सुपरनोवाज की तीसरी बार विमेंस टी20 चैलेंज खिताबी जीत के बाद कप्तान हरमनप्रीत कौर ने दिया बड़ा बयान

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली और सेक्रेटरी जय शाह से ट्रॉफी प्राप्त करती हुईं हरमनप्रीत कौर (PIC - iplt20.com)
बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली और सेक्रेटरी जय शाह से ट्रॉफी प्राप्त करती हुईं हरमनप्रीत कौर (PIC - iplt20.com)

शनिवार को पुणे में सुपरनोवाज ने विमेंस टी20 चैलेंज 2022 (Women's T20 Challenge 2022) के फाइनल मुकाबले में वेलोसिटी को चार रन से हराते हुए ख़िताब जीता। कप्तान हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) की अगुवाई में बड़े मुकाबले में सुपरनोवाज ने दबाव को बेहतर तरीके से संभाला और तीसरी बार ख़िताब पर कब्जा जमाया। खिताबी जीत के बाद हरमनप्रीत ने सोफी एक्लेस्टन और अपनी साथी खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की।

मैच के बाद उन्होंने कहा,

मेरी दिल की धड़कन हमेशा ही सामान्य थी। मुझे पता था कि यह खेल ऐसा ही होने वाला है और मैं इसके लिए तैयार थी। लड़कियों का सराहनीय प्रयास। हमें कभी नहीं लगा कि हमने मैच जीत लिया है और हमें पता था कि कुछ भी हो सकता है। पहला ओवर हमारे पक्ष में नहीं था लेकिन मुझे पता था कि अगर हमें 2 विकेट जल्दी मिल जाते हैं तो मैच हमारे लिए बदल सकता है। सही समय पर हमें विकेट मिल रहे थे। जब पूजा ने शुरुआत की तो हमने कुछ और प्लान किया था लेकिन वह उस तरह की गेंदबाजी नहीं कर पा रही थी।

सोफी एक्लेस्टन ने काफी कसी हुई गेंदबाजी की और चार ओवर में 28 रन खर्च करते हुए दो विकेट भी चटकाए। सोफी की गेंदबाजी को लेकर सुपरनोवास की कप्तान ने कहा,

सोफी ने जिस तरह से गेंदबाजी की वह शानदार थी। वह काफी आश्वस्त थी। अगर आपके पास ऐसा गेंदबाज है जो इतना आत्मविश्वासी है, तो आधा काम हो जाता है। मैं बस उसे प्लेसमेंट दे रही थी और वह उसी तरह से गेंदबाजी कर रही थी जिस तरह से वह गेंदबाजी करना चाहती थी। जब आपके पास टीम के साथी होते हैं जो हमेशा हर पल खेलना चाहते हैं, तो आप ऐसा करते हैं कि चाहे चीजें आपके पक्ष में हों या न हों।

आपको बता दें कि टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए सुपरनोवाज ने डिआंड्रा डॉटिन (42 गेंद, 64 रन) और हरमनप्रीत कौर की (29 गेंद, 43 रन) की पारियों की मदद से 20 ओवर में सात विकेट खोकर 165 रन बनाये। जवाब में वेलोसिटी के लिए लॉरा वोल्वार्ट ने 40 गेंदों में 65 रन की नाबाद पारी खेली लेकिन वह अपनी टीम को चार रन की करीबी हार से नहीं बचा पाईं।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar