"आईपीएल में और रन बनाता तो चीजें अलग हो सकती थी"- पृथ्वी शॉ ने दिया बड़ा बयान 

पृथ्वी शॉ को टाइफाइड की वजह से कुछ मैच मिस करने पड़े थे
पृथ्वी शॉ को टाइफाइड की वजह से कुछ मैच मिस करने पड़े थे

युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) काफी समय से भारतीय टीम में नहीं नजर आये हैं। युवा बल्लेबाज को फिटनेस टेस्ट में असफल पाया गया था और शायद यही वजह है कि बीसीसीआई (BCCI) ने हालिया सीरीजों के लिए शॉ के नाम पर चर्चा नहीं की। हालाँकि, 22 वर्षीय खिलाड़ी अब अपनी फिटनेस पर कार्य कर रहा है और उन्होंने अपने जिम सेशन के कुछ वीडियो भी इंस्टाग्राम पर साझा किये थे। आईपीएल (IPL) 2022 से पहले बीसीसीआई ने एनसीए में यो-यो टेस्ट लिया था, उसमें शॉ पास नहीं हुए थे। इसके बाद वह टूर्नामेंट में अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे लेकिन बीच में ही टाइफाइड की वजह से उन्हें कुछ मैच मिस करने पड़े।

पृथ्वी शॉ ने दिलीप ट्रॉफी में वेस्ट जोन की तरफ से खेलते हुए नार्थ जोन के खिलाफ 121 गेंदों में 113 रन की शानदार पारी खेली और अपनी अच्छी फॉर्म के संकेत भी दिए।

शॉ ने अपने शतक को खास बताते हुए कहा,

यह (शतक) खास है क्योंकि यह लंबे समय के बाद आया है। ट्रेनिंग के बाद, और खुद को समय देने के बाद, (मैं) ट्रैक पर वापस आ रहा हूं, जो बहुत अच्छा लगता है। मैंने ऑफ सीजन में ज्यादा बल्लेबाजी नहीं की।

शॉ ने माना कि आईपीएल के दौरान फिट होने और कैपिटल्स के लिए अच्छा करने पर चीजें अलग हो सकती थीं। हालाँकि, अब वह एक बार फिर से दावेदारी में वापस आने को तैयार हैं। उन्होंने कहा,

आईपीएल में मुझे टाइफाइड हो गया। तब मैं और खेल खेल सकता था और अपनी टीम के लिए रन बना सकता था। चीजें अलग हो सकती थीं। यह एक चीज है जो गलत हो गई और जाहिर तौर पर उसके बाद मुझे बाहर कर दिया गया। मैंने फिर से ट्रेनिंग ली। देखिए, एक क्रिकेटर के जीवन में ग्राफ हमेशा ऊपर नहीं जा सकता। यह ऊपर और नीचे जाएगा; यह सिर्फ समय है और यह वह वर्ष है जो मेरे लिए बहुत कठिन रहा है। लेकिन मैं एक ऐसा व्यक्ति हूं जो इसे एक चुनौती के रूप में लेता हूँ और इससे बाहर निकलने को देखता हूँ।

आईपीएल 2022 में पृथ्वी शॉ ने दस मैच खेले थे और इस दौरान लगभग 29 की औसत और 152 से भी अधिक के स्ट्राइक रेट से 283 रन जड़े थे। उनके बल्ले से दो अर्धशतकीय पारियां भी आईं थी।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar