T20 World Cup : "भारत ने केवल चार तेज गेंदबाजों को चुनकर जोखिम लिया है" - पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज की बड़ी प्रतिक्रिया 

भारत ने केवल चार प्रमुख तेज गेंदबाज वर्ल्ड कप के लिए चुने हैं
भारत ने केवल चार प्रमुख तेज गेंदबाज वर्ल्ड कप के लिए चुने हैं

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज मिचेल जॉनसन (Mitchell Johnson) का मानना है कि भारत ने टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup) 2022 के लिए केवल चार प्रमुख तेज गेंदबाजों को बहुत बड़ा जोखिम लिया है। टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में होने वाले आईसीसी इवेंट के लिए भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, हर्षल पटेल और अर्शदीप सिंह के रूप में चार स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाज चुने हैं। वहीं ऑलराउंडर पांचवें तेज गेंदबाज का काम करेंगे।

भारत ने अनुभवी मोहम्मद शमी और दीपक चाहर जैसे तेज गेंदबाजों को रिज़र्व लिस्ट में रखा है। जॉनसन के मुताबिक ऑस्ट्रेलियाई परिस्थितियों को देखते हुए टीम इंडिया को अपने स्क्वाड में तेज गेंदबाजी के और विकल्प जोड़ने चाहिए थे।

जॉनसन के हवाले से पीटीआई ने कहा,

अगर आपको एक ऑलराउंडर (तेज गेंदबाज) और कुछ स्पिनर, चार तेज गेंदबाज मिले, तो यह थोड़ा जोखिम भरा है। लेकिन भारत शायद दो तेज गेंदबाजों और एक ऑलराउंडर (हार्दिक पांड्या) और दो स्पिनरों को खिलाने पर विचार कर रहा है।
ऑस्ट्रेलिया में, आपको निश्चित रूप से तीन तेज गेंदबाजों को खेलने की जरूरत है, संभवतः चार कुछ परिस्थितियों में, उदाहरण के लिए, पर्थ। मुझे लगता है कि उनके पास एक योजना है, लेकिन यह थोड़ा जोखिम भरा है यदि आप केवल चार (तेज गेंदबाज) लेते हैं।

सभी गेंदबाजों को बहुत अधिक तेज गेंदबाजी करने की जरूरत नहीं है - मिचेल जॉनसन

जॉनसन को लगता है कि सभी तेज गेंदबाजों की 145 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार आवश्यक नहीं है। उन्होंने इसके लिए 2013-14 में खेली गई एशेज सीरीज का उदाहरण दिया, जहाँ पीटर सिडल और रयान हैरिस ने जॉनसन के साथ मिलकर अच्छी गेंदबाजी की थी। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ने कहा,

इस तरह की चीजें मजेदार होती हैं (कि सभी को 145 से अधिक पर गेंदबाजी करनी चाहिए)। अगर कोई 145 से अधिक गेंदबाजी कर सकता है, तो आपको उसी गति से गेंदबाजी करने वाले दूसरे व्यक्ति की जरूरत नहीं है। आपको ऐसे लोगों की ज़रूरत है जो एक-दूसरे का समर्थन करें, साथ काम करें। 2013-14 एशेज के दौरान, मेरे बारे में तेज गेंदबाजी करने के बारे में बहुत सारी बातें हुईं और वह बहुत अच्छी थी, लेकिन दूसरे छोर पर, मेरे पास पीटर सिडल और रयान हैरिस थे, जिनके पास अपनी ताकत थी और 140 की गति से गेंदबाजी भी कर सकते थे। तो यह टीम में संतुलन के बारे में है।
ऑस्ट्रेलिया में मुख्य बात अतिरिक्त उछाल और गति है और अपनी लेंथ को एडजस्ट करके, आप थोड़ा दूर रखते हुए थोड़ी बहुत छोटी गेंदबाजी कर सकते हैं।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
App download animated image Get the free App now