Create
Notifications

रविचंद्रन अश्विन टीम के प्रमुख हथियार हैं : सौरव गांगुली

Naveen Sharma

पूर्व भारतीय कप्तान और वर्तमान बंगाल क्रिकेट संघ अध्यक्ष सौरव गांगुली ने भारतीय ऑफ-स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन के शानदार प्रदर्शन पर उनकी तारीफ की है। गांगुली ने कहा “वे एक कठिन गेंदबाज हैं, उन्हें आप जो ज़िम्मेदारी देंगे वे उस पर खरा उतरेंगे और मैं समझता हूँ कि वे भारतीय टीम के मुख्य हथियार है।“ राजकोट में इंग्लैंड के खिलाफ समाप्त हुए पहले टेस्ट मैच में अश्विन के बनाए हुए 70 रनों से उन्हें काफी शाबाशी मिली। अश्विन की यह पारी भारत को इंग्लैंड के विशाल स्कोर के नजदीक पहुँचने में मददगार रही। एक निजी टीवी चैनल से बातचीत करते हुए गांगुली ने तमिलनाडू के इस ऑल राउंडर के बारे में कहा कि अश्विन की बल्लेबाजी और गेंदबाजी के आंकड़े एक संतुलन कायम करते हैं तथा उनके कंधों पर दी गई ज़िम्मेदारी का निर्वहन कर उन्होंने तारीफ़ें बटोरी है। गांगुली ने कहा “ भारत को टेस्ट क्रिकेट में अनिवार्य रूप से पाँच गेंदबाज खिलाने चाहिए क्योंकि छह नंबर पर आपके पास अश्विन जैसा बल्लेबाजी करने वाला खिलाड़ी है। कोई कह सकता है कि अश्विन ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में नहीं खेले हैं, लेकिन आप उन्हें मौका दें और फिर देखें। मुझे लगता है कि उन्होने सफलता की सब तकनीकें हासिल की है। आप उन्हें ज़िम्मेदारी दें जिस पर वे खरा उतरेंगे।“ दबाव के बारे में बात करते हुए पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा कि अश्विन को क्रिकेट का आनंद लेने दीजिए। उनकी पिछले कुछ वर्षों की फॉर्म से ही उन्हें सात मैन ऑफ-द-सीरीज पुरस्कार मिले हैं। भारत जब दबाव की स्थिति में था तब अश्विन ने मैदान में जाकर ऋद्धिमान साहा के साथ महत्वपूर्ण साझेदारी कर टीम को मुश्किल स्थिति से ऊबारा। बल्लेबाजी में सुधार के कारण ही 40 टेस्ट मैचों में अश्विन के आंकड़े महान कपिल देव, इयान बॉथम और इमरान खान से भी अच्छे है। इस पर गांगुली ने कहा “ईमानदारी से कहें तो 40 टेस्ट मैच बहुत होते हैं और अश्विन का इस तरह से प्रदर्शन उनके करियर का संस्करण दर्शाता है। मैं आशा करता हूँ कि वे इसी तरह निरंतर प्रदर्शन करेंगे।“ भारत और इंग्लैंड के बीच राजकोट टेस्ट मैच ड्रॉ रहा था। पाँच मैचों की सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच 17 नवंबर से विशाखपट्नम में खेला जाएगा।


Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...