उमेश यादव की कम कीमत को लेकर सबा करीम का बयान

भारत के पूर्व विकेटकीपर और पूर्व बीसीसीआई राष्ट्रीय चयनकर्ता सबा करीम (Saba Karim) को लगता है कि हाल ही में आईपीएल 2021 की नीलामी में तेज गेंदबाज उमेश यादव (Umesh Yadav) का अपेक्षाकृत कम कीमत का टैग उनके सफेद गेंद के क्रिकेट में अनुभव की कमी के कारण था। करीम का मानना है कि ज्यादा अनुभव वाले खिलाड़ी अच्छी कीमत प्राप्त करने में सफल रहे।

स्पोर्ट्सकीड़ा से बातचीत में करीम ने कहा कि उमेश यादव अनुभवी हो सकते हैं लेकिन केवल टेस्ट मैचों के लिहाज से, छोटे प्रारूपों में नहीं। छोटे प्रारूपों में भारतीय पक्ष की संरचना को देखें, आप उमेश यादव को नियमित रूप से प्लेइंग इलेवन या यहां तक कि टीम में नहीं देखते हैं। इसका स्पष्ट अर्थ है कि उमेश यादव का छोटे प्रारूपों में ट्रैक रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं रहा है। सभी आईपीएल फ्रेंचाइजी ने अपना होमवर्क किया है और यही कारण है कि उन्होंने किसी भी रोमांचक घरेलू संभावना या उमेश यादव जैसे अनुभवी भारतीय तेज गेंदबाज की तुलना में विदेशी गेंदबाजों में अधिक विश्वास दिखाया है।

उमेश यादव दिल्ली कैपिटल्स में हैं

उमेश यादव 2010 में अपने आईपीएल डेब्यू के बाद से कैश-रिच टी20 टूर्नामेंट में दिल्ली कैपिटल्स (तब दिल्ली डेयरडेविल्स), कोलकाता नाइटराइडर्स (KKR) और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का हिस्सा रहे हैं। उन्होंने तब से 121 मैच खेले और 119 विकेट लिए। इस बार फिर से उन्हें दिल्ली कैपिटल्स की टीम ने खरीदा है। उनकी बेस प्राइस 1 करोड़ रूपये थी।

उमेश ने कोलकाता नाइटराइडर्स में शिफ्ट होने से पहले दिल्ली के साथ 5 सीज़न खेले, जहाँ वह 2014 से 2017 तक रहे। तब उन्हें रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर द्वारा खरीदा गया, जहाँ उन्होंने आईपीएल 2021 की नीलामी से पहले तक 2018 और 2020 के बीच खेला। उमेश यादव में क्षमता और गति की कमी नहीं है लेकिन कई बार उनकी लाइन ठीक नहीं होती इस वजह से उनकी धुनाई भी होती है।

Quick Links

Edited by निरंजन