Create

वनडे इतिहास के ऐसे बल्लेबाज़ जिन्होंने एक क्रम पर खेली सबसे ज़्यादा पारियां

SANATH
Himanshu Kothari

क्रिकेट के प्रारूपों में एकदिवसीय प्रारूप काफी लोकप्रिय है। क्रिकेट के मैदान में कोई खिलाड़ी बल्लेबाजी ओर गेंदबाजी में कैसा प्रदर्शन कर सकता है इसका अंदाजा उस खिलाड़ी को एकदिवसीय मैचों में खेलते देखकर लगाया जा सकता है। टेस्ट मैचों में जहां खेल पांच दिनों तक चलता है तो वहीं एकदिवसीय मैच में खेल एक दिन का होता है। क्रिकेट के इस एक दिन के प्रारूप में किसी टीम को रन बनाने के लिए निर्धारित 50 ओवर खेलने के लिए मिलते हैं। टेस्ट मैचों में जहां कोई बल्लेबाज टिक कर खेलता है तो इस प्रारूप में बल्लेबाज को जल्दी रन स्कोर करने होते हैं। वहीं एकदिवसीय मैचों में पॉवरप्ले ओवर का भी काफी महत्व होता है। पॉवरप्ले के दौरान क्रीज पर मौजूद बल्लेबाज को लंबे शॉट खेलने का मौका मिल जाता है, जिससे खिलाड़ी अपनी टीम के लिए उन ओवरों में ज्यादा से ज्यादा रन स्कोर कर सके। इसके साथ ही एकदिवसीय मैचों में खिलाड़ियों की फील्डिंग भी काफी मायने रखती है। टेस्ट मैचों से इतर एकदिवसीय मैच की एक खास बात ये भी है कि इस प्रारूप में खिलाड़ी सफेद ड्रेस में नहीं बल्कि रंगीन ड्रेस में मैदान पर खेलते हैं। हर टीम का अपना-अपना अलग पहचान का रंग होता है। एकदिवसीय प्रारूप आने के बाद इसमें कई बदलाव भी आए। एक ओवर में 8 गेंदों से 6 हो जाना और 60 ओवर से 50 ओवर का खेल हो जाने तक एकदिवसीय मैचों में कई बदलाव देखने को मिले। हालांकि टी20 प्रारूप आ जाने के बाद एकदिवसीय मैचों की लोकप्रियता में थोड़ी कमी आई है लेकिन आज भी एकदिवसीय मैच पहचान बनाए हुए है। एकदिवसीय मैचों में बल्लेबाज की बल्लेबाजी अपनी टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाने के लिए काफी महत्वपूर्ण होती है। किसी टीम के चयनकर्ता भी टीम में उन खिलाड़ियों को ज्यादा मौका देते हैं जो एकदिवसीय मैचों में मैदान पर एक छोर संभाले रहे और रन बनाते रहे। एकदिवसीय मैच में किसी खिलाड़ी का टेस्ट मैच की तरह क्रीज पर टिककर बल्लेबाजी करना इतना मायने नहीं रखता, जितना किसी खिलाड़ी का एकदिवसीय प्रारूप में स्कोर बोर्ड को आगे बढ़ाते रहना रखता है। आइए जानते हैं ऐसे ही बल्लेबाजों के बारे में जिन्होंने एकदिवसीय मैचों में किसी बल्लेबाजी क्रम पर सबसे ज्यादा पारियां खेली हों:

#1 & 2 ओपनर- सनथ जयसूर्या (श्रीलंका) - 383 पारियां

भारत के सचिन तेंदुलकर वनडे इतिहास में सलामी बल्लेबाज के रूप में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज हो सकते हैं लेकिन ओपनर के तौर पर सबसे ज्यादा पारियां खेलने के मामले में श्रीलंका के सनथ जयसूर्या सबसे आगे हैं। 50-50 ओवर के इस फॉर्मेट में श्रीलंका के सनथ जयसूर्या ने सलामी बल्लेबाज के तौर पर सबसे ज्यादा पारियां खेली हैं। श्रीलंका के सनथ जयसूर्या ने सलामी बल्लेबाज के तौर पर बल्लेबाजी करते हुए 445 मैचों में सबसे ज्यादा 383 पारियां खेली हैं। जबकि सचिन तेंदुलकर ने 340 पारियां ही खेली हैं। सलामी बल्लेबाज के तौर पर खेलते हुए सनथ जयसूर्या ने 34.61 की औसत के साथ बल्लेबाजी की है और 12740 रन अपने नाम किए हैं। इसके साथ ही उन्होंने 28 एकदिवसीय शतक भी बनाए हैं। सनथ जयसूर्या ने अपने एकदिवसीय करियर में सबसे ज्यादा 189 रनों की पारी खेली है। ये पारी उनके बल्ले से साल 2000 में भारत के खिलाफ शारजाह में खेली गई। श्रीलंकाई बल्लेबाजी क्रम के एक महत्वपूर्ण बल्लेबाज के तौर पर पहचाने जाने वाले सनथ जयुसूर्या ने कई मौकों पर अपनी टीम के लिए अहम पारियां खेली हैं। सलामी बल्लेबाज के तौर पर शानदार बल्लेबाजी करते हुए सनथ जयसूर्या ने रोमेश कलुविथराणा के साथ मिलकर श्रीलंका की साल 1996 विश्वकप की जीत में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अपने देश के लिए खेलते हुए सनथ जयसूर्या ने कई रिकॉर्ड भी कायम किए। वहीं एकदिवसीय इतिहास में सनथ जयसूर्या तीसरे सबसे अनुभवी खिलाड़ी हैं। SANATH STAT

# 3 रिकी पॉन्टिंग (ऑस्ट्रेलिया) - 330 पारियां

PONTING

एकदिवसीय क्रिकेट में तीसरे नंबर पर सबसे ज्यादा पारियां खेलने के मामले में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग सबसे आगे हैं। अपनी कप्तानी में लगातार दो बार ऑस्ट्रेलिया को विश्व कप का खिताब जीताने वाले रिकी पॉन्टिंग ऑस्ट्रेलिया के लिए ज्यादातर नंबर तीन पर ही बल्लेबाजी करना पंसद करते थे। एकदिवसीय करियर में रिकी पॉन्टिंग ने तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 12662 रन बनाए हैं। दुनिया में पॉन्टिंग ही एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने नंबर 3 पर बल्लेबाजी करते हुए 10000 से ज्यादा रन बनाए हैं। खास बात तो ये रही कि अपने करियर में रिकी पॉन्टिंग ने 30 शतक बनाए हैं और जिसमें से उनके 29 शतक नंबर 3 पर बल्लेबाजी करने के दौरान आए हैं। काफी समय तक रिकी पोटिंग, सचिन तेंदुलकर के बाद एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में दूसरे नंबर पर रहे। लेकिन भारत के विराट कोहली ने उनका ये रिकॉर्ड तोड़ते हुए उन्हें एकदिवसीय मैचों में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में तीसरे नंबर पर धकेल दिया है। ऑस्ट्रेलिया ने साल 2003 और साल 2007 का विश्व कप रिकी पॉन्टिंग की अगुवाई में जीता है। वहीं जोहानसबर्ग में साल 2003 में भारत के खिलाफ खेली गई अपनी पारी में उन्होंने 140 रन बनाए थे जो कि वर्ल्ड कप इतिहास में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण पारियों के रूप में शामिल है। PONTING STAT

# 4 महेला जयवर्धने (श्रीलंका) - 219 पारियां

MAHELA

श्रीलंका के प्रमुख खिलाड़ियों में से एक रहे महेला जयवर्धने के नाम कई रिकॉर्ड दर्ज हैं। इसके साथ ही एकदिवसीय मैचों में सबसे ज्यादा चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने का रिकॉर्ड भी महेला जयवर्धने के नाम ही है। महेला जयवर्धने ने 448 मैचों की 219 पारियों में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी की है। इसके साथ ही महेला जयवर्धने एकदिवसीय इतिहास में दुनिया के दूसरे सबसे अनुभवी बल्लेबाज हैं। हालांकि, अरविंद डी सिल्वा, रॉस टेलर और एबी डीविलियर्स ने नंबर 4 पर बल्लेबाजी करते हुए महेला जयवर्धने से ज्यादा शतक लगाए हैं, लेकिन नंबर 4 पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा पारियां खेलने के साथ ही सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में भी महेला जयवर्धने आगे हैं। नंबर 4 पर बल्लेबाजी करते हुए महेला जयवर्धने ने 35 की औसत से 6947 रन बनाए हैं। नंबर 4 के अलावा महेला जयवर्धने ने श्रीलंका के लिए ओपनर के तौर पर भी काफी पारियां खेली हैं और 43 की औसत से रन बनाए हैं। वहीं नंबर 5 पर उन्होंने 85 मौकों पर बल्लेबाजी की है, लेकिन यह चौथा नंबर ही था जहां महेला जयवर्धने ने एकदिवसीय फॉर्मेट में अपना करियर बनाया था। MAHELA STAT

# 5 अर्जुन रणतुंगा (श्रीलंका) - 153 पारियां

RANATUNGA

श्रीलंका से एक ओर खिलाड़ी ने किसी क्रम में सबसे ज्यादा पारियां खेलने के मामले में रिकॉर्ड स्थापित किया है। श्रीलंकाई टीम से अर्जुन रणतुंगा ने एकदिवसीय इतिहास में सबसे ज्यादा नंबर 5 पर बल्लेबाजी की है। 1996 में विश्व कप विजेता टीम की अगुवाई करने वाले अर्जुन रणतुंगा ने नंबर 5 पर बल्लेबाजी करते हुए 153 पारियां खेली हैं। अर्जुन रणतुंगा एकदिवसीय मैचों में नंबर 5 पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में भी सबसे आगे हैं। उन्होंने 38.63 की औसत से 4675 रन बनाए हैं। उन्होंने श्रीलंका के मध्यक्रम में अरविंद डी सिल्वा के साथ मिलकर कई बार टीम को मुश्किलों हालातों से निकालकर मैच फिनिशर की भूमिका निभाई है। साल 1996 में अर्जुन रणतुंगा ने अपनी कप्तानी में ही ऑस्ट्रेलिया को हराकर श्रीलंका को विश्व कप विजेता बनाया था। RANATUNGA STAT

#6 महेंद्र सिंह धोनी (भारत)- 121 पारियां

MS DHONI

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को एक बढ़िया मैच फिनिशर के तौर पर जाना जाता है। कप्तान के तौर पर उनको अपनी कारगर रणनीतियों के तौर पर भी शोहरत हासिल है। एकदिवसीय मैचों में नंबर-6 पर बल्लेबाजी करते हुए महेंद्र सिंह धोनी ने सबसे ज्यादा पारियां खेलने का रिकॉर्ड बनाया है। नंबर-6 पर बल्लेबाजी करते हुए कई बार महेंद्र सिंह धोनी ने टीम को मुश्किल हालातों से भी बाहर निकालने में भूमिका निभाई है। महेंद्र सिंह धोनी एक विकेटकीपर/बल्लेबाज के तौर पर जाने जाते हैं। आमतौर पर देखा जाता है कि टीम का विकेटकीपर नंबर 7 पर बल्लेबाजी करता है। लेकिन एमएस धोनी को नंबर 6 पर बल्लेबाजी करना सबसे ज्यादा पसंद है। नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते हुए महेंद्र सिंह धोनी ने 121 पारियां खेली हैं। जिसमें उन्होंने 46.79 की औसत से 3931 रन बनाए हैं। महेंद्र सिंह धोनी ने रन चेज करने के मामलों में कई बार टीम के लिए मैच जिताऊ पारियां खेली हैं। नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते हुए धोनी का सर्वोच्च स्कोर साल 2013 में चंड़ीगढ़ में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आया। जब उन्होंने 121 गेंदों में 139 रनों की पारी खेली थी। भारतीय टीम ने साल 2011 में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में एकदिवसीय क्रिकेट प्रारूप में विश्व कप का खिताब अपने नाम किया था। महेंद्र सिंह ने एकदिवसीय प्रारूप में भारतीय टीम की अगुवाई करते हुए साल 1983 के बाद साल 2011 में 28 साल बाद भारत को क्रिकेट में विश्व विजेता बना दिया था। साल 2011 के फाइनल मुकाबले में टीम इंडिया के लिए जिताऊ रन छक्के के रूप में महेंद्र सिंह धोनी के बल्ले से ही निकला था। MS DHONI_STAT

# 7 क्रिस हैरिस (न्यूज़ीलैंड) - 104 पारियां

CHRIS HARRIS

न्यूजीलैंड के ऑलराउंडर क्रिस हैरिस के नाम एकदिवसीय मैचों में सातवें नंबर पर सबसे ज्यादा पारियां खेलने का रिकॉर्ड दर्ज है। नंबर 7 पर बल्लेबाजी करते हुए क्रिस हैरिस ने 104 पारियां खेली हैं। इसके साथ ही नंबर 7 पर सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में भी क्रिस हैरिस सबसे आगे हैं। क्रिस हैरिस ने नंबर 7 पर बल्लेबाजी करते हुए 2130 रन बनाए हैं। हालांकि क्रिस हैरिस इस नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए कभी शतकीय पारी नहीं खेल पाए लेकिन उन्होंने 31.32 की औसत से इस नंबर पर बल्लेबाजी की है। 66.98 के स्ट्राइक रेट के साथ हो सकता है कि क्रिस हैरिस को एकदिवसीय प्रारूप के लिए बहुत धीमी गति से बल्लेबाजी करने वाला समझा जाए लेकिन वह किसी दूसरे बल्लेबाज के साथ मैदान पर आसानी से साझेदारी बनाने के लिए माहिर थे। न्यूजीलैंड की ओर से क्रिस हैरिस एकदिवसीय मैचों के विशेषज्ञ के तौर पर देखे जाते हैं। क्रिस हैरिस न्यूजीलैंड के तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज भी हैं, जिन्होंने 203 विकेट अपने नाम किए हैं। इसके अलावा क्रिस हैरिस एक शानदार फील्डर भी थे। जो कई बार अपनी फील्डिंग से विरोधी खेमे को चौंका देते थे। CHRIS HARRIS STAT

# 8 चामिंडा वास (श्रीलंका) - 103 पारियां

CHAMINDA VAAS

एकदिवसीय क्रिकेट इतिहास में श्रीलंका के चामिंडा वास की गेंदबाजी विरोधी बल्लेबाजों के लिए काफी घातक साबित होती थी। एकदिवसीय मैच में शानदार गेंदबाजी का ट्रैक रिकॉर्ड रखने वाले चामिंडा वास ने बल्लेबाजी में सबसे ज्यादा नंबर 8 पर पारियां खेली हैं। दमदार गेंदबाजी के साथ ही चामिंडा वास की बल्लेबाजी निचले क्रम के बल्लेबाजों के लिहाज से काफी अच्छी थी। चामिंडा वास ने नंबर 8 पर बल्लेबाजी करते हुए 103 पारियां खेली और 15.25 की औसत से 1068 रन अपने नाम किए। हालांकि, जिस खिलाड़ी ने वनडे में नंबर 8 पर सबसे अधिक रन बनाए हैं, वह पाकिस्तान के वसीम अकरम हैं। उसके बाद जिम्बाबे के हीथ स्ट्रेक और दक्षिण अफ्रीका के शॉन पोलॉक हैं। CHAMINDA VAAS STAT

# 9 चामिंडा वास (श्रीलंका) - 68 पारियां

CHAMINDA VAAS 9

नंबर 8 पर बल्लेबाजी करने के साथ ही एकदिवसीय क्रिकेट मैचों में नंबर 9 पर सबसे ज्यादा पारियां खेलने के मामले में भी श्रीलंका के चामिंडा वास सबसे आगे हैं। एकदिवसीय इतिहास में नंबर 9 पर बल्लेबाजी करते हुए चामिंडा वास ने 68 पारियां खेली हैं। इन पारियों में उन्होंने 13.14 की औसत से 552 रन बनाए हैं। नंबर 9 पर बल्लेबाजी करते हुए चामिंडा वास का उच्चतम स्कोर नाबाद 37 रन रहा है जो कि उनके बल्ले से साल 2005 में नागपुर में भारतीय टीम के खिलाफ आया था। वहीं नंबर 9 पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में बांग्लादेश के मशरफे मोर्तजा का नाम आता है। जिन्होंने नंबर 9 पर बल्लेबाजी करते हुए 64 पारियां खेली हैं और 660 रन बनाए हैं। CHAMINDA VAAS 9 STAT

# 10 मुथैया मुरलीधरन (श्रीलंका) - 69 पारियां

MURALITHARAN

एकदिवसीय मैचों में एक ही क्रम पर सबसे ज्यादा पारियां खेलने के रिकॉर्ड के मामले में श्रीलंका के कई खिलाड़ी शामिल हो चुके हैं। वहीं इस लिस्ट में स्पिन के महान खिलाड़ी मुथैया मुरलीधरन भी शामिल हैं। मुथैया मुरलीधरन ने एकदिवसीय मैचों में नंबर 10 पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा पारियां खेली हैं। मुथैया मुरलीधरन की गेंदबाजी क्षमता को हर कोई जानता है लेकिन बल्लेबाजी में भी मुथैया मुरलीधरन कई बार कमाल कर जाते थे। नंबर 10 पर बल्लेबाजी करते हुए मुथैया मुरलीधरन ने 69 पारियां खेली हैं। इन पारियों में उन्होंने 337 रन बनाए हैं। जिसमें से नाबाद 33 रन मुथैया मुरलीधरन का सर्वाधिक स्कोर रहा है। वहीं नंबर 10 पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में पाकिस्तान के वकार यूनिस का नाम सबसे आगे है, जिन्होंने नंबर 10 पर बल्लेबाजी करते हुए 63 पारियों में 478 रन बनाए हैं। MURALITHARAN STAT

# 11 ग्लेन मैक्ग्रा (ऑस्ट्रेलिया) - 66 पारियां

MCGRATH

एकदिवसीय क्रिकेट मैचों में आखिर में नंबर 11 पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा पारियां खेलने के मामले में ऑस्ट्रेलिया के ग्लेन मैक्ग्रा सबसे आगे हैं। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा अपनी गेंदबाजी के लिए मशहूर हैं। ग्लेन मैक्ग्रा क्रिकेट इतिहास में एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिनके नाम एकदिवसीय मैचों में 11 नंबर पर सबसे ज्यादा पारियां खेलने के साथ ही टेस्ट इतिहास में भी 11 नंबर पर सबसे ज्यादा पारियां खेलने का रिकॉर्ड दर्ज है। ग्लेन मैक्ग्रा के नाम एकदिवसीय क्रिकेट इतिहास में सबसे खराब बल्लेबाजी औसत 3.83 दर्ज है। एकदिवसीय मैचों में 11 नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए ग्लेन मैक्ग्रा ने 66 पारियां खेली हैं। इन पारियों में उन्होंने 114 रन बनाए हैं, जिसमें सिर्फ 11 रन ही उनका सर्वाधिक स्कोर है। हालांकि आश्चर्य की बात तो ये है कि जीत की आदत बना चुकी ऑस्ट्रेलियाई टीम का हिस्सा होते हुए भी आखिरी बल्लेबाज के तौर पर ग्लेन मैक्ग्रा को इतनी पारियां खेलने के लिए नसीब हो गई। लेखक: प्रांजल मेच अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor

Comments

comments icon
Fetching more content...