3 युवा खिलाड़ी जो भविष्य में भारत के कप्तान बन सकते हैं

आईसीसी विश्व कप 2019 में एक साल से भी कम का समय बचा है। विराट कोहली इस तरह के एक भव्य मंच पर पहली बार टीम की कप्तानी करेंगे और उनसे उम्मीदें भी बहुत होंगी। इस युग के सबसे सफल बल्लेबाजों में से एक कोहली विश्व कप ट्रॉफी जीत अपनी सफलताओं की सूची में ये भी खिताब जोड़ना चाहेंगे, जो निश्चित रूप से उन्हें सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ में से एक बना देगा। पिछले कुछ सालों में, युवा प्रतिभाशाली क्रिकेटरों ने घरेलू सत्र (दुलिप ट्रॉफी, विजय हजारे ट्रॉफी और रणजी ट्रॉफी) के साथ-साथ इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अपना नाम बनाने में कामयाबी हासिल की है। उन्होंने साबित कर दिया है कि उम्र केवल एक संख्या है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कुछ साल बिताने के बाद, उनमें से कुछ आने वाले सालों में राष्ट्रीय टीम का प्रतिनिधित्व करने में भी सक्षम हैं। आइये भारतीय क्रिकेट के तीन ऐसे ही युवा प्रतिभाओं पर एक नज़र डालें जो कि भविष्य में भारतीय टीम का नेतृत्व कर सकते हैं। विशेष उल्लेख: ईशान किशन

# 3 श्रेयस अय्यर

उम्र: 23 प्रवीण आमरे के मार्गदर्शन में, श्रेयस अय्यर ने तब खबरों में जगह बनाई जब उन्होंने ट्रेंट ब्रिज क्रिकेट टीम का प्रतिनिधित्व करते हुए यूके के एक टूर के दौरान 99 के औसत से 297 रन बनाये, जिसमें 171 का उच्चतम स्कोर भी रहा जो कि एक नया टीम रिकॉर्ड था। 2014 अंडर -19 विश्वकप और विजय हजारे ट्रॉफी में सफल सत्र के बाद, लगातार दो साल रणजी ट्रॉफी में एक असाधारण रन बनाने के बाद, दिल्ली डेयरडेविल्स ने उन्हें 2.6 करोड़ में खरीदा। इस साल की शुरुआत में, गौतम गंभीर के कप्तानी छोड़ने के बाद उन्होंने टीम के कप्तान के रूप में एक नई यात्रा शुरू की। एक ही समय में दो कार्यों को संभालते हुए अय्यर कई अवसरों पर दिल्ली की टीम को उभरने में सफल रहे थे। समीर दीघे, जो पिछले घरेलू सीज़न के लिए मुंबई के कोच थे और अय्यर के टी 20 मुंबई फ्रेंचाइजी बांद्रा ब्लॉस्टर्स के मेंटर भी थे, ने इस युवा प्रतिभा की सराहना की: ''वह सही विकल्प है क्योंकि उसके पास नेतृत्व क्षमता है। एक अच्छे कप्तान के पास सकारात्मक दृष्टिकोण होना चाहिए, आगे से आगे बढ़ टीम को लीड करना चाहिए और खिलाड़ियों को उनके साथ ले जाने में सक्षम होना चाहिए। चाहे वह इंडिया ए (देवधर ट्रॉफी में इंडिया बी) या टी -20 मुंबई में हो, श्रेयस ने इन सभी गुणों को दिखाया है,” तीनों प्रारूपों में राष्ट्रीय टीम के लिए अपना डेब्यू करने के बाद, श्रेयस अय्यर एक उज्ज्वल भविष्य हैं, जिनके पास भारतीय क्रिकेट टीम के अगले कप्तान बनने के लिए सभी कौशल हैं।

# 2 ऋषभ पंत

उम्र: 20 2016 अंडर -19 क्रिकेट विश्व कप के लिए ऋषभ पंत का नाम भारत की टीम में था। टूर्नामेंट के दौरान टीम के उप-कप्तान पंत ने 18 गेंदों पर अर्धशतक लगाया, जो इस स्तर पर सबसे तेज था। उसी वर्ष, दिल्ली डेयरडेविल्स ने उन्हें 1.9 करोड़ रुपये के लिए चुना, और फिर जो हुआ वो इतिहास है। पंत तीन साल से लगातार डेयरडेविल्स के लिए सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज साबित हुए हैं। वह कोहली और सहवाग की तरह आक्रामक है और राष्ट्रीय टीम में खेलने के लिए तैयार हैं। ये बात अलग है कि टी 20 अलग खेल है, जहाँ अवसर बहुत कम होते हैं। लेकिन मुझे लगता है कि पंत और ईशान किशन जैसे खिलाड़ी जल्द ही टीम का हिस्सा बनेंगे। वे युवा हैं और समय की कोई जल्दी नहीं है। वे जैसे जैसे अधिक खेल खेलते जायेंगे वो और भी परिपक्व होते जायेंगे और निश्चित रूप से आने वाले सालों में वे भारत के लिए खेलेंगे। आईपीएल के 2018 संस्करण के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज ऋषभ पंत को भारतीय क्रिकेट भविष्य के बड़े नाम होने की गारंटी है। वह एक असाधारण विकेटकीपर-बल्लेबाज, पंत पहले ही टी -20 टीम में जगह बना चुके हैं और जल्द ही लंबे प्रारूपों में भी भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करेंगे।

# 1 पृथ्वी शॉ

उम्र: 18 हैरिस शील्ड मैच में 330 गेंदों पर 546 रनों की अभूतपूर्व पारी के बाद पृथ्वी शॉ चर्चा में आये थे, और उसके बाद से उन्होंने पीछे मुड़ कर नही देखा है। इस वर्ष की शुरुआत में विश्व कप जीतने वाली भारत अंडर -19 टीम की कप्तानी करते हुए, शॉ ने सभी को अपनी तारकीय बल्लेबाजी और शांत नेतृत्व वाली रणनीति से प्रभावित किया। उनके प्रदर्शन ने उन्हें दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ 1.2 करोड़ रुपये के लिए आईपीएल अनुबंध प्राप्त करने में सफलता दिलाई, जहां वह आईपीएल अर्धशतक स्कोर करने वाले संयुक्त युवा खिलाड़ी बने (संजू सैमसन के साथ)। यह सिर्फ कुछ समय कि ही बात होगी जब शॉ राष्ट्रीय टीम के प्लेइंग इलेवन का हिस्सा होंगे है। सचिन तेंदुलकर के सामान बल्लेबाजी स्टांस और एमएस धोनी की तरह धैर्य के साथ, पृथ्वी शॉ अपने चरम पर पहुंचने के बाद टीम का नेतृत्व करने के लिए एक आदर्श उम्मीदवार हैं और वर्तमान कप्तान विराट कोहली के लिए उपयुक्त उत्तराधिकारी हो सकते हैं। लेखक: सागनिक मोंगा अनुवादक: राहुल पांडे

Edited by Staff Editor