ऑस्ट्रेलिया के अब तक के 5 सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर

jack-blackham-1470412463-800

देखने में क्रिकेट का खेल काफी आसान लगता है पर ये तो खिलाड़ी ही जानते हैं कि इस खेल में उन्हें कितनी मेहनत करनी पड़ती है। सही मायने में क्रिकेट के अंदर के खेल में कई ऐसे पहलू होते हैं जिन्हें काफी बारीकी से देखना और समझना पड़ता है। बल्लेबाज़ी, गेंदबाजी के अलावा इस खेल में एक और ऐसा विभाग है जिसके लिए खिलाड़ियों को काफी मेहनत करनी पड़ती है वो विभाग है विकेटकीपिंग का। क्रिकेट के इस विभाग को क्रिकेट की सबसे मुश्किल कला मानी जाती है। पर पिछले कुछ समय में विकेटकीपिंग करने वाले कीपरों ने अपने अपने देशों के लिए इसे एक अलग स्तर पर पहुंचा दिया है। पिछले कुछ समय में ऑस्ट्रेलिया से कुछ ऐसे विकेटकीपर देशभर में उभर कर आये हैं जिनके नाम टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक शिकार का रिकॉर्ड है। यहां पांच ऐसे विकेटकीपर हैं जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के लिए बेहतरीन प्रदर्शन किया है। #5 जैक ब्लैखम जैक ब्लैखम ऑस्ट्रलिया के सबसे पहले पहले विकेटकीपर हैं जिन्हें प्रिंस ऑफ़ विकेटकीपर्स भी कहा जाता है। जैक उस ऑस्ट्रेलियाई टीम का भी हिस्सा रहे हैं जिसने इंग्लैण्ड के विरुद्ध एमसीजी में अपना पहला टेस्ट मैच खेला था, साथ ही साथ वो 1882 में शुरू हुए ऐशेज का भी हिस्सा रहे हैं। 16 साल की उम्र में उन्हें कार्ल्टन क्रिकेट क्लब का हिस्सा बनाया गया, और 1874 में विक्टोरियन टीम का भी हिस्सा बने। विक्टोरिया के लिए उन्होंने 20 साल तक खेला। जैक दुनिया के पहले ऐसे विकेटकीपर भी हैं जिन्होंने तेज़ गेंदबाजों के लिए विकेट से सट कर कीपिंग की हो। ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलते हुए उनके नाम 35 टेस्ट मैचों में 37 कैच और 34 स्टंपिंग्स दर्ज है। #4 रोडनी मार्श rodney-marsh-1470412508-800 मार्श ने ऑस्ट्रेलिया के लिए अपना टेस्ट डेब्यू साल 1970 में किया था। शुरुआत में मार्श एक बेहतरीन बल्लेबाज़ तो थे ही पर विकेटकीपिंग में थोडा कच्चे थे इसलिए मीडिया द्वारा उन्हें ‘आयरन ग्लव्स’ का इस्तेमाल करने कहा गया। पर उसके बाद उन्होंने इस कला पर काफी मेहनत की और इस कला के मास्टर बन गए। आने वाले समय में उन्हें क्रिकेट का एक बेहतरीन विकेटकीपर माना गया। साल 1972-73 में एडलीड में पकिस्तान के विरुद्ध पहला टेस्ट शतक लगाकर पहले ऑस्ट्रेलियाई कीपर बने जिनके नाम शतक दर्ज है। ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलते हुए उनके नाम 96 टेस्ट में 343 कैच और 12 स्टंपिंग और 92 वनडे में 120 कैच और 4 स्टंपिंग दर्ज है। #3 इयान हीली ian-healy-1470412591-800 हीली ने 6 प्रथम श्रेणी क्रिकेट मैच खेलने के बाद साल 1988 में ऑस्ट्रेलिया के लिए डेब्यू किया। ऑस्ट्रेलिया उस समय काफी बुरे दौर से गुज़र रही थी पर हीली के आने से टीम में काफी सुधार आया। विकेटकीपिंग के साथ साथ हीली एक बेहतरीन बल्लेबाज़ भी थे। वनडे में उनकी भूमिका एक पिंच हिटर के रूप में रही है और करियर के समाप्ति तक उनका स्ट्राइक रेट 83 से भी ऊपर का था। हीली ने कॉलिन मिलर की गेंद पर वसीम अकरम को चलता कर विकेटकीपिंग में सबसे ज्यादा शिकार करने वाले कीपर बन गए और वो उनका 355वा शिकार था। हीली के नाम टेस्ट करियर में 119 मैच खेलते हुए 366 कैच और 29 स्टंपिंग हैं और 168 वनडे मैचों में 194 कैच और 39 स्टम्पिंग दर्ज है। #2 ब्रैड हैडिन brad-haddin-1470412647-800 एडम गिलक्रिस्ट की मौजूदगी के कारण हैडिन ने अपना टेस्ट करियर साल 2008 में वेस्टइंडीज़ के खिलाफ शुरू किया। घरेलू क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन की वजह से गिलक्रिस्ट के संन्यास के बाद उन्हें ऑस्ट्रलियन टीम में जगह मिली। हैडिन ने साल 2001 में वनडे क्रिकेट में अपना डेब्यू किया। अपने इस करियर में उन्होंने कई बेहतरीन कैचेस पकडे हैं। साल 2010 में उन्हें आईपीएल की नीलामी में चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए भी चुना गया। हैडिन के नाम 66 टेस्ट मैचों में 262 कैच और 8 स्टम्पिंग दर्ज और 126 वनडे मैचों में 170 कैच और 11 स्टम्पिंग दर्ज हैं। #1 एडम गिलक्रिस्ट gilchrist-1470412689-800 क्रिकेट इतिहास के सबसे बेहतरीन विकेटकीपर बल्लेबाज़ का खिताब गिलक्रिस्ट के नाम है। गिलक्रिस्ट ने साल 1999 में पकिस्तान के खिलाफ अपना डेब्यू किया था। हालांकि उन्होंने 1996 में वनडे क्रिकेट में अपना डेब्यू कर लिया था पर टेस्ट में जगह वो 1999 में बना पाए। गिलक्रिस्ट ने बेहतरीन कीपिंग के साथ साथ खतरनाक बल्लेबाज़ी भी की जिससे गेंदबाज़ खौफ खाते रहे। हेडेन के साथ सलामी बल्लेबाजी करते हुए वो वनडे क्रिकेट के सबसे खतरनाक सलामी जोड़ी हैं। गिलक्रिस्ट के नाम टेस्ट क्रिकेट में 96 मैच खेलते हुए 379 कैचेस और 37 स्टम्पिंग है जबकि 287 वनडे मैचों में इनके नाम 417 कैच और 52 स्टम्पिंग दर्ज है।

Edited by Staff Editor