‘100 से 200 रुपये मिलते थे...’, अपने जन्मदिन पर मोहम्मद सिराज ने सुनाई करियर के शुरूआती दिनों की भावुक कर देने वाली कहानी

England v India - Fourth LV= Insurance Test Match: Day Five
मोहम्मद सिराज भारतीय टीम के अहम सदस्य बन चुके हैं

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज (Mohammad Siraj) आज अपना 30वां जन्मदिन मना रहे हैं। 13 मार्च को हैदराबाद में जन्मे सिराज ने बहुत कम समय में अपनी कामयाबी की कहानी लिखी है। मियां मैजिक के नाम से मशहूर सिराज के इतने सफल होने की कहानी काफी संघर्षों से जुड़ी हुई है। उनके जन्मदिन पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई (BCCI) ने एक खास वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में सिराज ने खुद अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए भावुक किस्सा फैंस के साथा साझा किया है।

बीसीसीआई द्वारा शेयर किए गए वीडियो में मोहम्मद सिराज ने अपनी कहानी बताते हुए कहा, ‘जब मैं लगभग 18 साल का था तो उस वक्त कैटरिंग में काम करने जाता था। परिवार के लोग मुझे पढ़ाई पर ध्यान लगाने के लिए कहते थे लेकिन मैं हमेशा क्रिकेट खेलना चाहता था। हम किराए के मकान में रहते थे और मेरे पापा घर में अकेले कमाने वाले व्यक्ति थे। इसीलिए मैं काम करता था, भले ही मुझे इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी।’

मोहम्मद सिराज ने अपने संघर्षों के बारे में आगे कहा, ‘मुझे 100-200 रुपये मिलते थे, जिनमें 150 रुपये मैं घर पर दे देता था और 50 रुपये अपने खर्च के लिए रखता था।। उस वक्त जब मैं रूमाली रोटियां बनाने और उसे पलटने की कोशिश करता था तो मेरे हाथ जल जाते थे। मुझे अपने हिस्से का संघर्ष करना पड़ा, तभी जाकर मैं आज यहां हूं।’

इस दौरान मोहम्मद सिराज अपने दिवंगत पिता की बात करते हुए वीडियो में काफी भावुक भी हो गए। बता दें कि इस तेज गेंदबाज के पिता हैदराबाद में ऑटो रिक्शा चलाते थे। उन्होंने सिराज को एक प्रोफेशनल क्रिकेटर बनाने के लिए काफी मेहनत की। सिराज के पिता का निधन 2021 में हुआ और यह तेज गेंदबाज बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के लिए ऑस्ट्रेलिया में था। उनके पिता की मेहनत बेकार नहीं गई और आज सिराज भारतीय टीम के लिए तीनों ही फॉर्मेट में अपनी जगह पक्की कर चुके हैं।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar