Create
Notifications

एकदिवसीय क्रिकेट में सर्वाधिक छक्के लगाने वाले 5 इंग्लिश बल्लेबाज

Rahul Pandey

पाटा पिच, तेज़ आउटफील्ड और मोटे बल्लों के चलते, एकदिवसीय क्रिकेट को हमेशा से बल्लेबाजों का खेल माना जाता है। इस प्रारूप के नियम ऐसे हैं कि गेंदों पर हमला करना आसान हो जाता है, खासकर पहले 10 और आखिरी 10 ओवरों में। इंग्लैंड हमेशा से इस प्रारूप में एक अच्छी टीम रही है और पिछले एक दशक में शक्तिशाली और लंबे छक्के मारने वाले बल्लेबाज़ दिए हैं। यहाँ हम नज़र डाल रहे उन 5 अंग्रेज बल्लेबाजों पर जिन्होंने पिछले कुछ सालों में एकदिवसीय क्रिकेट में सर्वाधिक छक्के लगाए हैं।

# 5 पॉल कॉलिंगवुड - 74 छक्के

बहुत कम लोगों ने सोचा होगा कि पॉल कॉलिंगवुड जैसा खिलाड़ी इंग्लैंड के बल्लेबाजों द्वारा मारे गये सबसे अधिक छक्कों की सूची में जगह बना पाएंगे। एक ऐसा खिलाड़ी जिसे मैदान के चारों और गेंदें टहला आराम से खेलना पसंद था, यह आश्चर्यजनक है कि उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय वनडे करियर में 74 छक्के लगाए। हालांकि, वह स्पिनरों के खिलाफ अपने पैरों का अच्छा और बहुत तेज गति से इस्तेमाल करते थे और इससे उन्हें लंबे प्रहार करने में मदद मिली। वह 2007 में न्यूजीलैंड के खिलाफ क्राइस्टचर्च में अपने सर्वश्रेष्ठ पर थे, जब उन्होंने सिर्फ 24 गेंदों में 50 रन बनाये, और उनमे 6 छक्के भी शामिल थे। उन्होंने 35.36 की औसत से 5092 रन बनाकर अपना वनडे करियर समाप्त किया।

# 4 केविन पीटरसन - 76 छक्के

दक्षिण अफ्रीकी मूल का यह खिलाडी, जिसने इंग्लैंड के लिये 134 मैच खेले थे, जब भी पूरे रंग में होता था तो वह सबसे खतरनाक खिलाड़ियों में से एक होता था। खेलते हुए उन्होंने ‘स्विच हिट’ को विकसित किया, जिसमें वह दाएं हाथ से खलते खेलते अचानक एक बाएं हाथ के बल्लेबाज की तरह खेल देते थे और पूरे मैदान में गेंदों को मारते हुए, अपनी आक्रामक शैली से गेंदबाज़ों पर चढ़ बैठते थे। हालांकि उनके नए शॉट पर एक समय विवाद हो गया, लेकिन पीटरसन ने अपने प्रदर्शन को प्रभावित नही होने दिया और 41.32 की औसत से कुल 4422 रन बनाए।

# 3 जोस बटलर - 79 छक्के

एक ऐसा बल्लेबाज जिसे नई सदी में इंग्लैंड की बल्लेबाजी में बदलाव लाने का श्रेय दिया जाता है, जोस बटलर का अब तक उनकी राष्ट्रीय टीम के साथ एक असाधारण एकदिवसीय करियर रहा है। 2016 तक, इंग्लैंड के तीन सबसे तेज एकदिवसीय शतक उनके पास थे। जो वास्तव में एक बड़ी उपलब्धि है, वो भी तब जब उस देश के किसी अन्य खिलाड़ी का शीर्ष 40 में भी नाम शामिल नहीं है। लॉन्ग ऑन के उपर से फ्लिक मारना हो या और कीपर के उपर से रैंप शॉट, ये उनकी सबसे बड़ी खोजों में से एक रहे हैं और वह बार-बार जब भी रन- रेट पहुँच से बाहर जाने लगता है और कठिन स्तर पर पहुंच जाता है, तब अपने बड़े शॉट खेलने की क्षमता के चलते टीम की वापसी कराते आये हैं। वह न्यूजीलैंड के खिलाफ अपनी पारी में एक गज़ब के फॉर्म में थे, जहां उन्होंने 5 छक्के मारने के साथ 77 गेंदों में 129 और पाकिस्तान के खिलाफ 52 गेंद में 116 रन बनाये थे जिसमें 8 छक्के शामिल थे। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ 74 गेंदों में भी 121 रन बनाए थे। इन सभी पारियों ने दुनिया के सबसे बड़े हिटरों में से एक के रूप में उनकी जगह को प्रभावी ढंग से पुख्ता कर दिया है।

# 2 एंड्रयू फ्लिंटॉफ़ - 92 छक्के

जहाँ विश्व क्रिकेट में आज भी एंड्रयू फ्लिंटॉफ की प्रतिभा को लेकर सभी की राय विभाजित है, इस बात से कोई इनकार नहीं कर सकता कि फ्रेडी ने आंकड़ों की तुलना में टीम के लिये बहुत अधिक योगदान दिया था। वह अपने देश के सबसे पसंदीदा क्रिकेटरों में से एक थे और इस बात में कोई संदेह नही कि 2000 के दशक के शुरूआती दौर में क्रिकेट की लोकप्रियता को बढ़ाने में फ्लिंटॉफ की उपस्थिति भी एक प्रमुख कारक थी। वो गेंदों पर शक्तिशाली प्रहार करने वाले एक बल्लेबाज थे, और उन्होंने 132 मैचों के अपने एकदिवसीय करियर में 92 छक्के लगाए।

# 1 इयोन मोर्गन - 133 छक्के

आयरलैंड के पूर्व खिलाड़ी इयोन मॉर्गन ने जब इंग्लैंड के लिये सीमित ओवरों के लिये खेलना शुरू किया तो वह एक अलग ही स्तर पर पहुँच गये और उनके प्रदर्शन में निरंतर बढ़ोतरी देखी गयी। वो एक ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनके पास साहसपूर्ण और अनोखे स्ट्रोक खेलने की शक्ति के साथ धैर्य भी है, वह पारी को खत्म करने वाले ऐसे खिलाड़ी साबित हुए, जिसकी इंग्लिश क्रिकेट को लंबे समय से तलाश थी। उन्होंने अपने टीम के सदस्यों को भी आक्रामक क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित किया और उसका नतीजा यह है कि इंग्लैंड की टीम आज विश्व की सबसे ज्यादा खतरनाक एकदिवसीय क्रिकेट टीमों में से एक है। 172 मैचों में 133 छक्कों के साथ, मॉर्गन ने बड़े- बड़े छक्के मारने की अपनी एक अलग पहचान बनाई है और यह देखना बहुत दिलचस्प होगा कि जब उनका करियर खत्म होता है तो वो अंततः कितने छक्के लगा पाते है। लेखक: सारा वारिस अनुवादक: राहुल पांडे

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...