Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

15 साल पहले: राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण की साझेदारी, जिसने मैच का पासा पलट दिया था

Ankit Pasbola
ANALYST
फ़ीचर
396   //    Timeless

Enter caption

इस समय भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया में है जहाँ वो बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के 4 मैच खेले रही है। पहले मैच में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 31 रनों से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त ले ली है।

आज हम बात करते हैं ऑस्ट्रेलिया में खेले गए उस मैच की जहाँ पर भारतीय टीम ने पहली पारी में पिछड़ने के बाद भी जीत हासिल की थी।

2003-04 बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी

भारतीय टीम 2003-04 में ऑस्ट्रेलिया में बॉर्डर-गावस्कर सीरिज़ खेलने आयी हुई थी । भारतीय टीम के कप्तान सौरव गांगुली थे जबकि ऑस्ट्रेलिया टीम की कप्तानी रिकी पोंटिंग ने की थी। सीरीज का पहला मैच जो ब्रिसबेन में खेला गया था वो ड्रा हो गया था। दूसरा टेस्ट भारत के लिए ऐतिहासिक साबित हुआ।

मेजबान कप्तान रिकी पोंटिंग का शानदार शतक ऑस्ट्रेलिया की स्थिति हुई मजबूत

एडिलेड ओवल में खेले गए दूसरे टेस्ट में टॉस मेजबान ऑस्ट्रेलिया ने जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। मैच के पहले दिन ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों की जमकर खबर ली और पहले दिन का खेल खत्म होने तक 400 रन बना डाले, जिसमें उनके सिर्फ 5 विकेट गिरे। कप्तान पोंटिंग के 242 रनों के दम पर ऑस्ट्रेलिया ने 556 रनों का विशाल लक्ष्य खड़ा कर दिया। भारत की ओर से सर्वाधिक 5 विकेट अनिल कुंबले ने लिए।

14 दिसम्बर 2003: लक्ष्मण और द्रविड़ की शानदार साझेदारी भारत की मैच में वापसी

जवाब में सहवाग के तेज शुरुआत के बावजूद भारतीय टीम की स्थिति खराब थी। भारत के ऊपरी क्रम के 4 बल्लेबाज महज 85 रन के स्कोर पर पवेलियन लौट गए थे। मैच का रूख पूरी तरह से मेजबानों के पक्ष में था। क्रीज पर आए द्रविड़ और लक्ष्मण ने ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों की परीक्षा ली और भारत की उम्मीदों को बनाये रखा। इन्होंने 303 रनों की विशाल साझेदारी की और भारत को संकट से उबारा। भारत का 5वां विकेट वीवीएस लक्ष्मण के रूप में 388 रनों पर गिरा। उन्होंने 148 रनों की पारी खेली जबकि राहुल द्रविड़ ने शानदार 233 रन बनाए। पहली पारी में भारतीय टीम का जवाब 523 रन था। ऑस्ट्रेलिया की ओर से सर्वाधिक 4 विकेट एंडी बिकेल ने लिए।

भारत का पलटवार

दूसरी पारी में मेजबान टीम महज 196 रन ही बना सकी, जिसका पूरा श्रेय भारतीय टीम के गेंदबाजों को जाता है और खासकर अजीत अगरकर को। अगरकर ने 6 विकेट झटककर भारत को मैच जीतने का एक मौका दिया। सहवाग की तेज शुरुआत और दीवार द्रविड़ के नाबाद 72 रनों की पारी की वजह से मेहमानों ने 230 रनों का लक्ष्य 7 विकट खोकर अपने नाम किया। राहुल द्रविड़ को ' प्लयेर ऑफ द मैच ' चुना गया।


ऑस्ट्रेलिया-भारत टेस्ट सीरीज की सभी खबरों को पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

Tags:
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...