Create
Notifications

भारत में सबसे ज्यादा टेस्ट रन बनाने वाले मौजूदा समय के टॉप 5 विदेशी बल्लेबाज

सावन गुप्ता

भारत ने पिछले कुछ सालों में टेस्ट क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है, पिछले दस सालों में केवल इंग्लैंड ही एक ऐसी टीम है जो भारत में भारत को हरा पाई है | आईपीएल की वजह से अब दुनिया का हर क्रिकेटर भारत की पिचों से भली भांति वाकिफ है | कई सारे बल्लेबाज ऐसे रहे हैं जिन्होंने भारत में खूब रन बनाए हैं | फिर चाहे वो 2001 की सीरीज में मैथ्यू हेडेन रहे हों या फिर 2004 की सीरीज में माइकल क्लार्क रहे हों | भले ही ज्यादा बल्लेबाज भारत में सफल ना रहे हों, लेकिन कुछ बल्लेबाज ऐसे हैं जिन्होंने भारत की स्पिन फ्रैंडली पिचों पर भी रन बनाए हैं | 5 डैरेन ब्रावो - 504 रन India v West Indies: 3rd Test Day 2 डैरेन ब्रावो काफी अच्छे बल्लेबाज हैं, उनका रिकॉर्ड अपनी घरेलू पिचों से ज्यादा बाहर की पिचों पर अच्छा है | एशिया की पिचों पर उनका औसत बेहद शानदार रहा है, हाल ही में दुबई में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ शानदार रन बनाए हैं | 2011 में भारत में खेले गए 5 टेस्ट मैचों में डैरेन ब्रावो ने 504 रन बनाए थे | 2011 में खेली गई उस सीरीज में ब्रावो ने कोलकाता टेस्ट की दूसरी पारी में 136 रन बनाए थे, वहीं मुंबई टेस्ट की पहली पारी में 166 रन बनाए | उनके इस शानदार पारी की बदौलत वेस्टइंडीज ने 590 रनों का विशाल लक्ष्य खड़ा किया , जिसकी वजह से वो ये मैच ड्रा कराने में सफल रहा | वेस्टइंडीज की दूसरी पारी 134 रनों पर ही सिमट गई और भारत को जीत के लिए 243 रनों का लक्ष्य मिला | ब्रावो ने इस पारी में भी सबसे ज्यादा 48 रन बनाए | इन दो पारियों के अलावा ब्रावो का प्रदर्शन इंडिया में कुछ खास नहीं रहा है | 50.40 का उनका औसत इन्हीं दो पारियों की बदौलत है, इसके अलावा वो और कोई अर्थशतक भी नहीं लगा सके | 2013 में सचिन तेंदुलकर की विदाई सीरीज में उनका प्रदर्शन निराशाजनक रहा | उन्होंने मात्र इस सीरीज के 2 टेस्ट मैचो में 23, 37, 29, 11 रन बनाए | जबकि अगर पूरे एशिया में उनके औसत की बात की जाए तो उनका औसत 57.95 रहा है | कुल मिलाकर कह सकते हैं भारत में उनका प्रदर्शन ज्यादा अच्छा नहीं रहा है | 4. एबी डीविलियर्स - 630 रन 497111290 एबी डीविलियर्स का नाम लेते ही 2008 में अहमदाबाद में खेली गई उनकी 217 रनों की मैराथन पारी याद आ जाती है | उन्होंने क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में दुनिया की हर पिच पर रन बनाए हैं, लेकिन भारत में उनका प्रदर्शन औसत ही रहा है | अहमदाबाद की डबल सेंचुरी के अलावा उनकी टेस्ट में और कोई भारत में यादगार पारी नहीं रही है | भारत मेॆ उनका अगला उच्चतम स्कोर 85 रन का था, जो उन्होंने बैंगलूरु में अपने सौंवें टेस्ट मैच में बनाया था, ये मैच बारिश की वजह से धुल गया था | हालांकि भारतीय स्पिनरों को कैसे खेलना है ये बात उन्हें अच्छी तरह से पता है | डीविलियर्स ने 9 टेस्ट मैचों में 45 की औसत से 630 रन बनाए हैं, जो कि उनकी प्रतिभा के साथ मैच नहीं खाते हैं, वो इससे कहीं ज्यादा के बड़े खिलाड़ी हैं | फॉस्ट बॉलर हो या स्पिनर डीविलियर्स सबको अपने अंदाज में ही खेलते हैं | भारत में अपना आखिरी टेस्ट मैच उन्होंने जिस पिच पर खेला था, वो काफी विवादास्पद था, गेंद मीलों घूम रही थी, यहां तक कि भारतीय बल्लेबाजों को भी कुछ समझ में नहीं रहा था | फिर भी उस मुश्किल परिस्थिति में उन्होंने अश्विन, जाडेजा और मिश्रा जैसे स्पिनरों के खिलाफ अच्छी बल्लेबाजी की | भारत में उनके नाम एक शतक एक दोहरा शतक और 3 अर्धशतक हैं | लेकिन भारतीय फैंस को उम्मीद है कि डीविलियर्स दोबारा भारत आकर अपना औसत जरुर सुधारेंगे | डीविलियर्स वर्तमान में सिर्फ अकेले ऐसे क्रिकेटर हैं जो अपनी पूरी क्षमता के साथ अभी स्कोर नहीं कर पा रहे हैं , जिसके लिए वो जाने जाते हैं | 3. यूनिस खान- 768 रन Pakistani cricketer Younis Khan plays a इस लिस्ट में एक पाकिस्तानी का नाम देखकर लगता है कि भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान ने भारत में कुछ अच्छे प्रदर्शन किए हैं | लेकिन जब आखिरी बार पाकिस्तानी टीम ने भारत का दौरा किया था तो मुझे नहीं लगता कि किसी भी प्लेयर का प्रदर्शन उतना अच्छा रहा हो | लेकिन यूनिस खान ने यहां पर्याप्त टेस्ट खेले हैं और अपनी तकनीक से स्पिनरों को अच्छे से पढ़ा है | यूनुस खान ने भारत में 6 टेस्ट मैच खेले हैं और 3 शतकों और 2 अर्धशतकों की मदद से 768 रन बनाए हैं | 2005 और 2007 में उन्होंने भारत में भारत के खिलाफ 2 टेस्ट मैचों की सीरीज खेली | कोलकाता टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने 147 रनों की शानदार पारी खेली लेकिन वर्तमान में भारतीय कोच अनिल कुंबले ने 7 विकेट लेकर उनकी इस पारी पर पानी फेर दिया और पाकिस्तान ये मैच हार गया | लेकिन दूसरे टेस्ट मैच में ही उन्होंने इसकी भरपाई कर दी | बैॆगलूरू में खेले गए दूसरे और निर्णायक टेस्ट मैच में उन्होंने पहली पारी में 267 रनों की मैराथन पारी खेली, जबकि दूसरी पारी में भी यूनिस खान ने 84 रन बनाए | उनके इस शानदार बल्लेबाजी की बदौलत पाकिस्तान ने ये मैच जीतकर सीरीज में 2-2 की बराबरी की | 2007 में कोलकाता के प्रति उनका प्रेम फिर से सामने आ गया, जब उन्होंने पहले टेस्ट मैच में 107 रनों की पारी खेली, ये मैच ड्रा हो गया | वहीं उसी सीरीज में बैंगलूरू में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में उन्होंने 80 रन बनाए, ये मैच भी ड्रा रहा | स्पिनरों के खिलाफ उनकी अच्छी तकनीक के कारण भारत में उनका औसत काफी अच्छा रहा है | 76.80 की औसत के साथ अनिल कुंबले और हरभजन सिंह जैसे दिग्गज स्पिनरों को भारत में बेहतरीन ढंग से खेलना उनकी काबिलियत को दर्शाता है | 2. एलिस्टेयर कुक - 887 रन India v England - 1st Test Day One इंग्लैंड टीम के कप्तान एलिस्टेयर कुक ने साल 2006 में भारत के खिलाफ नागपुर टेस्ट में डेब्यू किया था | अपने पहले टेस्ट के दूसरी ही पारी में उन्होंने शतकीय पारी खेलकर उन्होंने अनिल कुंबले और हरभजन सिंह जैसे दिग्गज स्पिनरों से तारीफ बटोरे | ये तो उनके शानदार करियर की महज शुरूआत थी, उसके बाद हर जगह उन्होंने रन बनाए | दूसरी बार 2008 में उन्होंने भारत का दौरा किया, हालांकि उस दौरे पर वो अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए | मोहाली और चेन्नई की घूमती पिचों को वो समझ नहीं पाए | लेकिन 2012 में उन्होंने इंग्लिश टीम के कप्तान के तौर पर भारत का दौरा किया और उस सीरीज में 2-1 से इंग्लैंड को ऐतिहासिक जीत दिलाई | उन्होंने सीरीज में काफी अच्छी बल्लेबाजी की और इंग्लैंड के टॉप ऑर्डर को मजबूती प्रदान की | अहमदाबाद में खेले गए पहले टेस्ट मैच में उन्होंने 176 रन बनाए लेकिन इंग्लैंड ये मैच हार गया | हालांकि मुंबई में खेले गए दूसरे मैच में भी उनका शानदार प्रदर्शन जारी रहा , मुंबई टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने 336 गेंदों पर 122 रन बनाए | दूसरी पारी में नाबाद रहकर उन्होंने अपनी टीम को जीत दिलाई और सीरीज में 1-1 से बराबरी की | उनकी इस शानदार बल्लेबाजी का कारवां यहीं नहीं रुका, कोलकाता में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में भी उन्होंने 190 रनों की दमदार पारी खेलकर अपनी टीम को 7 विकेट से जीत दिलाई | इस जीत के साथ ही इंग्लैंड ये सीरीज 2-1 से जीतने में कामयाब रहा | इस वक्त खेली जा रही 5 मैचों की सीरीज के लिए उनके साथ जो टीम आई है, उसमें काफी यंगस्टर्स हैं | ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि उनके बल्ले से एक और शतकीय पारी निकलेगी और वो भारत में 1000 रन भी पूरा करेंगे | अभी कुक ने भारत में 9 मैचों में 59.13 की औसत से 887 रन बनाए हैं | 1. हाशिम अमला-941 रन Mumbai Sports And Fitness जितने भी बल्लेबाजों ने भारत में बल्लेबाजी की है उनमें से किसी भी बल्लेबाज का प्रदर्शन एक सीरीज में इतना बढ़िया नहीं रहा है, जितना कि हाशिम अमला का 2010 में खेली गई सीरीज में था | अमला ने उस सीरीज में 253, 114 और 123 रन बनाए थे और भारतीय गेंदबाज उनको महज एक बार ही आउट कर सके | 2008 में जब पहली बार अमला ने भारत का दौरा किया तो चेन्नई में खेले गए पहले मैच में 159 रन बनाकर बनाकर बता दिया कि वो स्पिन के कितने बड़े खिलाड़ी हैं | लेकिन उसी मैच में वीरेंद्र सहवाग के 319 रनों की मैराथन पारी के आगे उनकी ये पारी दब गई | लेकिन सीरीज में उनका प्रदर्शन किसी के दबाव में नहीं आया उन्होंने तीन पारियों में 490 रन बनाए | हालांकि भारत का उनका आखिरी दौरा निराशाजनक रहा | दिल्ली में खेले गए टेस्ट मैच में 244 गेंदों पर महज 25 रन बनाने के बाद वो इससे उबर नहीं पाए | भारतीय फिरकी जोड़ी अश्विन और जाडेजा को वो बिल्कुल नहीं खेल पाए | महज 10 पारियों में 941 रन बनाकर वो भारत में टेस्ट मैचों में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले विदेशी खिलाड़ी हैं | 62.37 का उनका औसत दिखाता है कि वो कितने प्रतिभावान खिलाड़ी हैं | उम्मीद है कि अगली बार जब दक्षिण अफ्रीका की टीम भारत का दौरा करेगी तो भारत में 1000 रन पूरे कर वो क्लाइव लॉयड, ग्राडन ग्रीनिज और मैथ्यू हैडेन जैसे दिग्गज खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल हो जाएंगे |

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...