Create

वनडे क्रिकेट इतिहास के अब तक के 5 बेहतरीन ऑलराउंडर

rajjak

ऑलराउंडर टॉप क्लास क्रिकेट में एक दुर्लभ प्रजाति मानी जाती है क्योंकि वास्तव में बहुत कम क्रिकेटर बल्ले और गेंद दोनों के साथ अपनी चमक बिखेर पाये हैं। हालांकि इस तरह के खिलाड़ी खेल के किसी भी प्रारूप में टीम के लिए एक संपत्ति होते हैं, लेकिन खेल की प्रकृति के कारण विशेषकर एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वह बेहद महत्वपूर्ण स्थान रखते है। एक ऑलराउंडर की उपस्थिति में एक टीम को अतिरिक्त गेंदबाज या अतिरिक्त बल्लेबाज मिल जाता है और कुल मिलाकर टीम को पूरी तरह से अलग तरह की ऊर्जा आ जाती है, क्योंकि टीम में एक ऐसा खिलाड़ी होता है जो किसी मौके पर विकेट चटका कर या रन बनाकर टीम को मुश्किल से उबार सके। पिछले कुछ वर्षों में बहुत से उच्च श्रेणी के आलराउंडर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला है और उनमें से कई अपनी टीमों की सफलता के लिए निर्णायक रहे थे। हम यहां 5 सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर खिलाड़ियों के बारे में ज़िक्र कर रहे हैं, जिन्होंने एक दिवसीय क्रिकेट में अपनी धाक जमायी है:

#5 अब्दुल रज़्ज़ाक

1999 विश्व कप के दौरान बल्लेबाजी क्रम में नंबर 3 पर आने के कारण अब्दुल रज्जाक को महान ऑलराउंडर बनने का एक सुनहरा मौका मिला, जिसे उन्होंने जाने नहीं दिया। रज्जाक के पास तेज गति नहीं थी लेकिन वह सटीक थे और गेंद को स्विंग कराने की क्षमता रखते थे। वह एक उत्कृष्ट डेथ ओवर के गेंदबाज भी थे,और इसके अलावा उनके पास दुनिया में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों का सामना करने की तकनीक थी। रज्जाक जरूरत पड़ने पर पारी को स्थिरता प्रदान करने में मदद कर सकते थे, जबकि दूसरी तरफ वह बेहद खतरनाक हिटर भी थे और उन्होंने स्लॉग ओवर्स में जबरदस्त पावर हिटिंग की बदौलत पाकिस्तान को कई मैचों में जीत हासिल करायी थी। रज्जाक ने पाकिस्तान के लिए 265 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जिस दौरान उन्होंने 6252 रन बनाए। उनका औसत 29.70 था, लेकिन यह उनकी स्ट्राइक रेट 81.25 थी जिसने उन्हें इतना खतरनाक बनाया। उन्होंने अपने शानदार करियर में 3 शतक और 23 अर्धशतक बनाए। रज्जाक के नाम 31.83 की औसत से और 4.69 की इकनॉमी रेट के साथ 269 विकेट दर्ज हैं। रज्जाक बिना किसी शक के बेहतरीन ऑलराउंडर में से एक हैं जिन्होंने एकदिवसीय क्रिकेट खेला है।

#4 शाहिद आफ़रीदी

afridi

शाहिद आफरीदी ने एक विशेषज्ञ लेग स्पिनर के रूप में अपने करियर की शुरूआत की थी लेकिन जब शाहिद ने सिर्फ 37 गेंदों में श्रीलंका के खिलाफ एकदिवसीय क्रिकेट का सबसे तेज शतक बनाया तब से वह टीम के आलराउंडर बन गए। अपने करियर के शुरुआती दिनों में आफरीदी नियमित रूप से गेंदबाजी नहीं करते थे और मुख्य रूप से एक सलामी बल्लेबाज के रूप में खेला करते थे। हालांकि बाद में अपने करियर में पाकिस्तान के लिए वह एक घातक लेग स्पिनर बनकर उभरे और समान रूप से विनाशकारी पावर हिटर बल्लेबाज बन गये। आफरीदी की बल्लेबाजी कई बार विपक्षी टीम के लिए परेशानी साबित होती थी क्योंकि वह शुरुआत से ही बड़ी हिट के लिए जाने जाते थे। यह इससे पता चलता है कि 398 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में केवल 23.57 की कम औसत उनके नाम है, लेकिन इसमें 117 की आश्चर्यजनक स्ट्राइक रेट से यह पता लगाने के लिए काफी है कि जब वह क्रीज पर होते थे तब वह कितना नुकसान पहुंचा सकते थे और आफरीदी इसी के लिए जाने भी जाते थे। आफरीदी ने अपने एकदिवसीय करियर में 6892 रन बनाये। करियर के अगले आधे भाग में उनकी तेज लेग स्पिन को खेलना बेहद मुश्किल साबित होता था और उस दौरान वह सीमित ओवरों में दुनिया के बेहतरीन स्पिनर में एक रहें। अपने एकदिवसीय करियर में आफरीदी ने 34.51 की औसत और 4.62 की इकॉनमी दर से 395 विकेट लिए।

#3 लास क्लूज़नर

lance

पूर्व दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर लांस क्लूज़नर अपने दिनों में सबसे खौफनाक निचले क्रम के बल्लेबाज़ों में से एक थे और इसका मुख्य कारण उनका दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों को भी डेथ ओवर के दौरान बेखौफ खेलने की उनकी क्षमता थी। वास्तव में उन्होंने 1994 से 2004 तक अपने आठ साल के एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय करियर में दक्षिण अफ्रीका के लिए अलग अलग नंबर पर बल्लेबाजी की थी और कुछ मौकों पर पारी की शुरुआत भी की थी। उन्होंने अपना करियर एक गेंदबाज के रूप में शुरू किया और उन शुरुआती सालों के दौरान वह एक तेज गेंदबाज थे जो गेंद को किसी भी तरह से स्विंग कर सकते थे। डेथ ओवर में क्लूसनर यॉर्कर और धीमी गति की गेंद बेहद चालाकी से डाल सकते थे। अपने करियर के आखिरी भाग में वह तेज़ तो नहीं लेकिन एक चालाक गेंदबाज बने रहे। 171 मैचों के अपने एकदिवसीय करियर में, क्लूज़नर ने 192 विकेट 4.70 की इकोनोमी रेट पर हासिल किया। 1990 विश्व कप में क्लूसनर के कारनामे अभी भी भय के साथ याद किये जाते है और उन्हें सही तौर पर मैन ऑफ द टूर्नामेंट के लिए नवाजा गया था। एक बल्लेबाज के रूप में क्लूज़नर ने 41.10 के उत्कृष्ट औसत से रन बनाए, जिनमें उनकी 89.91 की शानदार स्ट्राइक रेट रही। जब वह क्रीज पर होते थे तो कोई भी रन रेट साउथ अफ्रीका की पहुंच से बाहर नहीं हो सकता था।

#2 सनथ जयसूर्या

jayasurya

वह सबसे महान एकदिवसीय बल्लेबाज में हैं जो श्रीलंका के लिए खेले हैं और निश्चित रूप से एकदिवसीय क्रिकेट के इतिहास में सबसे महान बल्लेबाजों में से एक हैं। हालांकि, जो बात अक्सर भूला दी जाती है वह ये है कि श्रीलंका के महान पूर्व खिलाड़ी सनथ जयसूर्या वास्तव में एक ऑलराउंडर हैं, जो अपने करियर के लिए नियमित रूप से बाएं हाथ के तेज स्पिनर की भूमिका निभायी और वास्तव में अपने 22 साल (1989-2011) के लंबे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय करियर में 445 मैच में 323 विकेट अपने नाम किए। एक बल्लेबाज के तौर पर, वह सबसे ज्यादा खतरनाक सलामी बल्लेबाजों में से एक थे और जब क्षेत्ररक्षण प्रतिबंध लागू होते तब वह शुरुआती ओवरों के दौरान गेंदबाजों को पूरी तरह से तहस नहस करने के लिए जाने जाते थे। उन्होंने श्रीलंका के लिए 13,430 रन बनाए और 32.36 की औसत के साथ, लेकिन 91.20 की स्ट्राइक रेट यह सबूत है कि वह एक बेहद विनाशाकारी खिलाड़ी थे, उन्होंने अपने करियर में 28 शतक और 68 अर्धशतक भी बनाए। जयसूर्या की गेंदबाजी के आगे तेजी से रन बनाना बहुत मुश्किल होता था। वह चतुर थे, बेहद सटीक थे और अगर पिच पर कोई टर्न नहीं हुआ तो बहुत तेज गति से गेंदबाजी करते थे। ऐसा भी समय था जब उन्होंने डेथ ओवरों के दौरान श्रीलंका के लिए गेंदबाजी की और 4.78 की इकॉनमी दर एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय गेंदबाज के रूप में उनकी मैच बदलने की क्षमता का एक प्रमाण था।

#1 जैक्स कैलिस

kallis

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व महान खिलाड़ी जैक्स कैलिस संभवत: सबसे महान ऑलराउंडर हैं जिन्होंने सर गारफील्ड सोबर्स के बाद खेला है और अपने 18 साल के एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय करियर में वह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर हैं। जल्दी बॉल करने की क्षमता के कारण उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के लिए कई बार गेंदबाजी की शुरुआत की और वनडे खेल के शुरुआती ओवर में बुद्धिमानी के साथ रनों को रोकने की क्षमता थी। दक्षिण अफ्रीका की तरफ से खेले गये 328 मैच में कैलिस ने 273 विकेट लिए जो कि 4.84 की इकॉनोमी रेट और 31.79 के औसत के साथ थे।। दक्षिण अफ्रीका की बल्लेबाजी लाइन अप में भी कैलिस समान रुप से उतने बड़े नाम थे और अपने करियर के अधिकांश समय में उन्होंने शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी की थी। उनकी तकनीक, स्ट्रोक बनाने की क्षमता और मैच की स्थिति को पढ़ने की योग्यता पूरी तरह से उन्हें महान बल्लेबाज बनाती थी। कैलिस ने 44.36 औसत के साथ अपने एक दिवसीय करियर में 11579 रन बनाए और करीब डेढ़ दशक तक टीम की बल्लेबाजी की रीढ़ बने रहे। संभवत: उनसे अच्छा ऑलराउंडर नहीं होगा। लेखक- सोहम अनुवादक- सौम्या तिवारी

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment