Create
Notifications

सौरव गांगुली ने 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता में मिली ऐतिहासिक टेस्ट जीत को याद किया

भारतीय टीम ने इतिहास रचा था
भारतीय टीम ने इतिहास रचा था
निशांत द्रविड़

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज सौरव गांगुली ने 2001 कोलकाता टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मिली ऐतिहासिक टेस्ट जीत को याद किया है। गौरतलब है कि भारत ने ईडन गार्डन्स में खेले गए उस टेस्ट में फॉलोऑन पारी खेलने के बाद ऑस्ट्रेलिया को हराया था। उस मैच को वीवीएस लक्ष्मण के 281 और राहुल द्रविड़ के साथ उनकी 376 रनों की जबरदस्त साझेदारी एवं हरभजन सिंह के हैट्रिक के लिए याद रखा जाता है।

ट्विटर पर एक यूजर ने भारतीय टीम के जीत के बाद के जश्न के लम्हों को लेकर एक वीडियो शेयर किया था। उसी वीडियो को शेयर करते हुए बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरव गांगुली ने लिखा - 'क्या शानदार जीत थी।'

ऑस्ट्रेलिया ने उस मैच में टॉस जीतकर पहले खेलते हुए स्टीव वॉ के 110 रनों की मदद से 445 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा किया। हालाँकि ऑस्ट्रेलियाई मध्यक्रम को युवा स्पिनर हरभजन सिंह ने जबरदस्त झटका दिया था और भारत की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में हैट्रिक लेने वाले पहले खिलाड़ी भी बने थे। ऑस्ट्रेलिया के बड़े स्कोर के जवाब में भारतीय टीम पहली पारी में सिर्फ 171 रन बनाकर ऑल आउट हो गई, जिसमें वीवीएस लक्ष्मण ने 59 रनों का योगदान दिया।

यह भी पढ़ें - महेंद्र सिंह धोनी में अभी भी काफी क्रिकेट बाकी है: सुरेश रैना

ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में 274 रनों की विशाल बढ़त हासिल हुई और उन्होंने भारत को फॉलोऑन के लिए बुलाया। दूसरी पारी में एक समय भारतीय टीम का स्कोर 115/3 हो गया था और पारी की हार का खतरा मंडरा रहा था, लेकिन यहाँ से तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने आये वीवीएस लक्ष्मण ने पहले कप्तान सौरव गांगुली (48) के साथ चौथे विकेट के लिए 117 रन जोड़कर टीम को संभाला।

दादा के आउट होने के बाद राहुल द्रविड़ बल्लेबाजी करने आये और उसके बाद मैच में जो हुआ वो इतिहास के पन्नों में दर्ज़ हो गया। लक्ष्मण और द्रविड़ ने पांचवें विकेट के लिए 376 रनों की बेहतरीन साझेदारी निभाई और टीम को 600 के पार पहुंचा दिया। वीवीएस लक्ष्मण ने 281 रनों की शानदार पारी खेली, जो उस समय टेस्ट में किसी भी भारतीय बल्लेबाज का सबसे बड़ा स्कोर था। राहुल द्रविड़ ने 180 रनों का योगदान दिया एवं भारत ने अपनी दूसरी पारी 657/7 के स्कोर पर घोषित की और ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 384 रनों का मुश्किल लक्ष्य दिया।

मैच के पांचवें दिन ऑस्ट्रेलियाई टीम दूसरी पारी में 212 रन बनाकर ऑल आउट हो गई और भारत ने ऐतिहासिक जीत दर्ज़ की। टेस्ट इतिहास में सिर्फ तीसरी बार ऐसा हुआ था जब फॉलोऑन करने के बाद किसी टीम ने टेस्ट जीता हो। हरभजन सिंह ने मैच में 13 विकेट लिए, वहीं लक्ष्मण को उनकी यादगार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया।


Edited by निशांत द्रविड़

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...