सचिन तेंदुलकर ने ड्रग्स और एल्कोहोल के खिलाफ मुहिम में केरला सरकार के साथ हाथ मिलाया

भारत के पूर्व महान बल्लेबाज़ सचिन तेंदुलकर कॉम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया-मार्कसिस्ट लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट के आग्रह करने पर केरला सरकार के ड्रग्स और अल्कोहोल के खिलाफ मुहिम में उनका साथ निभाएंगे। हाल ही में केरला के मुख्य मंत्री बने पिनाराई विजयरन ने कहा कि सचिन हमारी एंटी-ड्रग्स प्रोग्राम के चेहरा होंगें। उन्होने प्रैस से बातचीत के दौरान कहा "सचिन ने अपना नाम इस प्रोग्राम में इस्तेमाल करने के लिए अपनी इजाजत दे दी है"। विजयरन ने जोड़ते हुए कहा " केरला में ड्रग्स और एल्कोहोल का इस्तेमाल काफी बड़ गया है और इसके लिए जागरूकता फैलाना ज़रूरी था। इसके लिए हमने सचिन के नाम का इस्तेमाल करने के लिए उनसे कहा था"। उन्होने तेंदुलकर के लिए बोलते हुए कहा "एक व्यक्ति के तौर पर उन्होने ऐसी मुहिम में अपना समर्थन दिया है, जिसकी काफी ज़रूरी थी।" केरला के सीएम ने सचिन के साथ, केरला ब्लास्टर्स फुटबॉल क्लब के सह मालिक, चिरंजीवी, अक्कीनेनी नागार्जुन, अल्लु अरविंद और निममगाड़ा प्रसाद के साथ केरला के स्टेट सचिवाल्या में मीटिंग की। इस मीटिंग के बाद विजयन ने कहा कि केबीएफसी स्टेट में एक फूटबाल कैम्प लगाएँगी, जिसमे युवा टैलंटस को तराशा जाएगा। इस मौके पर तेंदुलकर ने कहा इस कैंप का मकसद, अगले 5 साल में इस स्टेट से 100 वर्ल्ड क्लास फुटबॉल खिलाड़ी निकालना होगा"। क्रिकेट की दुनिया में सबसे अच्छे बल्लेबाजों में सचिन का नाम हमेशा ही रहा है। क्रिकेट को अलविदा कहे हुए सचिन को दो साल से ऊपर हो चुका है, पर अभी भी वो मार्केट की पहली पसंद हैं। एक भारत रत्न को इस प्रोग्राम का चेहरा बनाने का मतलब इसे नई उच्चाइयों पर पहुंचाना हैं । सचिन तेंदुलकर 5-21 अगस्त तक होने वाले रियो ओलंपिक में इंडियन ओलंपिक संघ के गुडविल अम्बैस्डर भी हैं। राज्य सभा के सदस्य होने के नाते उन्हें भारत सरकार की तरफ से 'आइ सपोर्ट स्किल इंडिया' को भी प्रोमोट कर रहे हैं। लेखक- वत्सल यादव, अनुवादक- मयंक महता