Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 मौके जब भारत के निचले क्रम के बल्लेबाज़ों ने टीम को मुसीबत से निकाला

ऋषि
ANALYST
Modified 24 Nov 2017, 12:00 IST
Advertisement
भारतीय टीम टेस्ट मैचों पिछले कुछ समय से शानदार प्रदर्शन कर रही है। अपने निरंतर प्रदर्शन की वजह से वह आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में पहले स्थान पर काबिज है। सितंबर 2016 के बाद से कोहली की टीम ने 17 टेस्ट मैच खेले हैं, जिसमें टीम को 13 मैचों में जीत हासिल हुई है वहीं उसे सिर्फ एक मैच में हार का सामना करना पड़ है जबकि 3 मैच ड्रा रहे हैं।
भारतीय टीम की जीत में सभी खिलाड़ियों ने अलग अलग मौकों पर आगे आकर टीम की जीत में योगदान दिया है। वहीं भारत के निचले क्रम के बल्लेबाजों (सातवें से दसवें विकेट के लिए साझेदारी) का भी योगदान काफी रहा है। पिछले साल न्यूज़ीलैंड के भारतीय दौरे के समय से भारतीय टीम के निचले क्रम का प्रदर्शन कुछ इस तरह रहा है:














































         साझेदारी           औसत        शतकीय        अर्धशतकीय           सर्वोच्च
          7वां          55.00            4             4            199
          8 वां          37.57            1             4            241
          9 वां          19.22            0             2             62
         10 वां          23.56            0             1             66
 कुल (7वां से 10 वां)          34.75            5            11            241

Advertisement
भारत के निचले क्रम का बल्लेबाजी औसत 34.75 है, जो बाकी अन्य टीमों से काफी बेहतर है। इसी वजह से भारतीय टीम 5 गेंदबाजों के साथ मैच में उतर पाती है। इन साझेदारियों की वजह से भारतीय टीम कई बार मुश्किल परिस्थितियों से निकल चुकी है।
आज यहां उन्हीं मौकों को बारे में बात करेंगे जब भारत के निचले क्रम के बल्लेबाजों ने टीम को मुश्किल से निकाला
Advertisement
#5 बनाम न्यूजीलैंड, कोलकाता (2016)
SAHA
तेज गेंदबाजों की मददगार ईडन गार्डन्स के पिच पर भारत की टीम ने पहली पारी में 112 रनों की महत्वपूर्ण बढ़त बना ली। लेकिन, दूसरी पारी में न्यूजीलैंड के गेंदबाजों ने जबरदस्त गेंदबाजी करते हुए भारत का स्कोर 106/6 कर दिया और भारत की बढ़त मात्र 218 रनों की ही थी। मैच में काफी समय बचा था और भारत को मैच में सुरक्षित स्थान पर पहुंचने लिए लिए अभी काफी रनों की आवश्यकता थी।
Advertisement
उसके बाद रोहित शर्मा और ऋद्धिमान साहा ने 103 रनों की साझेदारी कर भारत की बढ़त को 300 के पार पहुंचा दिया। रोहित का ईडन गार्डन्स से लगाव जारी रहा और उन्होंने मुश्किल परिस्थिति में 82 रनों की पारी खेली। उसे बाद साहा ने भुवनेश्वर कुमार के साथ भी 36 रनों की महत्वपूर्ण साझेदारी निभाई और खुद 58 रन बनाकर नाबाद रहे। साहा ने मैच की पहली पारी में भी अर्द्धशतकीय पारी खेली थी। निचले क्रम की महत्वपूर्ण साझेदारियों की वजह से भारत ने न्यूज़ीलैंड के सामने 376 का लक्ष्य रखा। पूरी कीवी पारी 197 पर सिमट गयी और भारत ने मुश्किल परिस्थितियों से निकलकर टेस्ट मैच अपने नाम कर लिया।
दूसरी पारी- 106/6 से 263 पर ऑलआउट
निचले क्रम द्वारा बनाया गया रन प्रतिशत- 59.70
1 / 5 NEXT
Published 24 Nov 2017, 12:00 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit