वनडे क्रिकेट इतिहास में दक्षिण अफ़्रीका की 5 शर्मनाक हार

क्रिकेट में खेल कभी भी पलट सकता है। मैदान पर कई बार देखा गया है कि एक मजबूत टीम भी दूसरी टीम से बड़े अंतर से हार जाती है। क्रिकेट जगत में दक्षिण अफ्रीका की टीम को भी कई बार करारी हार का सामना करना पड़ा है। दक्षिण अफ्रीका को वनडे इतिहास में कई बार शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है जो कि इतिहास के पन्नों में भी दर्ज हो चुकी है।

आइए यहां जानते हैं दक्षिण अफ्रीका को एकदिवसीय क्रिकेट में मिली पांच शर्मनाक हार के बारे में।

#5 न्यूजीलैंड के खिलाफ 87 रन से हार, 2006

साल 2006 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में मुंबई में खेले गए न्यूजीलैंड बनाम दक्षिण अफ्रीका का मुकाबला बेहद रोमांचक रहा। इस मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और अपनी शानदार गेंदबाजी के दम पर न्यूजीलैंड की टीम को 45.4 ओवर में 195 रन पर ही समेट कर रख दिया। न्यूजीलैंड की ओर से स्टिफन फ्लेमिंग ने 89 रनों की पारी खेली।

साउथ अफ्रीका को जीत के लिए काफी कम लक्ष्य मिला था लेकिन मैदान पर न्यूजीलैंड के गेंदबाज पूरी दक्षिण अफ्रीकी टीम पर हावी दिखे। इस मैच में दक्षिण अफ्रीका के दक्षिण अफ्रीका के 8 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं बना सके। इतना ही नहीं, दक्षिण अफ्रीका के 4 बल्लेबाज अपना खाता तक नहीं खोल सके। साउथ अफ्रीका के ग्रीम स्मिथ ने सबसे ज्यादा 42 रनों की पारी खेली और न्यूजीलैंड की टीम ने 34.1 ओवर में 108 रन के स्कोर पर पूरी साउथ अफ्रीकी टीम को समेट कर रख दिया। दक्षिण अफ्रीका को इस मुकाबले में 87 रनों से हार का सामना करना पड़ा।

#4 जिम्बाब्वे के खिलाफ 48 रन से हार, 1999

साल 1999 का विश्व कप दक्षिण अफ्रीका के लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं रहा। दक्षिण अफ्रीका को इस विश्व कप में जिम्बाब्वे जैसी टीम से भी हार का सामना करना पड़ा था। 29 मई को चेम्सफोर्ड के मैदान पर खेले गए इस मुकाबले में जिम्बाब्वे ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और 6 विकेट के नुकसान पर 233 रन बना डाले। जिम्बाब्वे की ओर से नील जॉनसन ने सबसे ज्यादा 76 रनों की पारी खेली।

दक्षिण अफ्रीका के सामने कमजोर टीम थी और लक्ष्य भी कुछ ज्यादा बढ़ा नहीं था, लेकिन दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजी क्रम पर जिम्बाब्वे की गेंदबाजी पूरी तरह से हावी हो गई और टीम के बल्लेबाजों को क्रीज पर टिकने तक नहीं दिया। आलम तो यह हो गया था कि दक्षिण अफ्रीकी टीम के 6 विकेट महज 40 रन के स्कोर पर ही गिर चुके थे। गैरी कस्टर्न (0), हर्शल गिब्स (9), मार्क बाउचर (8) और जैक कैलिस (0) जैसे दिग्गज घुटने टेक चुके थे।

हालांकि बाद में शॉन पॉलक (52) और लेन्स क्लुसनर (52) की पारी की बदौलत दक्षिण अफ्रीका की टीम अपना थोड़ा स्कोर कर सकी लेकिन आखिर में 47.2 ओवर में पूरी टीम 185 रन के स्कोर पर ही ढेर हो गई। दक्षिण अफ्रीका को इस मुकाबले में 48 रन से हार का सामना करना पड़ा।

#3 भारत के खिलाफ 8 विकेट से हार, 1999

भारत के हाथों भी दक्षिण अफ्रीका को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ चुका है। 26 सितंबर 1999 को खेले गए साउथ अफ्रीका बनाम भारत के इस मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। हालांकि दक्षिण अफ्रीका भारतीय गेंदबाजों को झेल नहीं पाई और पूरी टीम 48 ओवर में 117 रन के स्कोर पर ही सिमट गई।

भारत की ओर से इस मैच में सुनील जोशी की खतरनाक गेंदबाजी देखने को मिली। जोशी ने घातक गेंदबाजी करते हुए 10 ओवर में 6 मेडन ओवर डाले और साथ ही मात्र 6 रन देकर 5 विकेट भी झटक लिए। भारत ने 22.4 ओवर में ही दो विकेट के नुकसान पर 120 रन बनाकर इस मैच को जीत लिया। दक्षिण अफ्रीका को इस मुकाबले में 8 विकेट से हार का सामना करना पड़ा।

#2 इंग्लैंड से 10 विकेट से हार, 2008

इंग्लैंड के हाथों भी साउथ अफ्रीका को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा चुका है। 26 अगस्त 2008 को इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका के बीच खेले गए इस मुकाबले में साउथ अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। हालांकि यह फैसला साउथ अफ्रीका के लिए काफी बुरा साबित हुआ।

इस मैच में साउथ अफ्रीका की टीम 100 रन का आंकड़ा भी नहीं छू सकी और पूरी टीम महज 23 ओवर में 83 रन पर ही ऑल आउट हो गई थी। स्टूअर्ट ब्रोड ने घातक गेंदबाजी करते हुए 5 विकेट हासिल किए। जवाब में इंग्लैंड की टीम ने बिना कोई विकेट गंवाए 14.1 ओवर में 85 रन बनाकर लक्ष्य हासिल कर लिया। साउथ अफ्रीका को इस मुकाबले में 10 विकेट से हार का मुंह देखना पड़ा।

#1 ऑस्ट्रेलिया से 7 विकेट से हार, 2007

कोई भी टीम विश्व कप सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद बेहतरीन प्रदर्शन करना चाहेगी, लेकिन साउथ अफ्रीका यहां भी चोकर्स की भूमिका में आ जाती है। साल 2007 के विश्वकप सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका का बेहद शर्मनाक प्रदर्शन देखने को मिला। इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए दक्षिण अफ्रीका की टीम 43.5 ओवर में 149 रन पर ही ढेर हो गई।

ऑस्ट्रेलिया जैसी टीम के सामने यह लक्ष्य कुछ खास मायने नहीं रखता था, लिहाजा जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने बड़ी ही आसानी से 31.3 ओवर में तीन विकेट के नुकसान पर 153 रन बनाकर सेमीफाइनल मुकाबले में जीत दर्ज कर दक्षिण अफ्रीका को घर वापसी का रास्ता दिखा दिया। दक्षिण अफ्रीका को इस मुकाबले में 7 विकेट से करारी हार का सामना करना पड़ा।

लेखक: एस समद्दर

अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor