Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

IPL फ़ाइनल में अब तक के 'मैन ऑफ द मैच' प्रदर्शन

Rahul Pandey
ANALYST
Modified 09 Mar 2018, 09:35 IST
Advertisement

  इंडियन प्रीमियर लीग एक लंबा टूर्नामेंट होता है, जिसमें हर एक टीम अपने प्रदर्शन के बूते एक सफल अभियान का अंत भी सफलता से करना चाहती है। एक खिलाड़ी अपने फिटनेस स्तर पर खरा उतरते हुए, बल्ले और गेंद से एक यादगार सत्र बनाना चाहता है। कुछ खिलाड़ी पूरे सत्र में अच्छा प्रदर्शन करते हैं जबकि अन्य केवल एक या दो मैच में ही अच्छा कर पाते हैं। हालांकि,  अपनी पहचान वही बना पाते हैं जो अपनी टीम के लिये जरूरत पड़ने पर खड़े होते हैं और अपनी टीम को जीत दिला पाते है। टी 20 प्रारूप की गति ऐसी होती है कि कम गेंदों में भी दर्जन भर रन बनाने वाले, अच्छी तरह से बनाये गये अर्धशतक को दबा देते है। आईये एक नज़र डालते है, ऐसे खिलाड़ियों पर जिन्होंने आईपीएल के फाइनल में अपने प्रदर्शन से टीम को सफलता दिलायी, अब तक कोई भी खिलाड़ी दो बार ऐसा करने में सफल नही हो पाया है।  

# 10 यूसुफ पठान (2008)

  आईपीएल के शुरुआती संस्करण में कमजोर आंकी गयी राजस्थान रॉयल्स ने जब फाइनल में पहुंचने में सफलता पाई तो सभी को चौंका दिया था। स्पिनर शेन वॉर्न के प्रेरणादायी नेतृत्व में युवा प्रतिभाओं ने उभरते हुए शानदार प्रदर्शन किया और टूर्नामेंट के फाइनल में आक्रमक बल्लेबाज़ यूसुफ पठान ने इसे खुद के लिये एक मंच के रूप में प्रयोग किया। चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ पहले गेंदबाजी करते हुए यूसुफ ने पहले तीन विकेट लिए, जिसमें पार्थिव पटेल, एस विद्युत और एल्बी मोर्कल के विकेट शामिल थे। उन्होंने अपने चार ओवरों में 22 रन देकर 3 विकेट लेकर उत्कृष्ट आंकड़े दर्ज किये और सीएसके को 164 के स्कोर पर रोकने में बड़ी भूमिका निभाई। पठान के लिये मैच यही नही खत्म हुआ और जब एक समय लक्ष्य का पीछा करते हुए उनकी टीम 42-3 पर थी, तो बड़ौदा के दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 39  गेंदों में 56  रन की पारी धमाकेदार पारी खेली, जिसमें 3 चौके और 4 लंबे छक्के शामिल भी थे।
1 / 10 NEXT
Published 09 Mar 2018, 09:35 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit