Create

Cricket World Cup 2019: भारत को इस खिलाड़ी का चयन करना पड़ सकता है महंगा

विजय शंकर को केवल 9 एकदिवसीय मैचों का अनुभव प्राप्त है
विजय शंकर को केवल 9 एकदिवसीय मैचों का अनुभव प्राप्त है

क्रिकेट जगत के सबसे बड़े आयोजन में अब बस कुछ घंटे बाकी हैं। गुरुवार को इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले जाने वाले पहले मैच के साथ ही आईसीसी विश्व कप के 12वें संस्करण का आगाज़ हो जाएगा।टूर्नामेंट का फाइनल मैच क्रिकेट के मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स के मैदान में खेला जाएगा।

विश्व कप की शुरआत से पहले, चर्चा का सबसे बड़ा विषय रहा उन 15 खिलाडियों की नियुक्ति जो क्रिकेट के इस सबसे बड़े महाकुम्भ में अपने-अपने देश का प्रतिनिधितव करेंगे।

टीम की घोषणा करने का आखिरी दिन 23 मई था और सभी देशों ने अपनी अपनी टीम की घोषणा अंतरिम तौर पर कर दी थी। हालांकि कई देशो ने नियुक्त किए गए दलो में कुछ बदलाव करना ठीक समझा।

जहां इंग्लैंड ने डेविड विली और जो डेनली की जगह जोफ्रा आर्चर और लियाम डॉसन को टीम में शामिल किया, वहीं पाकिस्तान ने अपनी टीम में 3 बदलाव करते हुए फहीम अशरफ, आबिद अली और जुनैद खान की जगह आसिफ अली, मोहम्मद आमिर और वहाब रियाज़ को शामिल किया। लेकिन भारत की तरफ से इस प्रकार की कोई पहल देखने को नहीं मिली क्योंकि माना जा रहा था कि कप्तान विराट कोहली और सेलेक्टर्स चुनी गयी टीम से बेहद खुश थे।

जब टीम की घोषणा की गयी थी तो दो खिलाड़ियों के नामो पर बड़ी बहस छिड़ी थी। काफी खेल विशेषज्ञों का यह मानना था कि विजय शंकर और दिनेश कार्तिक की जगह टीम में अम्बाती रायडू और ऋषभ पंत को शामिल किया जाना चाहिए था।

शंकर जिन्होंने अभी तक अपने एकदिवसीय करियर में बस 9 मैच खेले हैं, उनके पास अनुभव की कमी है। अभी तक खेले गए मैचों में उन्होंने बल्ले के साथ 33 की औसत से रन बनाये हैं और गेंद के साथ बस दो विकेट लिए हैं। यही कारण है की उनकी उच्च स्तर पर प्रदर्शन करने की क्षमता को लेकर कई सवाल भी खड़े किए गए थे। विश्व कप से पहले खेले गए आईपीएल में भी उनका प्रदर्शन उच्च कोटि का नहीं रहा था और वो मिले गए मौको को भुना नहीं पाए थे।

चयनकर्ताओं का ऐसा मानना है की शंकर के पास क्रिकेट के तीनो विभागों में अच्छा प्रदर्शन कर पाने की योग्यता है और इसी को ध्यान में रखते हुए विश्व कप क लिए उनका चयन किया गया है। वो एक अच्छे फील्डर हैं और तकनीकी रूप से सक्षम बल्लेबाज़ हैं।

अब इस 28 वर्षीय खिलाड़ी के ऊपर दारोमदार है कि वो चयनकर्ताओं और भारतीय थिंक टैंक के द्वारा दिखाए गए विश्वास को सही ठहराए क्योंकि ये एक ऐसा चयन है जो प्रदर्शन से ज़्यादा भरोसे के ऊपर किया गया है।अगर दिनेश कार्तिक की बात करें तो उनका भी प्रदर्शन आईपीएल में बहुत अच्छा नहीं रहा, पर उनका अनुभव शंकर के मुकाबले कहीं ज्यादा है और उन्होंने भारत क लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खुद को साबित भी किया है। हालांकि उनके लिए भी विश्व कप में लगातार रन बनाना महत्त्वपूर्ण होगा ताकि आलोचकों को उनके चयन पर सवाल उठाने का मौका न मिले।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं।

Quick Links

Edited by Naveen Sharma
Be the first one to comment