Create
Notifications

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में मैच फिक्सिंग के कारण प्रतिबंधित खिलाड़ियों वाली 4 टीमें

Himanshu Kothari
visit

खेल में खेल भावना काफी जरूरी है। लेकिन कई बार खिलाड़ी भ्रष्टाचार में लिप्त पाए जाते हैं, जिससे खेल भावना का भी हनन होता है। क्रिकेट के खेल में भी खिलाड़ी भ्रष्टचार में शामिल पाए गए हैं। क्रिकेट के खेल में खिलाड़ी दो तरीके से भ्रष्टाचार करते हैं। पहला मैच फिक्सिंग के जरिए, इसमें मैच के परिणाम को मैच के शुरू होने से पहले ही निर्धारित कर दिया जाता है और दूसरा स्पॉट फिक्सिंग के जरिए, इसमें मैच के किसी हिस्से को मैच शुरू होने से पहले ही निर्धारित कर दिया जाता है। खिलाड़ियों के जरिए ऐसा कम समय में ज्यादा धन कमाने की लालच में किया जाता है। हालांकि इस तरह से भ्रष्टाचार करके खिलाड़ियों का करियर भी कई बार पूरी तरह से चौपट होते हुए देखा गया। आइए यहां जानते हैं उन अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट टीमों के बारे में जिसके खिलाड़ी सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार के कारण प्रतिबंध झेल चुके हैं... #4 बांग्लादेश (2 खिलाड़ी) बांग्लादेश क्रिकेट टीम के शरिफुल हक देश के पहले क्रिकेट खिलाड़ी थे जो स्पॉट फिक्सिंग में पकड़े गए थे। साल 2012 में बांग्लादेश प्रीमियर लीग के दौरान दूसरे साथी खिलाड़ियों से मैच फिक्सिंग की अप्रोच करते हुए शरिफुल हक पकडे गए थे। इसके बाद मोहम्मद अशरफुल साल 2013 में बीपीएल में स्पॉट फिक्सिंग करते हुए दोषी पाए गए। जिसके बाद उन पर आठ साल का प्रतिबंध लगा दिया गया। हालांकि बाद में इस प्रतिबंध को पांच साल का कर दिया गया।#3 भारत (5 खिलाड़ी) भारतीय क्रिकेट टीम में 2000 के दशक के शुरुआत में 4 भारतीय खिलाड़ी ( मोहम्मद अजहरुद्दीन, अजय शर्मा, अजय जडेजा, मनोज प्रभाकर) पर मैच फिक्सिंग का आरोप लगा। तत्कालीन भारतीय कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन को दक्षिण अफ्रीका के 1996 के भारत दौरे के दौरान मैच फिक्सिंग के आरोपों का दोषी पाया गया था। सीबीआई जांच के दौरान, अजहरुद्दीन ने कथित तौर पर कबूल किया कि उन्होंने तीन एकदिवसीय मैच फिक्स किए हैं। इसके बाद श्रीसंत का नाम इस सूची में जुड़ा। उन्होंने 2013 में आईपीएल मैच के दौरान सट्टेबाजी के लिए पैसे लिए। हालांकि 4 साल तक सजा देने के बाद सर्वोच्च न्यायालय ने उनसे आजीवन प्रतिबंध हटा दिया।#2 दक्षिण अफ्रीका (7 खिलाड़ी) दक्षिण अफ्रीकाई क्रिकेट के सात खिलाड़ी भ्रष्टाचार में लिप्ट पाए जा चुके हैं। इन खिलाड़ियों में पहला नाम तत्कालीन कप्तान हैंसी क्रोंज का था। हैंसी ने टीम से जुड़ी जानकारी गलत तरीके से दूसरो लोगों के साथ साझा करने की बात स्वीकार की थी। इसके अलावा हर्शल गिब्स और हेनरी विलियम्स को भ्रष्टाचार के कारण 6 महीने का बैन झेलना पड़ा है। वहीं लोंवाबो सोट्सोबे को आठ साल और अलविरो पिटरसन को दो साल का प्रतिबंध भ्रष्टाचार में लिप्त होने के कारण उठाना पड़ा है।#1 पाकिस्तान (8 खिलाड़ी) इस सूची में पाकिस्तान आठ खिलाड़ियों के साथ टॉप पर है। साल 2000 में सलीम मलिक ऐसे पहले पाकिस्तानी क्रिकेटर बने जिन्हें मैच फिक्सिंग के कारण जेल जाना पड़ा। साल 2010 में फिक्सिंग को लेकर पाकिस्तान एक बार फिर से सुर्खियों में आ गया। उस समय के कप्तान सलमान भट्ट और साथी खिलाड़ी मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमिर को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में स्पॉट फिक्सिंग का दोषी पाया गया था। हाल फिलहाल में पाकिस्तान के नासिर जमशेद का नाम भी भ्रष्टाचार में जुड़ा है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के बल्लेबाज नासिर जमशेद पर 10 साल का प्रतिबंध लगाया है। जमशेद पर प्रतिबंध पीसीबी के भ्रष्टाचार विरोधी नियमों के बार-बार उल्लंघन किए जाने को लेकर लगाया गया है। लेखक: हरिप्रसाद आरके अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor
Article image

Go to article
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now