COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

आईपीएल के 12वें सीजन से भारतीय क्रिकेट को क्या हासिल हुआ ?

SENIOR ANALYST
फ़ीचर
819   //    16 May 2019, 17:34 IST

Enter caption

आईपीएल के एक और सीजन का समापन हो चुका है। ये दुनिया की सबसे बड़ी टी20 लीग का 12वां संस्करण था और मुंबई इंडियंस ने फाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स को सिर्फ 1 रन से हराकर रिकॉर्ड चौथी बार खिताब पर कब्जा किया। इस आईपीएल सीजन हमें हर तरह के रंग देखने को मिले। खूब सारे चौके-छक्के लगे, काफी विकेट गिरे और कई सारे विवाद भी हुए जिस पर अभी तक चर्चा हो रही है। लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि आईपीएल के 12वें सीजन से भारतीय क्रिकेट को क्या हासिल हुआ। भारतीय क्रिकेट को इस बार के आईपीएल से क्या फायदा हुआ या होगा। किस खिलाड़ी ने अपनी छाप छोड़ी और किसमें भविष्य का सुपरस्टार बनने की काबिलियत दिखाई दी। आइए जानते हैं इन्हीं सवालों के जवाब।

शुबमन गिल में भविष्य के सुपरस्टार की झलक :

Enter caption

कोलकाता नाइट राइडर्स के युवा बल्लेबाज शुबमन गिल ने आईपीएल के इस सीजन में अपनी कई बेहतरीन पारियों से फैंस और क्रिकेट दिग्गजों का दिल जीत लिया। सबका मानना है कि भारतीय क्रिकेट का भविष्य सुनहरे हाथों में हैं क्योंकि शुबमन गिल जैसे युवा बल्लेबाज जबरदस्त खेल दिखा रहे हैं। शुबमन गिल के अगर इस सीजन के प्रदर्शन की बात करें तो शुरूआत में वो उतने अच्छे टच में नहीं दिखाई दिए क्योंकि उन्हें पूरा मौका ही नहीं मिलता था लेकिन जब से उनसे ओपनिंग कराई जाने लगी तब से वो एक अलग बल्लेबाज नजर आने लगे। गिल ने इस सीजन 14 मैचों में 32.88 की औसत और 124.36 की स्ट्राइक रेट से 296 रन बनाए। इसी वजह से उन्होंने इस सीजन का 'इमर्जिंग प्लेयर' का अवॉर्ड भी जीता। इसके साथ ही उन्होंने दिखा दिया कि आने वाले आईपीएल और भारतीय क्रिकेट के लिए वो एक बड़े खिलाड़ी साबित हो सकते हैं।

हार्दिक पांड्या की धमाकेदार पारियां:

Enter caption

कॉफी विद करन शो के बाद हुए विवाद के बाद जब हार्दिक पांड्या पर बैन लगाया गया था तो किसी ने नहीं सोचा था कि वो इस तरह से जबरदस्त वापसी करेंगे। कई लोग तो उनके आईपीएल में खेलने पर ही संदेह कर रहे थे लेकिन ना केवल उन्होंने आईपीएल में हिस्सा लिया बल्कि अपनी ताबड़तोड़ पारियों से दिखा दिया कि वो वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के लिए गेम चेंजर साबित हो सकते हैं। पांड्या ने इस साल कई मौकों पर अपनी टीम मुंबई इंडियंस को संकट से निकाला। उन्होंने 16 मैचों में 191 की जबरदस्त स्ट्राइक रेट से 402 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने इस आईपीएल सीजन का सबसे तेज अर्धशतक भी लगाया। अपनी इन पारियों के दौरान उन्होंने कुल 29 छक्के लगाए। ना केवल बल्ले से बल्कि गेंदबाजी में भी उन्होंने 14 विकेट चटकाए। पांड्या का अगर यही फॉर्म जारी रहा तो वर्ल्ड कप में भारतीय टीम को काफी फायदा होगा।

जसप्रीत बुमराह की जबरदस्त गेंदबाजी:

Enter caption
Advertisement

2017 का चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल, जसप्रीत बुमराह की एक नो बॉल और मैच भारत के हाथों से फिसल गया। इस मैच के बाद बुमराह की काफी आलोचना हुई थी और उन्हें फैंस के गुस्से का शिकार होना पड़ा था लेकिन उसके बाद से बुमराह ने जबरदस्त वापसी की और आज वो लगभग सभी प्रारूपों में दुनिया के नंबर एक गेंदबाज हैं। टेस्ट, वनडे और टी20 तीनों ही प्रारूपों में बुमराह बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे हैं। लोग उन्हें इस वक्त गेंदबाजों का विराट कोहली कह रहे हैं। आईपीएल में भी बुमराह ने दिखा दिया कि उनकी गेंदों पर बड़ी हिट लगाना किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं है, फिर चाहे वो कोहली ही क्यों ना हों। बुमराह ने इस सीजन 16 मैचों में 19 विकेट चटकाए और इस दौरान उनकी इकॉनमी महज 6.63 की रही। अगर मुंबई इंडियंस चौथी बार आईपीएल की चैंपियन है तो इसका काफी सारा श्रेय बुमराह को जाता है, जिन्होंने कई मौकों पर बेहतरीन गेंदबाजी कर टीम को संकट से निकाला। चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल के बाद से जसप्रीत बुमराह काफी परिपक्कव हो गए हैं और आईपीएल के उनके प्रदर्शन को देखते हुए कहा जा सकता है कि 30 मई से शुरू हो रहे वर्ल्ड कप में वो दुनिया भर के बल्लेबाजों में खौफ का पर्याय रहेंगे।

पुराने एम एस धोनी की झलक:

Enter caption

आईपीएल 2019 का 39वां मैच, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ जीत के लिए चेन्नई सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में 25 रन चाहिए थे और क्रीज पर थे एम एस धोनी। पहली गेंद पर चौका और अगली दो गेंदों पर छक्का। अब 3 गेंद पर 9 रन चाहिए थे। चौथी गेंद पर 2 रन और पांचवी गेंद एक बार फिर 6 रनों के लिए सीमा रेखा के बाहर। अब एक गेंद पर सिर्फ 2 रन चाहिए थे लेकिन शार्दुल ठाकुर रन आउट हो गए और चेन्नई की टीम एक रन से मैच हार गई। ये मैच भले ही सीएसके हार गई हो लेकिन एम एस धोनी ने दिखा दिया कि अभी भी उनके अंदर काफी दमखम बाकी है और वो किसी भी स्थिति में मैच का माद्दा पलटने की क्षमता रखते हैं। उन्होंने इस दौरान 111 मीटर का लंबा छक्का भी लगाया । एक-दो साल पहले लोग धोनी की धीमी बल्लेबाजी की आलोचना कर रहे थे लेकिन अब वर्ल्ड कप में उन्हें टीम इंडिया का सबसे बड़ा हथियार मान रहे हैं।। धोनी के इस तरह के प्रदर्शन से वर्ल्ड कप में भारतीय टीम की संभावनाएं और मजबूत हो गई हैं। एक बार फिर से धोनी मैच फिनिशर का रोल अपने कंधों पर उठाने को तैयार हैं।

रोहित शर्मा भारतीय टीम के अगले कप्तान ?

Enter caption

रोहित शर्मा के नाम सबसे ज्यादा आईपीएल ट्रॉफी जीतने का रिकॉर्ड हो गया है। एक कप्तान के तौर पर मुंबई इंडियंस को उन्होंने 4 आईपीएल ट्रॉफी जिताई है। कप्तानी के मामले में कुछ लोगों का मानना है कि उन्होंने एम एस धोनी को भी पीछे छोड़ दिया है। वहीं आईपीएल में उनकी कप्तानी को देखते हुए कई लोग राय रख रहे हैं कि उन्हें भारतीय टी20 टीम का कप्तान बना देना चाहिए, जबकि गौतम गंभीर जैसे पूर्व क्रिकेटर का मानना है कि विराट कोहली के बाद वो भारत के अगले कप्तान बनने चाहिए। रोहित शर्मा भले ही अभी भारतीय टीम के कप्तान ना बनें लेकिन वो टीम के उप कप्तान जरूर हैं और उनका आईपीएल अनुभव टीम के काफी काम आ सकता है। खुद कप्तान विराट कोहली का भी कहना है कि वो जरूरत पड़ने पर रोहित शर्मा की सलाह लेते हैं। एक और ट्रॉफी जीतने से रोहित शर्मा का लीडर के तौर पर आत्मविश्वास काफी बढ़ गया होगा जो कि भारतीय क्रिकेट के लिए काफी अहम है।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं

Tags:
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...