Create

मौजूदा दौर के 5 भारतीय मूल के विदेशी खिलाड़ियों की फ़ेहरिस्त

क्रिकेट की दुनिया में भारत को सुपरपॉवर के तौर पर देखा जाता है। भारतीय टीम दुनिया के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट खेलने वाले देशों में से एक है और इसके अलावा भारत में क्रिकेट गवर्निंग बॉडी बीसीसीआई, दुनिया में सबसे मजबूत इकाई है। भारत ने क्रिकेट की दुनिया में कई विश्व स्तर के खिलाड़ियों का निर्माण भी किया है। इन खिलाड़ियों ने विश्व पटल भी क्रिकेट के खेल में बेहतरीन उपलब्धियां हासिल की हैं। भारत से अक्सर कई कारणों की वजह से लोग दूसरे देशों में चले जाते हैं और वहीं बस जाते हैं। भारतीय मूल के लोग पूरे विश्व में कई क्षेत्रों में शानदार काम करते हुए देखे भी जा सकते हैं। वहीं भारतीय मूल के लोग विदेशों में कई अहम पदों पर भी तैनात हैं। इसके अलावा खेल की दुनिया में भी भारतीय मूल के खिलाड़ी अपना प्रदर्शन दिखा रहे हैं। आइए उन भारतीय मूल के क्रिकेट खिलाड़ियों पर डालते हैं एक नजर जो वर्तमान में सक्रिय हैं:

#5 केशव महाराज

डरबन में जन्में केशव महाराज ने साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका के लिए अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी। बाएं हाथ के इस ऑफ स्पिनर ने लगातार घरेलू खेलों में अच्छा प्रदर्शन किया और टीम के लिए अहम खिलाड़ी के तौर पर सामने आए, इसके चलते उच्चतम स्तर पर उन्हें मौका मिलना निश्चित था। केशव महाराज के पूर्वज काफी समय पहले श्रमिक के रूप में दक्षिण अफ्रीका में लाए गए थे और उन्हें 19वीं शताब्दी में काफी संघर्ष का सामना भी करना पड़ा था। पूर्व भारतीय विकेटकीपर किरण मोरे केशव के पिता के करीबी दोस्त हैं और उनका क्रिकेट खिलाड़ी के रूप में केशव की परवरिश में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

#4 ईश सोढ़ी

न्यूजीलैंड में ईश सोढ़ी के रूप में पहचाने जाने वाले क्रिकेटर इंदरबीर सिंह सोढ़ी पंजाब के लुधियाना में पैदा हुए थे। ईश सोढ़ी ने लेग स्पिनर के रूप में न्यूजीलैंड क्रिकेट में अपनी पहचान कायम कर ली है। ईश सोढ़ी ने न्यूजीलैंड के लिए अपनी पारी की शुरुआत 19 साल की उम्र की थी। अब ईश सोढ़ी न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम का अहम हिस्सा बने हुए हैं। ईश सोढ़ी ने न्यूजीलैंड के लिए कई अहम पारियों में भी अपना योगदान दिया है। ईश सोढ़ी का सबसे यादगार प्रदर्शन साल 2016 के विश्व टी20 के दौरान भारतीय टीम के खिलाफ आया था, जहां उन्होंने और मिशेल सैंटनर ने मिलकर भारतीय बल्लेबाजी लाइन-अप को पूरी तरह से ही बिखेरकर रख दिया था। भारत के खिलाफ इस मुकाबले में ईश सोढ़ी ने शानदार गेंदबाजी की थी। भारत के सामने ईश सोढ़ी का कोई तोड़ नहीं निकला और भारतीय टीम के बल्लेबाज एक-एक कर घुटने टेकते गए। इस मुकाबले में न्यूजीलैंड ने पूरी भारतीय क्रिकेट टीम को महज 79 रनों के स्कोर पर ही निपटा दिया था। इसके साथ ही आखिर में न्यूजीलैंड ने इस मुकाबले में आसानी से जीत हासिल की थी।

#3 गुरिंदर संधू

भारतीय मूल के गुरिंदर संधू ऐसे पहले खिलाड़ी हैं जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के लिए क्रिकेट खेला है। गुरिंदर संधू एक लंबे तेज गेंदबाज है और उन्होंने अंडर 19 विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया का प्रतिनिधित्व किया है। साल 2015 के शुरुआती दिनों में ऑस्ट्रेलिया के लिए डेब्यू करने वाले गुरिंदर संधू ने तब लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया जब उन्हें आईपीएल में शामिल किया है। संधू के माता-पिता पंजाब से हैं और उनके पिता बेहतर अवसर के लिए सिडनी में चले गए थे। उन्होंने सिडनी में एक ड्राइवर के रूप में काम किया।

#2 सुनील नारेन

वेस्टइंडीज ने एल्विन कालीचरण और रोहन कनहाई जैसे कई महान खिलाड़ियों को देखा है, जिनके पूर्वज भारत से यहां आए थे। अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सुनील नारेन वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम का प्रतिनिधित्व करने वाले भारतीय मूल के क्रिकेटर हैं। सुनील नारेन ने अपनी रहस्यमयी स्पिन गेंदबाजी के साथ सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों को चकमा देने की अपनी क्षमता के साथ ख्याति अर्जित की है। त्रिनिदाद में जन्मे स्पिनर सुनील नरेन दुनिया के टी20 लीग में सबसे मूल्यवान क्रिकेटरों में से एक भी हैं। सुनील नरेन अपनी प्रभावशाली गेंदबाजी के दम पर विरोधी बल्लेबाजों को चकमा देने के लिए जाने जाते हैं। वेस्टइंडीज के लिए खेलते हुए सुनील नरेन ने कई अहम योगदान भी दिया है और टीम में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी के तौर पर जगह बनाए हुए हैं। सुनील नारेन इंडियन प्रीमियर लीग में कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा हैं और साथ ही कोलकाता नाइट राइडर्स की टीम में एक महत्वपूर्ण स्थान भी रखते हैं। सुनील नारेन आईपीएल में केकेआर की टीम के लिए कई पारियों में मैच जिताऊ खिलाड़ी के तौर पर भी सामने आए हैं। सुनील नारेन अपनी रहस्यमयी गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं और आईपीएल में भी उन्होंने अपनी इस गेंदबाजी अंदाज को कायम रखते हुए गेंदबाजी की है और विकेट हासिल किए हैं। गेंदबाजी के अलावा कई मौकों पर शानदार बल्लेबाजी करते हुए भी सुनील नारेन को देखा गया है। आईपीएल सीजन 10 के कई मैचों में तो सुनील नारेन ने ओपनिंग तक की थी।

#1 हाशिम अमला

दक्षिण अफ्रीका एक ऐसा देश है जहां बहुत सारे भारतीय बसे हुए हैं। बेहतर अवसरों की तलाश में लोग दक्षिण अफ्रीका चले जाते हैं। इनमें हाशिम अमला का परिवार भी शामिल है जो भारत से बेहतर अवसरों के लिए दक्षिण अफ्रीका चला गया। हाशिम अमला के दादा-दादी गुजरात से थे। वर्तमान में हाशिम अमला दक्षिण अफ्रीका के लिए खेले जाने वाले सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर्स में से एक हैं। हाशिम अमला बेहद ही शांत स्वभाव वाले खिलाड़ी के तौर पर देखे जाते हैं। मैदान पर हाशिम अमला ज्यादा आक्रामक रवैया नहीं अपनाते हैं और धीरे-धीरे स्कोर बोर्ड को आगे बढ़ाते चले जाते हैं। दक्षिण अफ्रीका के हाशिम अमला को मुख्य रूप से टेस्ट क्रिकेट का खिलाड़ी माना जाता है लेकिन आंकड़े साबित करते हैं कि टेस्ट क्रिकेट के अलावा हाशिम अमला ने एकदिवसीय क्रिकेट और टी20 क्रिकेट के फॉर्मेट में भी बेहतरीन प्रदर्शन किया है। दक्षिण अफ्रीका के लिए खेलते हुए हाशिम अमला ने कई महत्वपूर्ण पारियां भी खेली हैं और टीम के लिए कई बार मैच जिताऊ भूमिका भी अदा की है। दक्षिण अफ्रीका के इस क्रिकेटर ने अपने करियर में कई शानदार रिकॉर्ड भी कायम किए हैं। हाशिम अमला वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 2000, 3000, 4000, 5000, 6000 और 7000 रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। लेखक: तरुण कुमार सिंह अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment