फार्मूला नहीं निकाला जा सका है और चेन्नई सुपर किंग्स इसका फायदा उठा सकती है। लेखक: उमीद देव अनुवादक: राहुल पांडे

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...