SAvIND: 5 खिलाड़ी जो भारत को पहली बार दक्षिण अफ़्रीका में टेस्ट सीरीज़ में जीत दिला सकते हैं

VK

पिछले डेढ़ साल से टीम इंडिया क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट में अपने बेहतरीन फ़ॉर्म में है। फ़िलहाल भारत आईसीसी की रैंकिंग में टॉप पर बरक़रार है, विराट कोहली की टीम ने अपने घरेलू सीज़न में शानदार प्रदर्शन किया है और लगातार कई टेस्ट सीरीज़ जीतने में कामयाबी हासिल की है। हांलाकि टीम इंडिया को इस बात का एहसास है कि दक्षिणअफ़्रीका में होने वाली सीरीज़ में उनका असली इम्तिहान होगा और ये सीरीज़ तय कर सकती है कि भारत विदेशी ज़मीन पर खेलने में कितना माहिर हुआ है। अगले साल की शुरुआत में टीम इंडिया प्रोटियाज़ के ख़िलाफ़ 3 टेस्ट मैचों की सीरीज़ खेलेगी। अगले 12 महीनों में भारत को इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के भी दौरे पर जाना है। ऐसे में ये बात साफ़ है कि साल 2018 भारत के लिए चुनौतियों से भरा होने वाला है। यहां हम उन 5 भारतीय खिलाड़ियों के बारे में बता रहे हैं जो टीम इंडिया को दक्षिण अफ़्रीका की सरज़मीं पर पहली बार टेस्ट सीरीज़ में जीत दिला सकते हैं।

#1 विराट कोहली

अगर भारत कोई सीरीज़ खेल रहा हो और टीम इंडिया के फ़ैंस विराट कोहली से उम्मीदें न लगाएं, ऐसा कतई मुमकिन नहीं है। यही वजह है कि टीम इंडिया अगले साल साउथ अफ़्रीका के दौरे पर जा रही है, ऐसे में भारतीय कप्तान से उम्मीदें कहीं ज़्यादा हैं। मौजूदा दौर में कोहली ने क्रिकेट के हर फॉर्मेट में काफ़ी रन बनाए हैं और वो अपने करियर के बेहतरीन फ़ॉर्म में हैं। दक्षिण अफ़्रीका में भी उनका रिकॉर्ड काफ़ी अच्छा रहा है। कोहली अपनी ज़िदगी का सबसे बेहतरीन गेम खेल रहे हैं, और फ़िलहाल उनसे बेहतर पूरी दुनिया में कोई भी बल्लेबाज़ नहीं है। भारतीय कप्तान ये बात अच्छी तरह जानते हैं कि वो टीम के लिए कितने अहम हैं। उनका खेल भारत को साउथ अफ़्रीकी मैदान पर पहली बार टेस्ट सीरीज़ जिता सकता है।

#2 चेतेश्वर पुजारा

CP

राहुल द्रविड़ के संन्यास के बाद चेतेश्वर पुजारा को टीम इंडिया की नई दीवार कहा जाता है। फ़िलहाल पुजारा साल 2017 में टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। जिस तरह के फ़ॉर्म में उन्होंने टेस्ट क्रिकेट खेला है और जिस तरह की मज़बूती उन्होंने टीम को दी है वो क़ाबिल-ए-तारीफ़ है। भारत को उम्मीद है कि पुजारा साउथ अफ़्रीका में भी पिच पर ज़्यादा वक़्त बिताएंगे और शतक भी जड़ेंगे। दीवार की तरह मज़बूत इस खिलाड़ी में विपक्षी टीम के गेंदबाज़ों को थका देने की क़ाबिलियत है। वो एक छोर पर मज़बूती के साथ टिके रहते हैं और टीम की बल्लेबाज़ी को मज़बूती देते हैं। पुजारा उन चुनिंदा भारतीय खिलाड़ियों में से हैं जिन्होंने पिछले साउथ अफ़्रीकी दौरे में बढ़ियां प्रदर्शन किया था। उनका संयम पूरी टीम इंडिया के लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकता है।

#3 उमेश यादव

UY

उमेश यादव जब गेंदबाज़ी करते हैं तो ऐसा लगता है कि वो विपक्षी बल्लेबाज़ पर गोलियां बरसा रहे हैं। उनकी रिवर्स स्विंग साउथ अफ़्रीकी तेज़ गेंदबाज़ कगिसो रबाडा और डेल स्टेन को टक्कर दे सकती है। घरेलू सीरीज़ में उमेश टीम इंडिया के दूसरे तेज़ गेंदबाज़ के तौर पर टीम इंडिया में शामिल थे। लेकिन अब लगता है कि वो टीम में गेंदबाज़ों की अगुवाई कर सकते हैं। उमेश गेंदबाज़ी में जितने ख़तरनाक हैं, उतने ही अनुशासित भी। साउथ अफ़्रीका के मैदान में पिच काफ़ी तेज़ होती है जो यादव की पेस और बाउंस गेंदबाज़ी के लिए मुफ़ीद साबित हो सकती हैं। पिछले कुछ वक़्त से यादव की पेस गेंदबाज़ी की लाइन और लेंग्थ में काफ़ी सुधार आया है। कोहली और टीम इंडिया के बाक़ी खिलाड़ियों को उम्मीद है कि उमेश साउथ अफ़्रीका में बेहतर प्रदर्शन करेंगे।

#4 रविचंद्रन अश्विन

RA

मौजूदा दौर में अश्विन को दुनिया का बेहतरीन स्पिनर कहा जाता है। अगले साउथ अफ़्रीका दौरे में उन्हें अपना ये रुतबा बरक़रार रखना होगा। अश्विन के लिए पिछला साउथ अफ़्रीकी दौरा बेहद बुरा रहा था जिसकी वजह से उन्हें टीम से बाहर भी होना पड़ा था। उसके बाद अश्विन ने काफ़ी मेहनत की और वो आज टीम इंडिया के टॉप स्पिन गेंदबाज़ बन गए हैं। कई मौक़े पर वो विपक्षी गेंदबाज़ों के लिए क़हर बनते हैं। अब उन्हें विदेशी पिचों पर भी ख़ुद को साबित करना है। अश्विन को साउथ अफ़्रीका के मैदान में बाउंसी पिच का भी लुत्फ़ उठाना होगा। अश्विन के बारे में जितना सोचा जाता है वो उससे कहीं बेहतर गेंदबाज़ हैं। अगली सीरीज़ में वो साउथ अफ़्रीकी बल्लेबाज़ के लिए मुश्किल पैदा कर सकते हैं। अगर वो साउथ अफ़्रीकी बल्लेबाज़ों की सीझेदारी नियमित अंतराल पर तोड़ पाए तो ये भारत के लिए फ़ायदेमंद साबित होगा।

#5 शिखर धवन

SD

शिखर धवन को टीम इंडिया का गब्बर भी कहा जाता है, वो इस वक़्त अपने बेहतरीन फ़ॉर्म में खेल रहे हैं। वो क्रिकेट के हर फॉर्मेट में अपनी टीम के लिए ज़्यादा से ज़्यादा रन बना रहे हैं। वो मैच में एक अटैकिंग शुरुआत देते हैं और जल्दी रन बनाने की कोशिश करते हैं। उनके द्वारा दी गई एक मज़बूत शुरुआत आगे खेलने वाले बल्लेबाज़ों का काम बेहद आसान कर देती है। जिस तरह की वो ख़ौफ़नाक बल्लेबाज़ी करते हैं, तो ऐसे में उम्मीद की जानी चाहिए कि वो साउथ अफ़्रीकी गेंदबाज़ों की लय बिगाड़ देंगे। अगर उनकी बल्लेबाज़ी शानदार रही तो भारत को साउथ अफ़्रीका में पहली टेस्ट सीरीज़ में जीत मिल सकती है।

लेखक – करण सेठी अनुवादक- शारिक़ुल होदा
Edited by Staff Editor