Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

युवराज सिंह के आईसीसी टूर्नामेंटों में टॉप 5 शानदार प्रदर्शन

Rahul Pandey
ANALYST
Modified 13 Sep 2017
Advertisement

गेंद के सबसे अच्छे हिटरों में युवराज ऐसे खिलाड़ियों में से एक है जो अपनी बल्लेबाजी या गेंदबाज़ी, कभी-कभी दोनों के साथ टूर्नामेंट को चमका देते हैं। जब युवराज ने जूनियर और अंडर -19 क्रिकेट में अपनी पहचान बनाने की शुरुआत की, तो सभी का मानना था कि भविष्य के एक स्टार बल्लेबाज आए हैं। आईसीसी नॉकऑट टूर्नामेंट में अपना पहला प्रदर्शन करने के बाद उन्होंने रह रहकर वो प्रदर्शन करके दिखाया भी जिसकी उनसे उम्मीद की गयी थी।

जब भारतीय क्रिकेट में बदलाव का दौर चला था तब अपनी बल्लेबाजी के अलावा, मैदान पर चुस्त फील्डिंग और बाये हाथ की स्पिन ने उन्हें एक महत्वपूर्ण एकदिवसीय खिलाड़ी बनाया। भारत के महानतम सीमित ओवरों के बल्लेबाजों में से एक होने के अलावा, युवराज को अपने प्रदर्शन को हमेशा बड़े अवसरों पर और भी ज्यादा उच्च स्तर तक ले जाने की आदत थी।

आईये एक नज़र डालते हैं आईसीसी के आयोजनों में इस 'पंजाबी तूफान' के  सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनों में से कुछ पर:

#84 बनाम ऑस्ट्रेलिया, आईसीसी नॉकआउट ट्राफी 2000

Advertisement

टूर्नामेंट में केन्या के खिलाफ आगाज़ करने के बाद युवराज को बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला। अगला मौका उन्हें क्वार्टरफाइनल में बड़े प्रतिदवंद्वी ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ मिला था। भारत ने तेज़ शुरुआत भी की और सचिन ने ग्लेन मैक्ग्रा एक ओवर में 2 छक्के लगाते हुए ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी का सामना किया। मगर जल्द ही 'बिग थ्री' की विदाई के बाद भारत 90/3 पर रेंगने लगा, तब युवराज ने मैदान पर आते ही अपना दम दिखाया। उन्होंने ग्लेन मैकग्रा, जेसन गिलेस्पी और ब्रेट ली जैसे गेंदबाजों से सजे आस्ट्रेलियाई आक्रमण पर आक्रमण करते हुए 84 रनों की पारी खेली।

उनकी पारी तेज़ ड्राइव और साहसी पुल शॉट्स से सजी थी। युवराज को अन्य बल्लेबाजों से थोड़ा ही साथ  मिला, लेकिन अकेले भारत को 265 के एक सम्मानजनक स्कोर तक ले गये। उन्होंने अपनी शानदार पारी के साथ ही माइकल बेवन को शानदार रन आउट किया जिसके लिये उन्हें मैन ऑफ़ द मैच अवॉर्ड भी मिला।

1 / 5 NEXT
Published 13 Sep 2017, 10:13 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now