Create

3 कारणों से युजवेंद्र चहल को भारतीय टी20 विश्व कप टीम में शामिल किया जाना चाहिए 

युजवेंद्र चहल को भारतीय स्क्वॉड में मौका नहीं दिया गया है
युजवेंद्र चहल को भारतीय स्क्वॉड में मौका नहीं दिया गया है
reaction-emoji
Prashant Kumar

आईसीसी टी20 क्रिकेट विश्व कप 2021 (T20 World Cup 2021) का की शुरुआत इस महीने होनी है। संयुक्त अरब अमीरात में होने वाले इस टी20 क्रिकेट के सबसे बड़े टूर्नामेंट के लिए जीतने वाले दावेदारों में भारतीय टीम (Indian Cricket Team) को भी एक प्रबल दावेदार माना जा रहा है। इस विश्व कप के लिए भारतीय टीम का पिछले ही महीनें चयन किया गया है, जिसमें चयनकर्ताओं ने टीम को पूरी तरह से संतुलन बनाने के लिए युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का अच्छा मिश्रण चुना है। विराट कोहली (Virat Kohli) एंड कंपनी में कुछ नाम हैरान करने वाले शामिल किए गए तो कुछ खिलाड़ियों को प्रबल दावेदार होने के बाद भी टीम में शामिल नहीं किया गया। चयनकर्ताओं ने हालिया प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए खिलाड़ियों को चुना और इसी वजह से प्रमुख लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) जगह बनाने से चूक गए।

पिछले कुछ सालों से फिरकी गेंदबाज युजवेन्द्र चहल भारतीय क्रिकेट टीम के लिए लिमिटेड ओवर्स की क्रिकेट में प्रमुख स्पिनर की भूमिका निभा रहे थे। उन्होंने खासकर टी20 क्रिकेट में कमाल का प्रदर्शन किया है, लेकिन उन्हें उनके पिछले कुछ मैचों में साधारण प्रदर्शन के कारण टीम में शामिल नहीं किया गया। हालंकि चहल ने आईपीएल 2021 के दूसरे चरण में शानदार गेंदबाजी की है और इसी वजह से उनको शामिल किये जाने की चर्चा फिर से शुरू हो गयी है। इस आर्टिकल में हम उन 3 प्रमुख कारणों का जिक्र करने वाले हैं, जिनके आधार चहल को शामिल किया जाना चाहिए।

3 कारणों की वजह से युजवेंद्र चहल को भारतीय टी20 विश्व कप टीम में शामिल किया जाना चाहिए

#3 युजवेंद्र चहल का अनुभव अहम साबित हो सकता है

चहल लम्बे समय से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल रहे हैं
चहल लम्बे समय से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल रहे हैं

युजवेंद्र चहल को लेकर भारतीय टीम के लिए पिछले करीब 4 साल से लगातार खेल रहे हैं। उनकी शानदार गेंदबाजी ने ही आर अश्विन जैसे अनुभवी खिलाड़ी को बाहर का रास्ता दिखाने पर मजबूर किया। चहल ने वनडे हो या टी20 क्रिकेट दोनों ही प्रारूपों में भारतीय टीम के लिए लगातार खेले हैं, जिससे उन्हें सीमित ओवर के फॉर्मेट का जबरदस्त अनुभव है। ऐसे में उन्हें अगर टी20 विश्व कप में चुना जाता तो निश्चित रूप से उनका ये 4-5 साल का अनुभव टीम के लिए उपयोगी साबित होता। अंतरराष्ट्रीय टी20 में अब तक चहल ने 49 टी20 मैच खेले हैं जिसमें 63 विकेट अपने नाम किए हैं।

#2 विकेट निकालने के लिए परिस्थितियों पर निर्भर ना रहना

चहल एक चतुर गेंदबाज हैं
चहल एक चतुर गेंदबाज हैं

युजवेंद्र चहल की गेंदबाजी में सबसे ख़ास बात यह है कि वह परिस्थितियों के हिसाब से खुद की गेंदबाजी में बदलाव कर विकेट चटकाने का दमखम रखते हैं। चहल ने स्पिन पिचों पर तथा बल्लेबाजी के लिए मददगार विकेटों पर भी अपनी गेंदबाजी से मैच जितवाए हैं। यूएई की धीमी पिचों में भी उनकी गेंदबाजी खूब कमाल दिखा सकती है और इससे भारत को काफी फायदा होगा।

#1 चहल का मौजूदा फॉर्म

चहल विकेट लेने के बाद आरसीबी के कप्तान विराट कोहली के साथ जश्न मनाते हुए
चहल विकेट लेने के बाद आरसीबी के कप्तान विराट कोहली के साथ जश्न मनाते हुए

युजवेन्द्र चहल भले ही भारत के लिए खेले अंतिम कुछ टी20 मैचों में अच्छा नहीं कर सके, लेकिन उन्होंने इस मौजूदा आईपीएल सीजन में अपनी गेंदबाजी से दम दिखाया है। उन्होंने इस सीजन में शानदार गेंदबाजी करते हुए अब तक 14 विकेट हासिल किए हैं। वो यूएई में अपनी फिरकी का जादू दिखा रहे हैं और यूएई में ही खेले जाने वाले टी20 विश्व कप में भी वह अपनी इस लय को कायम रखते हुए विरोधी बल्लेबाजों के लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं। ऐसे में उनकी मौजूदा फॉर्म को ध्यान में रखते हुए, उन्हें टी20 विश्व कप के लिए मौका दिया जाना चाहिए।

Edited by Prashant Kumar
reaction-emoji

Comments

Quick Links

More from Sportskeeda
Fetching more content...