Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

आखिर क्यों लसिथ मलिंगा मंद पड़ गये हैं?

Modified 27 Aug 2017, 14:24 IST
Advertisement
लसिथ मलिंगा अपने गैरपरम्परागत एक्शन, पैरों के बीच से मिडिल स्टंप को उड़ाती हुई यॉर्कर से विश्व क्रिकेट में बल्लेबाजों के होश उड़ाने के लिए जाने जाते हैं। उनके गेंदबाज़ी एक्शन से तालमेल बिठाना आसान नहीं होता है। श्रीलंका के इस खतरनाक गेंदबाज़ ने साल 2011 से 2015 के दरम्यान 113 पारियों में 183 विकेट अपने नाम किये थे। वह उस समय नंबर एक गेंदबाज़ थे, जबकि दूसरे नंबर पर सईद अजमल 140 विकेट के साथ बहुत ही पीछे थे। मलिंगा डेथ ओवर में बल्लेबाजों को रनों के लिए तरसा देते थे। हालाँकि साल 2016 में चोटों की वजह से उन्हें क्रिकेट से दूर रहना पड़ा। जिसकी वजह से उनकी रफ्तार तो मंद हुई ही है, साथ ही अब उतने प्रभावी भी नहीं रहे।  2017 में नौ मैचों में उन्हें सिर्फ सात विकेट मिले हैं। उनकी धार कुंद हुई है, जिससे बल्लेबाज़ अब उनसे डरते नहीं हैं, जो मलिंगा के खेल में गिरावट का संकेत है: बार-बार चोटिल होना यूं तो क्रिकेट में तेज गेंदबाजों का चोटिल होना आम बात है, जिसकी वजह साफ़ है कि एक गेंदबाज़ को सयंमित होकर एक ही एक्शन में दौड़ते हुए गेंदबाज़ी करनी होती है। जिससे शरीर इस प्रोसेस में ढल जाता है। जिसकी वजह से गेंदबाज़ का चोटिल होना आम हो जाता है। वहीं अगर गेंदबाज़ का एक्शन गैरपरम्परागत है, तो उसके लिए दिक्कतें और बढ़ जाती हैं। मलिंगा ने इन्हीं दिक्कतों से बचने के लिए टेस्ट को जल्द ही अलविदा कह दिया था। साल 2016 में मलिंगा को चोट लगी और उनकी लय बिगड़ गयी, साथ ही चोटिल होने के बावजूद वह खुद की काबिलियत इजाफा नहीं कर सकते हैं। कुल मिलाकर मलिंगा के करियर में उतार का ये सबसे बड़ा कारण रहा।
1 / 5 NEXT
Published 27 Aug 2017, 14:24 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit