एकदिवसीय क्रिकेट में दो नई गेंद की वजह से गेंदबाजों को रिवर्स स्विंग कराने में नहीं मिलती मदद: विराट कोहली

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने माना है कि वन-डे क्रिकेट में 2 नई गेंद की वजह से गेंदबाजों के पास आक्रमण की कोई गुंजाइश नहीं बचती है। उन्होंने कहा कि इससे रिवर्स स्विंग करने में कोई मदद नहीं मिलती है। टीम इंडिया के आयरलैंड और इंग्लैंड दौरे पर रवाना होने से पहले हुई प्रेस वार्ता में कोहली ने यह बातें कही है। इससे पहले सचिन तेंदुलकर ने कहा था कि 2 नई गेंद होने की वजह से रिवर्स स्विंग नहीं होती क्योंकि गेंद को पुराना होने का समय ही नहीं मिलता। सचिन की बात का समर्थन एक तरह से भारतीय कप्तान ने किया है। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वकार यूनिस ने भी तेंदुलकर की बात का समर्थन करते हुए कहा कि आजकल रिवर्स स्विंग समाप्त हो गई और और यह एक पारी में 2 नई गेंद इस्तेमाल करने के वजह से हुआ है। 29 वर्षीय भारतीय कप्तान ने कहा कि जब मैंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना शुरू किया था तब एक ही गेंद से खेल होता था जो बाद में रिवर्स स्विंग होती थी। आजकल गेंदबाज के पास कुछ नहीं होता और वह आक्रमण के बारे में सोच भी नहीं मिलता क्योंकि गेंद नई रहती है ऐसे में रिवर्स स्विंग का अवसर नहीं होता। आगे उन्होंने कहा कि समतल पिचों पर जब तक आपके पास रिस्ट स्पिनर नहीं हैं तब तक बीच के ओवरों का काम आसान नहीं होता, कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को मददगार पिचें नहीं मिलेगी लेकिन उनकी कलाई का कौशल इसमें काम आएगा। मैदान पर उतरने को लेकर भारतीय कप्तान ने कहा कि मैं 100 फीसदी तैयार हूँ और उत्तेजित भी हूं। उल्लेखनीय है कि भारतीय टीम को इंग्लैंड दौरे से पहले आयरलैंड में 2 टी20 मैचों की सीरीज खेलनी है। पहला मुकाबला 27 जून को द विलिज डब्लिन में खेला जाएगा। दूसरा मुकाबला भी इसी मैदान पर 29 जून को खेला जाएगा। इसके बाद टीम का इंग्लैंड दौरा शुरू होगा।

Edited by Staff Editor