Create

"36 की उम्र में हार नहीं मानी", केरल के क्रिकेटर ने श्रीसंत की जमकर तारीफ की

केरल के बल्‍लेबाज सचिन बेबी ने पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंत की जमकर तारीफ की
केरल के बल्‍लेबाज सचिन बेबी ने पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंत की जमकर तारीफ की

केरल (Kerala Cricket team) के बल्‍लेबाज सचिन बेबी (Sachin Baby) ने एस श्रीसंत (S Sreesanth) के कभी न हार मानने वाले एटीट्यूड की तारीफ की है। एस श्रीसंत ने प्रतिबंध खत्‍म होने के बाद 37 की उम्र में प्रतिस्‍पर्धी क्रिकेट में वापसी की।

पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज को बड़ा भाई कहते हुए सचिन बेबी ने कहा कि श्रीसंत की वापसी की कहानी उन लोगों के लिए प्रेरणादायी है, जो कभी हार नहीं मानने पर विश्‍वास करते हैं।

2013 में आईपीएल में स्‍पॉट फिक्सिंग के आरोपों के कारण श्रीसंत पर प्रतिबंध लगा था। फिर बैन समाप्‍त हुआ तो श्रीसंत ने सैयद मुश्‍ताक अली ट्रॉफी के लिए केरल टीम में वापसी की। हालांकि, यह वापसी ज्‍यादा लंबे समय की नहीं रही क्‍योंकि तेज गेंदबाज ने इस साल की शुरूआत में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्‍यास की घोषणा कर दी थी।

सचिन बेबी के मुताबिक श्रीसंत की वापसी अपने आप में एक अलग कहानी है। स्‍पोर्ट्सकीड़ा को दिए इंटरव्‍यू में सचिन बेबी ने कहा, 'केरल टीम में श्रीसंत हम सभी के लिए बड़े भाई जैसे हैं। उन्‍होंने 36 की उम्र में हार नहीं मानकर हम सभी के सामने स्‍टैंडर्ड सेट किया। जो खेल रहा है, उसे पता है कि अगर हम 36 के भी हो गए तो खेल सकते हैं। उन्‍होंने ऐसा कर दिखाया।'

33 साल के सचिन बेबी ने आगे कहा कि जब श्रीसंत टीम का हिस्‍सा नहीं थे तब भी केरल क्रिकेट के बारे में बात करते थे। उन्‍होंने स्‍वीकार किया कि श्रीसंत से उनका विशेष रिश्‍ता है।

सचिन बेबी ने कहा, 'मैंने अब तक जो हासिल किया है, उसमें श्रीसंत ने मेरी काफी मदद की है। जब भी मैं रन नहीं बनाता था, तो वो मुझे कॉल करके मेरा समर्थन करते थे। पिछले सात साल से हम एकसाथ अभ्‍यास कर रहे हैं। हम साथ में ट्रेनिंग करते हैं, मैदान के बाहर या फिर जिम में।'

श्रीसंत की वापसी पर खुशी जताने के साथ-साथ सचिन बेबी ने पूर्व क्रिकेटर को भविष्‍य के लिए शुभकामनाएं दी।

उन्‍होंने कहा, 'मैं बहुत खुश हूं कि श्रीसंत ने वापसी की और टीम के लिए लक्ष्‍य स्‍थापित किया। अगर आप देखें तो उन्‍होंने अच्‍छा प्रदर्शन किया। वो हमारी टीम के सर्वश्रेष्‍ठ विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। क्रिकेट हमेशा से उनके अंदर है। अब जब वो संन्‍यास ले चुके हैं तो मैं उन्‍हें अगली पारी की शुभकामनाएं देता हूं। मेरे ख्‍याल से वो जून या जुलाई में रोड सेफ्टी सीरीज का हिस्‍सा होंगे। उन्‍होंने इसके लिए अच्‍छी तैयारी की है। वो ऐसा व्‍यक्ति है जो कभी हार नहीं मानता। मेरे ख्‍याल से वो 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करेंगे क्‍योंकि वो असल में फिट हैं।'

39 साल श्रीसंत ने केरल के लिए इस साल फरवरी में आखिरी मैच खेला था। यह केरल और मेघालय के बीच रणजी ट्रॉफी मैच था। श्रीसंत ने दो विकेट लिए थे और केरल ने यह मुकाबला एक पारी व 166 रन से जीता था।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment