सौरव गांगुली को बीसीसीआई की एक और समिति का सदस्य बनाया गया

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली को बीसीसीआई ने एक नई जिम्मेदारी दी है। मंगलवार को विशेष जनरल मीटिंग में उन्हें न्यायधीश लोढ़ा की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित समिति की सिफारिशों को लागू करने और उनका विश्लेषण करने वाली 7 सदस्यीय समिति का सदस्य बनाया गया है। मीटिंग में यह निर्णय लिया गया था कि लोढ़ा समिति के निर्णयों को लागू करने के लिए समिति गठित की जाएगी। बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने एक बयान जारी कर कहा कि विशेष जनरल मीटिंग में माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित लोढ़ा समिति की सिफारिशें लागू करने के सम्बन्ध में निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि एक सात सदस्यीय समिति कुछ मुख्य बिंदूओं को चिन्हित कर इन्हें लागू कर सुप्रीम कोर्ट को सबमिट करने से पहले अध्ययन करेगी। सात सदस्यों वाली इस समिति में सौरव गांगुली के अलावा छह अन्य सदस्य भी हैं. दादा के साथ राजीव शुक्ला, टी.सी. मैथ्यू, नाबा भट्टाचार्य, जय शाह, अनिरुद्ध चौधरी, अमिताभ चौधरी आदि हैं। गौरतलब है कि बीसीसीआई की सुप्रीम कोर्ट की अगली सुनवाई की तारीख 14 जुलाई है, ऐसे में सभी चीजें समय पर निपटाने की भी जरूरत रहेगी। उल्लेखनीय है कि पूर्व भारतीय कप्तान बोर्ड की क्रिकेट सलाहकार समिति में भी सदस्य हैं, इसमें उनके साथ सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण जैसे दिग्गज नाम शामिल हैं। गांगुली को बोर्ड की नई समिति में सदस्य बनाने के पीछे उनका प्रशासनिक अनुभव भी हैं। वे वर्तमान में बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी का निर्वहन भी कर रहे हैं। क्रिकेट में सुधार लाने वाले प्रस्तावों के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा पिछले साल गठित लोढ़ा समिति ने बोर्ड को कई अहम सुझाव दिए थे लेकिन उन्हें लागू करने के लिए अभी तक एकरूपता नहीं आई है और कोर्ट में सुनवाई चल रही है। लोढ़ा समिति की सिफारिशों के अंतर्गत बोर्ड के कई अहम पदों पर आसीन लोगों को हटाया जा चुका है।