Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

बिली बॉडेन के बारे में वो दिलचस्प बातें जो आप नहीं जानते होंगे

बिली बॉडेन
बिली बॉडेन
Naveen Sharma
FEATURED WRITER
Modified 11 Apr 2020, 17:09 IST
विशेष
Advertisement

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे मजाकिया अम्पायर का आज जन्मदिन है। मैदान पर दर्शकों के अलावा खिलाड़ियों को भी अपने अजीब इशारों से हंसाने वाले बिली बॉडेन 57वां जन्मदिन मना रहे हैं। मैदान पर चौके-छक्के और वाइड से लेकर आउट भी वे अलग तरीके से देते थे। इसी वजह से दर्शक उनसे सबसे ज्यादा प्यार किया करते थे। इस लेख के माध्यम से बिली से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातों के बारे में जिक्र करेंगे।

बिली अपनी युवा उम्र (बीस साल) में एक तेज गेंदबाज हुआ करते थे लेकिन बाद में उन्हें रुमेटाइड अर्थराइटिस जैसी बीमारी के कारण क्रिकेट छोड़ना पड़ा। इस बीमारी में इन्सान के जोड़ों में दर्द, सूजन, टेढ़ापन आदि कई समस्याएँ आती है और सालों तक इसका इलाज चल सकता है। बिली ने क्रिकेट खेलना छोड़ दिया लेकिन इस खेल से उन्हें इतना लगाव था कि वे अम्पायरिंग की दुनिया में आ गए।

टेढ़ी ऊँगली से निर्णय क्यों देते थे

बीमारी के कारण बिली बॉडेन अपने हाथों की उँगलियाँ सीधी कर पाने में असमर्थ थे इसलिए वे टेढ़ी ऊँगली से आउट का इशारा करते थे। उनका यह अंदाज दर्शकों और खिलाड़ियों को ख़ासा पसंद आया और यह अंदाज उनकी पहचान बन गया। इस अलग अंदाज के चलते बिली ने चौके-छक्के और वाइड आदि में भी अलग ही इशारों का इस्तेमाल करते हुए दर्शकों को खूब हंसाया। उनके रिटायर होने के बाद भी दर्शक उन्हें आज भी याद करते हैं।

मैदान पर फुटबॉल मैच की तरh रेड कार्ड दिखाया

इस अम्पायर ने चेतावनी जारी करने के लिए मुंह का इस्तेमाल नहीं करते हुए रेड कार्ड दिखाया। जो चीज फुटबॉल में होती है, वह बिली ने क्रिकेट में की। उन्होंने अपने अम्पायरिंग जीवन में ग्लेन मैक्ग्रा और अफगानिस्तान के विकेटकीपर मोहम्मद शहजाद को रेड कार्ड दिखाकर चेतावनी जारी की थी। उनका यह अंदाज भी दर्शकों को बहुत रास आया था।

नाटकीय अम्पायरिंग अंदाज

आम तौर पर अम्पायर चौके या छक्के के लिए साधारण इशारा कर देते हैं लेकिन बिली के मामले में ऐसा नहीं था। उन्होंने छक्के के लिए एक टांग हवा में रखते हुए दोनों हाथों की उँगलियों को टेढ़ा कर छक्के का इशारा करने की शैली दिखाई।

रिटायरमेंट

आईसीसी के लिए 200 वनडे और 84 टेस्ट में अम्पायरिंग करने वाले इस अम्पायर को 2013 में एलिट पैनल से हटा दिया गया था लेकिन वे 2014 में वापस आ गए। इसके बाद 2015 में वे स्थायी रूप से रिटायर हो गए। उन्हें हटाने का कारण नहीं बताया गया लेकिन ऐसी खबरें आई थी कि प्रदर्शन की वजह से न्यूजीलैंड क्रिकेट ने उन्हें अपने पैनल से हटा दिया।

Published 11 Apr 2020, 13:52 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit