ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों पर बेरोजगार होने का खतरा मंडराया

ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष 200 से अधिक क्रिकेटरों पर बेरोजगार होने का खतरा मंडराने लगा है। यूनियन के बॉस ग्रेग डायर ने कहा कि शुक्रवार को तय समयसीमा (डेडलाइन) पर खिलाड़ियों का वेतन विवाद सुलझना मुश्किल नजर आ रहा है। ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष क्रिकेटरों को तगड़ा झटका सहना पड़ सकता है अगर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और ऑस्ट्रेलियन क्रिकेटर्स एसोसिएशन (एसीए) के बीच नया एमओयू नई हुआ तो, बता दें कि मौजूदा समझौता 30 जून को समाप्त हो रहा है। एसीए अध्यक्ष डायर ने कहा कि खिलाड़ियों और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के बीच बेसिक मामलों के कारण काफी दूरी बढ़ रही है और यूनियन अपने सदस्यों को बेरोजगारी के लिए तैयार कर रहा है। डायर ने स्थानीय मीडिया से मंगलवार को कहा, '1 जुलाई से मुमकिन है कि सब एकसाथ चट्टान पर कूदेंगे। समझौते की बुनियादी बातें सुलझते हुए नहीं दिख रही है। 200 से अधिक ऑस्ट्रेलिया के सबसे सीनियर क्रिकेटर्स 1 जुलाई से बेरोजगार हो सकते हैं। हम हर संभावना को ध्यान में रखते हुए मदद करने की कोशिश कर सकते हैं, लेकिन वो बेरोजगार होंगे।' विवाद का मुख्य मुद्दा लंबे समय से अटका समझौता है, जिसमें खिलाड़ियों को खेल के रेवेन्यू का फिक्स परसेंटेज मिलना था। इस डील में सीए (क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया) कहता है कि ग्रासरूट लेवल पर पर्याप्त निवेश से उन्हें रोकता है। सीए ने शुक्रवार को रिवाइज्ड डील प्रस्ताव में रखी, लेकिन यूनियन ने तुरंत इसे ख़ारिज किया। जब तक ये गतिरोध समाप्त नहीं हो जाता तब तक आगामी ऑस्ट्रेलिया ए का दक्षिण अफ्रीका दौरा, बांग्लादेश में दो टेस्ट की सीरीज, भारत में सीमित ओवरों की सीरीज भी खतरे में हैं। एशेज भी साल के अंत में होना है और संकट के बादल उस पर भी मंडरा रहे हैं। सीए ने मोलभाव पर टिपण्णी से इंकार किया, लेकिन कहा कि पिछले सप्ताह रिवाइज्ड प्रस्ताव की घोषणा '100 प्रतिशत समर्पित' थी ताकि समयसीमा पर एमओयू सुलझ जाए। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट ओपनर एड कावन ने कहा, 'खिलाड़ी एकजुट हैं और अपनी मांगो का जवाब चाहते हैं।' उन्होंने संदेह जताया कि स्टीव स्मिथ के नेतृत्व वाली टीम 27 अगस्त से शुरू हो रही टेस्ट सीरीज के लिए बांग्लादेश रवाना होगी या नहीं।

Edited by Staff Editor