Create
Notifications

इस वजह से बुमराह को कई बीमर्स फेंकने के बावजूद गेंदबाजी करने से नहीं रोका गया

ANALYST
Modified 21 Sep 2018
भारतीय गेंदबाजों की रविवार को पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में जमकर धुनाई हुई, लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ हुए पहले वन-डे में एक गजब का वाकया घटा। जसप्रीत बुमराह का गेंद से प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा और उन्होंने पारी के दौरान कई बीमर्स (कमर के ऊपर फुलटॉस गेंद) डाली। हालांकि मैदानी अंपायरों को एक बार भी उन्हें गेंदबाजी आक्रमण से हटाने की जरुरत नहीं महसूस हुई। मेहमान बल्लेबाजों के अपील करने के बावजूद अंपायरों ने बुमराह को गेंदबाजी जारी रखने दी। नियमों के मुताबिक, एक गेंदबाज को तभी आक्रमण से हटाया जा सकता है जब वह दो से अधिक बीमर्स डाले। तो फिर 23 वर्षीय गेंदबाज को तो गेंदबाजी करने से रोक दिया जाना चाहिए था? अब आप नियम पर गौर कीजिए और जानिए कि कौनसे दिशा-निर्देशों के चलते बुमराह सुरक्षित रहे और गेंदबाजी कर सके। याद हो कि बुमराह ने पारी के 12वें ओवर में फुलटॉस गेंद डाली थी जब ओपनर जेसन रॉय स्ट्राइक पर थे। गेंद सीधी अपने शरीर पर आते देखने के बावजूद रॉय किसी तरह गेंद से बल्ले का संपर्क बनाने में कामयाब रहे। हालांकि, इसे नो बॉल करार नहीं दिया गया। इसके बाद तेज गेंदबाज ने अंतिम ओवरों में कई बीमर्स डाली। बुमराह ने बेन स्टोक्स को 42वें, 44वें और 46वें ओवर में कमर से ऊपर फुलटॉस गेंद डाली। तीनों ही गेंदे नो बॉल दी गई, जिस पर बल्लेबाजी टीम को फ्री हिट मिली। इस दौरान इंग्लिश ऑलराउंडर ने अंपायर कुमार धर्मसेना के सामने बुमराह को गेंदबाजी आक्रमण से हटाने की अपनी मंशा भी जाहिर की। मगर गेंदबाज को गेंदबाजी जारी रखने दी गई। खेल के कानून 42।6 (बी) के मुताबिक, 'धीमी गति के अलावा कोई भी गेंद कमर के ऊपर की उंचाई पर डाली जाए उसे खतरनाक माना जाता है, फिर भले ही उससे क्रीज पर मौजूद खिलाड़ी को शारीरिक चोट पहुंचे या नहीं।' कानून 42।7 (सी) बताता है, 'एक पारी में गेंदबाज इसी गलती को दोहराता है, तो अंपायर नो बॉल दे सकता है और कप्तान को निर्देश देकर गेंदबाज को तुरंत गेंदबाजी आक्रमण से हटा सकता है। अंपायर को दूसरे अंपायर को गेंदबाज को हटाने की वजह बताना होगी। जो गेंदबाज निलंबित होता है, उसे पारी में दोबारा गेंदबाजी करने की इजाजत नहीं मिलती।' नियम में स्पष्ट है कि गेंदबाज जब बीमर डालने की गलती करे तो अंपायर को फैसला लेना होता है। मगर मैदान पर मौजूदा अंपायर धर्मसेना को नहीं लगा कि बुमराह द्वारा डाली बीमर बल्लेबाज के लिए खतरा साबित हो रही है और इसी के चलते उन्हें गेंदबाजी जारी रखने दी गई।
Published 16 Jan 2017
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now