Create
Notifications

स्पोर्ट्सकीड़ा 2016-17 रणजी ट्रॉफी टीम ऑफ द टूर्नामेंट

CONTRIBUTOR
Modified 17 Jan 2017

  2016-17 रणजी ट्रॉफी सीज़न शनिवार को खत्म हुआ। फाइनल में गुजरात ने मुंबई को ऐतिहासिक मैच में 5 विकेट से हराया। इसके साथ ही गुजरात ने 83 साल का रणजी ट्रॉफी का सूखा भी खत्म कर दिया। ये पहला मौका है जब गुजरात की टीम घरेलू मैच की इस सबसे बड़ी ट्रॉफी पर कब्जा जमाया है। टूर्नामेंट के इस सत्र में कई खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया, और अपने राज्य को जिताया। कुछ खिलाड़ियों ने प्रभावित किया, तो कुछ ने बेहतर प्रदर्शन कर भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल होने की दस्तक दे दी है। इनमें से कुछ को शेष भारत और इंडिया A में इंग्लैंड के खिलाफ अभ्यास मैच में शामिल कर सम्मानित किया गया। ऋषभ पंत ने सभी से एक कदम आगे निकलकर इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली टी-20 टीम में जगह बनाई। आईए जानते हैं कि स्पोर्ट्सकीड़ा 2016-17 रणजी टीम ऑफ द टूर्नामेंट में किन खिलाड़ियों ने जगह बनाई है –


सलामी बल्लेबाज priyank-panchal-pti-m प्रियांक पंचाल टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले सलामी बल्लेबाज बने। गुजरात के इस ओपनर  बल्लेबाज ने सिर्फ 10 मैचों में 87.33 की औसत से 1310 रन बनाकर सनसनी मचा दी है। पंचाल ने अपनी टीम को ट्रॉफी जीतने के अभियान में अहम भूमिका अदा की। टूर्नामेंट में इस मुकाम को हासिल करने के लिए उन्होंने 9 अर्धशतक और पांच शतक लगाए, इसमें एक दोहरा शतक और तिहरा शतक भी शामिल है। एक समय में पंचाल वीवीएस लक्ष्मण के 1999-2000 के रिकॉर्ड को तोड़ने के करीब पहुंच गये थे। लक्ष्मण ने उस सत्र में 1415 रन बनाये थे, और पंचाल ने 1310 बनाये। यानी वो महज 105 रन से लक्ष्मण का रिकॉर्ड तोड़ने में नाकाम रहे। इस उपलब्धि के लिए उन्हें स्पोर्ट्सकीड़ा 2016-17 में ओपनर के रूप में चुना जाता है। लेकिन, कुछ और सलामी बल्लेबाजों ने भी अपनी बल्लेबाजी से प्रभावित करते हुए पंचाल के साथ ओपनिंग के लिए जगह बनाने की कोशिश की है। हरियाणा के नितिन सैनी और हिमाचल प्रदेश के प्रशांत चोपड़ा ने अपनी टीम के लिए अच्छी बल्लेबाजी की। कहा जा सकता है कि अंतिम 11 में जगह बनाने की इनकी कोशिश अद्भुत रही। सैनी ने 18 पारियों में 61.81 की औसत से 989 और चोपड़ा ने 15 पारियों में 57 की औसत से 978 रन बनाये। रन बनाने की सूची में ये दोनों क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे। बावजूद इसके, तमिलनाडु के कप्तान
अभिनव मुकुंद ने पंचाल के साथ ओपनिंग करने का स्थान सैनी और चोपड़ा से छीन लिया। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने अपनी टीम को अपने दमपर सेमीफाइनल तक का सफर पूरा किया। उन्होंने 14 पारियों में 65 की औसत से 849 रन बनाए। इस सफर में मुकुंद ने 4 शतक और 3 अर्धशतक भी लगाये। एक मौके पर दुर्भाग्यवश 99 पर आउट हो गये।
1 / 5 NEXT
Published 17 Jan 2017
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now