Create
Notifications

IPL: 4 शीर्ष खिलाड़ी जिन्होंने सनराइज़र्स हैदराबाद में रहते हुए भी कभी मैच नहीं खेला

Rahul Pandey

सनराइजर्स हैदराबाद की टीम को आम तौर पर अपनी मजबूत गेंदबाजी लाइन-अप के लिए जाना जाता है। 2013, 2016 और 2017 में तीन बार प्लेऑफ जगह बनाने के बावजूद हैदराबाद स्थित यह फ्रैंचाइजी केवल एक बार आईपीएल ट्रॉफी को पाने में सफल रही है। पिछले कुछ सालों में, वीवीएस लक्ष्मण, टॉम मूडी, मुथैया मुरलीधरन जैसे खेल के कुछ महान नाम एसआरएच के स्टाफ में है, जबकि कुमार संगकारा, युवराज सिंह, लोकेश राहुल, मुस्तफिजुर रहमान जैसे बड़े नामों वाले खिलाड़ियों ने इस टीम की ओर से खेला है। हालांकि, टी 20 प्रारूप के कुछ ऐसे भी विशेषज्ञ हैं जिन्हें नीलामी में चुने जाने के बावजूद आईपीएल में एसआरएच के लिए खेलने का मौका नहीं मिला है। यहाँ हम ऐसे ही चार खिलाड़ियों पर नज़र डाल रहे हैं, जिन्हें कभी भी टीम में होते हुए भी एसआरएच के लिए खेलने का मौका नहीं मिला:

# 4 क्रिस लिन

इस सूची में क्रिस लिन का नाम देख बहुत लोग हैरान होंगे। 2013 में ऑस्ट्रेलिया के इस आक्रामक बल्लेबाज को सनराइजर्स हैदराबाद ने खरीदा था, लेकिन उस सीजन में एक भी मैच में उन्हें मौका नही मिला। 28 वर्षीय इस खिलाड़ी ने इसके बाद कोलकाता नाइट राइडर्स की ओर से 2014 की नीलामी में शामिल होने के बाद 22 पारियों में 34.79 की औसत और 147 की स्ट्राइक रेट से 661 रन बनाये, जिसमे आईपीएल 10 में गुजरात लायंस के खिलाफ उनकी 93 रन की सर्वश्रेष्ठ पारी भी शामिल है। इस आक्रामक सलामी बल्लेबाज ने इस सीजन में 30.78 के औसत से 10 पारियों में 277 रन बनायें हैं और अपनी टीम को कुछ ठोस शुरुआत प्रदान करते आ रहे है। अगर एसआरएच ने 2013 में लिन को मौका दिया होता, तो निश्चित रूप से उन्हें अपने थोड़े कमजोर दिखने वाले बल्लेबाजी क्रम के लिए मजबूत आधार मिला होता।

# 3 बेन लॉफलिन

आईपीएल 10 की नीलामी से पहले कई लोगों ने बेन लॉफलिन का नाम भी नहीं सुना था। दाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज ने 5 एकदिवसीय मैचों में ऑस्ट्रेलिया का प्रतिनिधित्व किया और टी -20 में कुल 6 विकेट लिए। लेकिन 35 वर्षीय इस खिलाड़ी का बिग बैश लीग में प्रदर्शन शानदार रहा है। उन्होंने ने होबार्ट हरिकेन्स और एडीलेड स्ट्राइकर्स का प्रतिनिधित्व करते हुए 64 मैचों में 80 विकेट लिए हैं। आईपीएल 10 नीलामी में विक्टोरिया के जन्में इस गेंदबाज को सनराइजर्स हैदराबाद ने टीम में शामिल तो किया था, लेकिन पूरे सीजन वो सिर्फ बेंच पर बैठे नज़र आये। इसके बाद आईपीएल के ग्यारहवें सीजन के लिए राजस्थान रॉयल्स द्वारा उन्हें नीलामी में खरीदा गया। इस मध्यम तेज गेंदबाज के नाम 2013 में चेन्नई सुपर किंग्स और इस सत्र में राजस्थान रॉयल्स की ओर से खेलते हुए कुल 7 आईपीएल खेलों में 6 विकेट हैं। इनमे में से 5 विकेट लॉफलिन ने इस सीज़न में राजस्थान रॉयल्स की ओर से खेलते हुए लिए है।

# 2 ब्रेंडन टेलर

ब्रेंडन टेलर लंबे समय तक जिम्बाब्वे की बल्लेबाजी क्रम का आधार स्तंभ रहे थे। 32 वर्षीय इस खिलाड़ी ने जिम्बाब्वे का तीनों प्रारूपों में प्रतिनिधित्व किया और वर्तमान में ज़िम्बाब्वे के लिए वनडे में सर्वाधिक(10) शतक लगाने का रिकॉर्ड उनके नाम है। विकेटकीपर नमन ओझा के विकल्प के रूप में आईपीएल के सातवें सीजन के लिए सनराइजर्स हैदराबाद ने दाएं हाथ के इस विकेटकीपर-बल्लेबाज को शामिल किया था। हालांकि, हरारे के जन्में हुए इस क्रिकेटर को उस सीजन में एक भी मैच में खेलने का मौका नहीं मिला और उसके बाद के सीजन में उन्हें कोई खरीदार नही मिला।

# 1 क्लिंट मैके

लंबे कद के तेज गेंदबाज क्लिंट मैके ऑस्ट्रेलिया की एकदिवसीय टीम का एक अभिन्न अंग रह चुके हैं। मैके ने 59 एकदिवसीय मैचों में ऑस्ट्रेलिया का प्रतिनिधित्व किया, जिनमें 97 विकेट लिए हैं। 35 वर्षीय इस खिलाड़ी को पहली बार 2012 में मुंबई इंडियंस द्वारा खरीदा गया था और केवल दो मैचों में खेलने का मौका मिला, जहाँ उन्होंने केवल एक विकेट लिया था। वह 2013 की नीलामी में नही बीके, लेकिन बाद में आईपीएल के सातवें संस्करण के लिए सनराइजर्स हैदराबाद ने उन्हें टीम शामिल तो किया लेकिन पूरे सीज़न उन्हें खेलने का मौका नही मिला। लेखक: प्रसाद मंदाती अनुवादक: राहुल पांडे

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...