युवराज सिंह के रणजी ट्रॉफी में नहीं खेलने पर उठे सवाल

Rahul

भारतीय टीम के दिग्गज बल्लेबाज युवराज सिंह फ़िलहाल अपनी फिटनेस को लेकर राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी, बैंगलोर में मेहनत करते नजर आ रहे हैं। एनसीए में अपनी फिटनेस को लेकर उन्होंने रणजी ट्रॉफी के 5 मैचों में मात्र एक मैच खेला है। उनके इस प्रकार के रवैये और बिना किसी चोट के एनसीए में ट्रेनिंग करने को लेकर बीसीसीआई के अधिकारी ने इस फैसले पर सवाल उठाए हैं। युवराज सिंह रणजी ट्रॉफी के मैचों को छोड़कर एनसीए में यो यो टेस्ट को पास करने के लिए ट्रेनिंग कर रहे हैं। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने एक निजी न्यूज़ एजेंसी से कहा कि अगर युवराज 16.1 अंक लेकर यो यो टेस्ट पास करने में कामयाब हो जाते हैं और बिना किसी मौजूदा प्रदर्शन के कारण उनका चयन क्या श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में तय माना जाएगा ? रणजी ट्रॉफी से दूर रह कर वह यो यो टेस्ट को ज्यादा महत्व दे रहे हैं, जबकि रणजी में खेलना ज्यादा जरुरी होता है। ख़बरों के मुताबिक युवराज सिंह ने पंजाब टीम से इजाजत लेकर भारतीय टीम में वापसी करने के लिए अपनी फिटनेस को लेकर एनसीए का रुख किया जबकि चयनकर्ता रणजी के प्रदर्शन पर ज्यादा ध्यान देना पसंद करते हैं। हाल ही में भारतीय टीम के सदस्य इशांत शर्मा को श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्ट में जगह नहीं मिली, तो उन्हें रणजी ट्रॉफी में खेलने के लिए रिलीज़ कर दिया गया था। यह सभी सवाल युवराज सिंह के खिलाफ जाते हैं, यो यो टेस्ट को पास करने से ज्यादा रणजी ट्रॉफी में प्रदर्शन करना अहम होता है लेकिन युवी इसके विपरीत नजर आ रहे हैं। इस साल हुए युवराज सिंह के यो यो टेस्ट में फेल होने की खबरें लगातार सामने आ रही हैं, इसलिए भारतीय टीम के लिए उनका चयन नहीं हो पाया। श्रीलंका के खिलाफ होने वाली वनडे सीरीज से पहले युवराज सिंह यो यो टेस्ट में सफल होकर भारतीय टीम में वापसी करना चाहते हैं। भारत के लिए वापसी करने के साथ ही वह आईपीएल में अपनी मौजूदगी दर्ज कराते हुए नजर आ सकते हैं। अब आगे देखना यह दिलचस्प रहेगा कि वह सिर्फ यो यो टेस्ट पास करके भारतीय टीम में वापस नजर आयेंगे या नहीं ?

Edited by Staff Editor