Create

प्रमुख टीम के मेंटर बने एस श्रीसंत ने टी10 प्रारूप में गेंदबाजी को लेकर दिया बड़ा बयान

एस श्रीसंथ ने कहा कि टी10 प्रारूप से कोई खिलाड़ी राष्‍ट्रीय टीम की दावेदारी पेश कर सकता है
एस श्रीसंत ने कहा कि टी10 प्रारूप से कोई खिलाड़ी राष्‍ट्रीय टीम की दावेदारी पेश कर सकता है

भारतीय क्रिकेट टीम (India Cricket team) के पूर्व तेज गेंदबाज एस श्रीसंत (S Sreesanth) इस समय अबु धाबी टी10 लीग (Abu Dhabi T10 League) के छठे संस्‍करण में बांग्‍ला टाइगर्स (Bangla Tigers) के मेंटर बने हुए हैं। श्रीसंत ने टी10 प्रारूप में गेंदबाजी करने के बारे में अपनी राय व्‍यक्‍त की है।

गेंदबाज के टी10 प्रारूप में दृष्टिकोण के बारे में बात करते हुए श्रीसंत ने कहा, 'यह सबसे तेज प्रारूप है और इसमें काफी मजा है। जब आप खतरनाक बल्‍लेबाजों को गेंदबाजी करते हैं तो आपको खुद की हौसला अफजाई करनी होती है। एक गेंदबाज के रूप में आपको विश्‍वास होना चाहिए कि आप विकेट लेंगे और रन के बारे में ज्‍यादा नहीं सोचना चाहिए। मैंने अब तक इसका काफी आनंद उठाया है।'

श्रीसंत की बांग्‍ला टाइगर्स का मौजूदा टूर्नामेंट में प्रदर्शन सराहनीय नहीं रहा है। उसे चार में से तीन मैचों में शिकस्‍त का सामना करना पड़ा है। पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज ने कहा, 'गेंदबाजी इकाई के रूप में हमें निरंतर होने की जरूरत है। हमारे पास तीन मैच हैं और हमें इसमें जीत दर्ज करनी होगी व नेट रन रेट भी बढ़ाना होगा। हमें छोटा ब्रेक मिला है और हम चीजों पर काम करेंगे।'

उन्‍होंने आगे कहा, 'छोटे टूर्नामेंट में एकजुट होना बड़ी बात है। यह बस एक जीत की बात है। हमारी टीम शानदार है और अगर एविन लुईस व कॉल‍िन मुनरो का बल्‍ला चला, तो फिर मजा आ जाएगा।'

श्रीसंत का मानना है कि टी10 प्रारूप से खिलाड़‍ियों को राष्‍ट्रीय टीम और खेल के अन्‍य प्रारूप की फ्रेंचाइजी में दावेदारी पेश करने में मदद मिलेगी। उन्‍होंने कहा, 'आप कोई भी प्रारूप खेलें, वो मददगार हो सकता है। टी10 की सर्वश्रेष्‍ठ बात यह है कि यह काफी तेज है और इस मंच से आपको अपनी शैली दिखाने की अनुमति मिलती है। प्रत्‍येक मैच अलग है और अगर मैं सक्रिय खिलाड़ी होता तो हर बार अपना सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करता।'

श्रीसंत ने कहा, 'आप चाहे नए हो या फिर स्‍थापित खिलाड़ी, बेंचमार्क सेट करना महत्‍वपूर्ण है तो यह बड़ी लीग का ध्‍यान आकर्षित करने में मदद करता है।'

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment